खोज

रूसी-बेलारूस सुरक्षाबल रूसी-बेलारूस सुरक्षाबल  (AFP or licensors)

यूक्रेन में आक्रमण की धमकी के बीच प्राधिधर्माध्यक्ष की शांति हेतु अपील

दुनिया के नेताओं के बीच उच्च स्तर पर फोन कॉल एवं बैठकों की घबराहट के बीच, कुस्तुनतुनिया के प्राधिधर्माध्यक्ष बर्थोलोमियो प्रथम ने यूक्रेन में शांति की अपील दोहरायी, जब हथियारों से लैस रूसी फौज अपने पड़ोसी देश को चारों ओर से घेर रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

ऑर्थोडॉक्स प्राधिधर्माध्यक्ष बर्थोलोमियो ने दुनिया के कई नेताओं के साथ अपनी आवाज ऊँची करते हुए यूक्रेन में शांति की रक्षा करने का आह्वान किया है।

रविवार को धर्मविधि समारोह के दौरान, प्राधिधर्माध्यक्ष ने लोगों को प्रोत्साहन दिया कि वे शांति के लिए जोर-शोर से प्रार्थना करें। उन्होंने "यूरोप में नये युद्ध" का कड़ा विरोध किया है। 

प्राधिधर्माध्यक्ष ने याद किया कि शांति एक चुनाव है जिसको संकट में पड़े सभी लोगों के लिए दिया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा, "रूस और यूक्रेन के बीच की सीमाओं के हिंसक बयानबाजी और सैन्यीकरण के परिणामस्वरूप यूरोप में एक नए युद्ध की संभावना का स्पष्ट रूप से विरोध किया जाना चाहिए। हम क्षेत्र में स्थायी शांति, स्थिरता एवं न्याय की मांग करते हैं।"

संवाद ˸ शांति का रास्ता

कुस्तुनतुनिया के प्राधिधर्माध्यक्ष ने कहा, "युद्ध केवल उन लोगों के लिए मोहक प्रतीत होता है जिन्होंने इसके दुखद परिणाम को नहीं झेला है।"

उन्होंने कहा कि शांति की ओर बढ़ने के लिए संवाद ही एकमात्र रास्ता है, क्योंकि यह उन शर्तों को तोड़ देता है जो हिंसा और युद्ध की ओर ले जाते हैं।

"हम सभी दलों का आह्वान करते हैं कि वे वार्ता एवं अंतरराष्ट्रीय कानून के रास्ते पर चलें ताकि संघर्ष का अंत हो सके एवं सभी यूक्रेनवासी सौहार्द में जी सकें। हथियार समाधान नहीं है।"

उन्होंने कहा कि मौन और उदासीनता विकल्प नहीं हैं। उन्होंने सभी दलों से आग्रह किया कि वे जागरूक रहें और शांति के लिए प्रयासरत रहें।

राजनयिक गतिविधियों से घबराहट

रूस ने यूक्रेन की सीमा पर करीब 100,000 से अधिक सैनिकों को तैनात कर रखा है तथा कई बटालियन बेलारूस में सैन्य अभ्यास कर रहे हैं। यूक्रेन के उत्तर, दक्षिण और पूर्व में बड़ी संख्या में सैनिकों को तैनात किया गया है, यहां तक कि वे राजधानी कीव के काफी भी करीब में हैं।

पिछले दिनों रूस एवं यूरोप के विभिन्न नेताओं के साथ फोन पर एवं आमने-सामने बातें हुईं।

जर्मनी के चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ ने अपने यूक्रेनी समकक्ष के साथ बातचीत हेतु सोमवार को कीव के लिए उड़ान भरी, और उनकी उम्मीद है कि मंगलवार को मास्को में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से उनकी मुलाकात होगी।

जल्द ही आक्रमण की संभावना

अमरीकी राष्ट्रपति जो बाईडन ने शनिवार को फोन पर बातें कीं। रविवार को अमरीकी अधिकारी ने चेतावनी दी कि रूस अब किसी भी दिन यूक्रेन पर हमला कर सकता है, यह दावा करते हुए कि रूस आक्रमण के बहाने अपनी सेना पर झूठा हमला कर सकता है।

इधर यूक्रेन ने 48 घंटे के भीतर रूसी नेताओं के साथ तत्काल बैठक का अनुरोध करने का अतिरिक्त कदम उठाया। यूक्रेन के विदेशमंत्री को रूसी फौज तैनात किये जाने की औपचारिक स्पष्टीकरण दी जाने की उम्मीद है। 

रूस ने अपने पड़ोसी देश पर हमला करने की किसी भी योजना से लगातार इंकार किया है।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

15 February 2022, 15:34