खोज

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन   (AFP or licensors)

'अमेरिकियों को तुरंत यूक्रेन छोड़ देना चाहिए,' राष्ट्रपति बाइडेन

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूसी सैन्य कार्रवाई के बढ़ते खतरों का हवाला देते हुए यूक्रेन में शेष सभी अमेरिकी नागरिकों से तुरंत देश छोड़ने का आग्रह किया है। विवादास्पद टिप्पणियों में, उन्होंने यूक्रेन नहीं छोड़ने वाले अमेरिकियों को यह भी चेतावनी दी कि वाशिंगटन उन्हें बचाने के लिए सेना नहीं भेजेगा।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाशिंगटन, शनिवार, 12 फरवरी 2022 (वाटिकन न्यूज) : यूक्रेन के पास बड़े पैमाने पर रूसी सैन्य कार्रवाई की चिंताओं के बीच ब्रिटेन के रक्षा सचिव ने शुक्रवार को मास्को का दौरा करने से कुछ समय पहले बाइडेन की टिप्पणी आई थी।

राष्ट्रपति ने सुझाव दिया कि 2014 में यूक्रेन के क्रीमिया प्रायद्वीप पर कब्जा करने वाले रूसी सैनिक जल्द ही देश में प्रवेश कर सकते हैं। बाइडेन ने जोर देकर कहा, "ऐसा नहीं है कि हम एक आतंकवादी संगठन से, बल्कि दुनिया की सबसे बड़ी सेनाओं में से एक के साथ निपट रहे हैं और परिस्थिति जल्दी ही खतरनाक हो सकती है।"

माना जाता है कि करीब 130,000 रूसी सेना पहले से ही यूक्रेन की सीमाओं के पास है। रूस पर पूर्वी यूक्रेन में रूस समर्थक अलगाववादियों का सक्रिय समर्थन करने का भी आरोप लगाया गया है, इसे मास्को ने इनकार किया है।

फिर भी, बाइडेन ने चेतावनी दी कि अगर मास्को यूक्रेन पर हमला करता है तो वह यूक्रेन छोड़ने से इनकार कर रहे अमेरिकियों को बचाने के लिए सेना नहीं भेजेगा। बिडेन ने कहा, "अमेरिका द्वारा सेना भेजने की अर्थ होगा ‘विश्व युद्ध’। हम पहले से कहीं ज्यादा अलग दुनिया में हैं। हालांकि, "मैं उम्मीद कर रहा हूँ कि, वह [रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन] ऐसा कुछ भी नहीं करेगा, जिसका अमेरिकी नागरिकों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।"

लेकिन बाइडेन ने कहा: "मैंने जो कहा है, वह यह है: अमेरिकी नागरिकों को यूक्रेन छोड़ देना चाहिए, अब छोड़ देना चाहिए।"

रक्षा सचिव

एनबीसी न्यूज टेलीविजन द्वारा जारी उनकी टिप्पणी तब आई जब ब्रिटेन के रक्षा सचिव बेन वालेस ने शुक्रवार को पूर्व-पश्चिम गतिरोध को समाप्त करने पर चर्चा करने के लिए मास्को का दौरा किया।

रक्षा सचिव बेन वालेस बेलारूस सहित यूक्रेन के पास बड़े पैमाने पर रूसी युद्ध के खेल के बीच पहुंचे। मास्को आगामी अभ्यासों के लिए काला और आज़ोव समुद्र में युद्धपोत भी भेजा है।

नाटो ने पूर्वी यूरोप में कई हजार अतिरिक्त अमेरिकी बलों सहित सैनिकों को भेजकर जवाब दिया है और अमेरिकी नेवी का कहना है कि उसने कई विध्वंसक को यूरोपीय जल में तैनात किया है।

यह स्पष्ट नहीं है कि वालेस तनाव को कैसे कम कर सकते हैं। उनकी यात्रा एक दिन बाद हुई जब ब्रिटिश विदेश सचिव लिज़ ट्रस ने मास्को में रूस को चेतावनी दी कि उसे अपने पड़ोसी पर हमला करने के "बड़े पैमाने पर परिणाम भुगतने होंगे और गंभीर लागत आएगी।"

रूस का कहना है कि उसका यूक्रेन पर आक्रमण करने का कोई इरादा नहीं है। लेकिन वह चाहता है कि पश्चिम यूक्रेन और अन्य पूर्व सोवियत देशों को नाटो सैन्य गठबंधन से बाहर रखे।

मास्को का यह भी कहना है कि नाटो को पूर्वी यूरोप में हथियार तैनात करने से बचना चाहिए। लेकिन पश्चिम ने इन मांगों को मानने से इनकार कर दिया है।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

12 February 2022, 14:43