खोज

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस एवं अल अजहर के ग्रैंड इमाम एल-तायेब संत पापा फ्राँसिस एवं अल अजहर के ग्रैंड इमाम एल-तायेब   (ANSA)

मानव भाईचारा के लिए 2021 जायद अवार्ड हेतु नामांकन

मानव भाईचारा की उच्च समिति ने "विनम्रता, मानवतावाद और सम्मान के मूल्यों" को अपनाने वाले व्यक्तियों को सम्मानित करने हेतु खोज शुरू की है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 20 अक्तूबर 2020 (रेई)- मानव भाईचारा के लिए गठित उच्च समिति ने सोमवार को इस बात की घोषणा की कि मानव भाईचारा के लिए 2021 जायद पुरस्कार हेतु नामांकन करने के लिए विशेषज्ञों की एक समिति बनाई गई है।

मानव भाईचारा के लिए जायद पुरस्कार

संत पापा फ्राँसिस एवं अल अजहर के ग्रैंड इमाम एल-तायेब पहले व्यक्ति हैं जिन्हें 2019 में इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। शेईख अबदुल्लाह बिन जायद अल नाहयान ने घोषित किया है कि मानव भाईचारा के लिए जायद पुरस्कार एक वार्षिक समारोह बन गया, जब अबुधाबी में मानव भाईचारा पर दस्तावेज में हस्ताक्षर की पहली यादगारी मनायी गई।

भले उदाहरण की खोज को संत पापा का प्रोत्साहन

एक वीडियो संदेश में संत पापा फ्राँसिस ने कहा था कि वे अंतराष्ट्रीय मानव भाईचारा पुरस्कार जगत को प्रस्तुत करने हेतु उपस्थित होने में खुशी महसूस करेंगे, उन पुरुषों और महिलाओं के सभी भले उदाहरणों को प्रोत्साहित करने की उम्मीद में, जो इस दुनिया में दूसरों की भलाई के कार्यों और बलिदानों के माध्यम से प्यार करते हैं, भले ही वे धर्म या जातीय और सांस्कृतिक संबद्धता में कितने ही भिन्न क्यों न हों। मैं सर्वशक्तिमान ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि इसके हर प्रयास को आशीष प्रदान करें जो भला इंसान बनने एवं भाईचारा में आगे बढ़ने में मदद देगा।

पुरस्कार लोगों को सफल बनाने की कोशिश करता है

उच्च समिति द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि पुरस्कार की शुरूआत 2019 में की गई थी ताकि "सफलताओं और मानव प्रगति को प्रोत्साहित करनेवाले व्यक्तियों या संस्थाओं के उत्कृष्ट कार्यों को पहचाना जा सके"।

पुरस्कार शेईख जायद बिन सुलतान अल नहयान की धरोहर की याद दिलाता है। वे संयुक्त अरब अमीरात के संस्थापक एवं आबूधाबी के पूर्व प्रशासक दोनों रहे हैं। विनम्रता, मानवतावादी और सम्मान के मूल्यों के साथ जिस आदर्श को मनाने की कोशिश की जा रही है,  वे उसके प्रतीक हैं।

न्यायाधीश मोहम्मद अब्दुस्सलाम ने मानव भाईचारे की उच्च समिति के महासचिव ने इस कारण का वर्णन किया कि इस पुरस्कार का नाम इस व्यक्ति के नाम पर क्यों रखा गया। उन्होंने कहा कि शेख की “यात्रा ने सहकारिता और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के मूल्यों को मूर्त रूप दिया।

नामांकन मानदंड

यह पहला वर्ष है, जब मानव भाईचारा हेतु जायद अवार्ड नामांकन खुला है, जिसमें सरकार, संयुक्त राष्ट्र और अंतर्राष्ट्रीय एनजीओ के नेताओं, सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों, शिक्षा जगत और संस्कृति की प्रमुख हस्तियों और उच्च समिति के सदस्यों का स्वागत किया है।

उच्च समिति द्वारा नियुक्त "विशेषज्ञों की एक स्वतंत्र समिति" प्रत्याशियों में से 2021 पुरस्कार विजेता का चयन करेगी। 1 दिसंबर को प्रत्याशियों को जमा करने की अंतिम तिथि है और 4 फरवरी, 2021 वह तारीख है जिस दिन विजेता या विजेताओं की घोषणा की जाएगी और $ 1 मिलियन की राशि पुरस्कार के रूप में प्रदान की जाएगी।

चयन समिति

मध्य अफ्रीकी गणराज्य की पूर्व राष्ट्रपति कैथरीन सांबा-पंज़ा, इंडोनेशिया के पूर्व उपराष्ट्रपति मुहम्मद जुसुफ कल्ला, कनाडा के 27 वें गवर्नर-जनरल और कमांडर-इन-चीफ माइकल जीन, वाटिकन के सुप्रीम अदालत में सेवारत कार्डिनल डोमिनिक मैम्बरटी और नरसंहार की रोकथाम पर संयुक्त राष्ट्र के पूर्व विशेष सलाहकार अडामा डेंग, मानव भाईचारा के लिए 2021 जायद अवार्ड समिति के विशेषज्ञ हैं।

विशेषज्ञों की समिति में अपनी नियुक्ति के बारे में, एडामा डेंग ने कहा: “हम मानव भाईचारे के लिए 2021 जायद अवार्ड हेतु नामांकन आमंत्रित करने के लिए खुश हैं। यह पुरस्कार दुनिया भर के लोगों को पहचानने का एक अवसर है जो लोगों को एक साथ लाने और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व को बढ़ावा देनेवाले प्रयासों के लिए गहराई से प्रतिबद्ध हैं। समिति दुनिया में कहीं भी ऐसे लोगों या संस्थाओं पर विचार करेगी, जो वास्तविक और सकारात्मक बदलाव देने के लिए निःस्वार्थ और अथक रूप से सहयोग कर रहे हैं।”

उच्च समिति

मानव भाईचारा के लिए उच्च समिति का गठन संयुक्त अरब अमीरात में अगस्त 2019 को किया गया है। इस समिति को "मानव भाईचारे के वैश्विक घोषणा के उद्देश्यों को सुनिश्चित करने के लिए एक रूपरेखा विकसित करने का काम सौंपा गया था।

यह दस्तावेज़ को कार्यान्वित करने के लिए आवश्यक योजनाएँ भी तैयार करेगा, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तरों पर इसके कार्यान्वयन का पालन करेगा, और इस ऐतिहासिक दस्तावेज़ के पीछे विचार का समर्थन और प्रसार करने के लिए धार्मिक नेताओं, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के प्रमुखों और अन्य लोगों के साथ बैठकें करेगा।”

20 October 2020, 15:37