खोज

Vatican News
आयरलैंड का नोक तीर्थस्थल आयरलैंड का नोक तीर्थस्थल   (Vatican Media)

ईश वचन रविवार के लिए नोक तीर्थस्थल की महत्वपूर्ण भूमिका

आयरलैंड स्थित तुआम के महाधर्माध्यक्ष मिखाएल न्यारी ने ईश वचन रविवार के उद्घाटन में राष्ट्रीय नोक मरियम तीर्थ की सहभागिता के बारे बतलाया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

आयरलैंड, शनिवार, 25 जनवरी 2020 (रेई)˸ 26 जनवरी को ईश वचन रविवार मनाया जाएगा जिसको ईश वचन के पाठ एवं प्रचार को समर्पित किया गया है। इसको मनाने के लिए संत पापा फ्राँसिस रोम के संत पेत्रुस महागिरजाघर में समारोही ख्रीस्तीयाग अर्पित करेंगे तथा विश्वासों को पवित्र बाईबिल प्रदान करेंगे।

नोक तीर्थस्थल

ईश वचन रविवार को, आयरलैंड के राष्ट्रीय मरियम तीर्थस्थल के विश्वासी संत पापा फ्राँसिस के ख्रीस्तयाग में भाग लेंगे जो संत पेत्रुस महागिरजाघर में सम्पन्न होगा।

रविवारीय समारोह के दौरान नोक की माता मरियम की नई प्रतिमा को प्रस्तुत की जाएगी जिसको दिव्यदर्शन की 140वीं वर्षगाँठ मनाने हेतु तैयार की गयी थी। प्रतिमा की आशीष, रोम में संत पापा फ्राँसिस ने पिछले साल की थी। इसके पूर्व 2018 में उन्होंने परिवार पर विश्वसभा के दौरान नोक मरियम तीर्थस्थल का दर्शन किया था।  

दिव्यदर्शन की कहानी अत्यन्त रोचक है। 21 अगस्त 1879 को नोक गाँव के करीब 15 लोगों ने तेज प्रकाश में पल्ली गिरजाघर की विशाल दीवार पर दो घंटों तक, माता मरियम, संत जोसेफ, संत योहन सुसमाचार लेखक, एक मेमना और वेदी पर एक क्रूस का दिव्यदर्शन देखा था।

दिव्यदर्शन की 140वीं वर्षगाँठ के अवसर पर, नवीन सुसमाचार प्रचार हेतु गठित परमधर्मपीठीय समिति के अध्यक्ष महाधर्माध्यक्ष रिनो फिसिकेल्ला ने नोक में चल रहे नोविना प्रार्थना में भाग ले रहे विश्वासियों को सम्बोधित कर उन्हें ईश वचन रविवार के उद्घाटन में विशेष रूप से निमंत्रण दिया था।  

नोक तीर्थस्थल आयरलैंड के पश्चिम में तुआम महाधर्मप्रांत में स्थित है जो देश का सबसे बड़ा धर्मप्रांत है। महाधर्माध्यक्ष मिखाएल न्यारी ने ईश वचन रविवार के ख्रीस्ताग में भाग लेने को सौभाग्य कहा।

मौन का महत्व

महाधर्माध्यक्ष मिखाएल न्यारी ने गौर किया कि 1879 का दिव्यदर्शन एक मौन दिव्यदर्शन था। उन्होंने कहा कि ईश वचन एकान्त में ही गहराई तक जा सकता है। उसका स्वागत एकान्त में ही किया जा सकता है।

ईश वचन रविवार की स्थापना संत पापा फ्राँसिस ने अपने प्रेरितिक पत्र अपेरूईत इल्लीस को प्रकाशित कर किया है जिसको पूजन पद्धति में सामान्य काल के तीसरे रविवार को मनाया जाएगा।  

महाधर्माध्यक्ष न्यारी ने कहा कि संत पापा फ्राँसिस ने जोर दिया है कि ईश वचन को कुछ सीमित लोगों तक ही रखा नहीं जा सकता, यह सभी के लिए है।

आयरिश तीर्थयात्री

नोक पल्ली के अनेक विश्वासी इस समारोह में भाग लेने रोम आ रहे हैं। महाधर्माध्यक्ष के अनुसार इस अवसर पर वहाँ लोगों में काफी उत्साह होगी। उन्होंने बतलाया कि संत पेत्रुस महागिरजाघर में संत पापा फ्राँसिस के ख्रीस्तयाग समारोह में भाग लेने वालों के द्वारा संगीत का प्रदर्शन किया जाएगा जिसके लिए उन्होंने खूब तैयारी की है।

 

25 January 2020, 14:21