खोज

संत पापा फ्राँसिस कार्डिनलअगुस्टिनो काच्चाविलन के अंतिम संस्कार की धर्मविधि सम्पन्न करते हुए संत पापा फ्राँसिस कार्डिनलअगुस्टिनो काच्चाविलन के अंतिम संस्कार की धर्मविधि सम्पन्न करते हुए  (ANSA)

‘ईश्वर हमारे सहयोग से दुनिया को बचाता है’ कार्डिनल काच्चाविलन

कार्डिनल जोवान्नी बतिस्ता रे ने साथी इतालवी कार्डिनल अगुस्टिनो काच्चाविलन के अंतिम संस्कार की धर्मविधि सम्पन्न किया। उन्होंने संत पापा फ्राँसिस की संवेदना व्यक्त की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 07 मार्च 2022 (वाटिकन न्यूज) : "कार्डिनल काच्चाविलन की लंबी कलीसियाई सेवा लगातार ईश्वर, कलीसिया और संत पापा के लिए उनके प्रेम की ताकत से बनी हुई थी और सेवा की भावना और अटूट उत्साह के साथ की गई थी।" इस प्रकार कार्डिनल जोवान्नी बतिस्ता रे ने दिवंगत इतालवी कार्डिनल को याद किया जिनका शनिवार को निधन हो गया था। परमधर्मपीठ के एक लंबे समय के राजनयिक, कार्डिनल काच्चाविलन का निधन 94 वर्ष की आयु में वाटिकन के निवास भवन में हुआ। गया।

सोमवार को संत पेत्रुस महागिरजाघऱ में कार्डिनल काच्चाविलन के अंतिम संस्कार मिस्सा का अनुष्ठान कार्डिनल रे ने किया। मिस्सा में रोम में मौजूद कई कार्डिनलों, महाधर्माध्यक्षों और धर्माध्यक्षों ने भाग लिया। कार्डिनल रे ने कहा, "उनका धर्माध्यक्षीय आदर्श वाक्य था, 'ईश्वर की शक्ति में’, जैसा कि प्रेरित संत पेत्रुस की एक अभिव्यक्ति, यह पुष्टि करती है कि ईश्वर की शक्ति के द्वारा ही उनके प्रेरित कार्य करते हैं। कार्डिनल काच्चाविलन का मानना था कि ईश्वर हमारे सहयोग से दुनिया को बचाते हैं।

संत पापा की संवेदना

संत पापा फ्राँसिस ने मिस्सा के अंत में अंतिम संस्कार की धर्मविधि का अनुष्ठान किया। संत पापा ने इससे पहले विसेंज़ा में दिवंगत कार्डिनल की बहन, आग्नेस काच्चाविलन को एक टेलीग्राम भेजा था, जिसमें उन्होंने शोक करने वालों के प्रति अपनी संवेदना और निकटता व्यक्त की थी। उन्होंने कहा, "मैं इस भाई के बारे में सोचता हूं, जिसने अनुकरणीय समर्पण और विचार की तीक्ष्णता के साथ, कलीसिया की भलाई के लिए प्राप्त कई प्रतिभाओं का उदारतापूर्वक उपयोग किया। "ईश्वर इस दुनिया का भाग्य अपने हाथों में रखते हैं।"

विश्वास, सच्चाई और आत्माओं के लिए प्यार

कार्डिनल काच्चाविलन का जन्म 14 अगस्त, 1926 को विसेंज़ा धर्मप्रांत में नोवेल डि वाल्डाग्नो में हुआ था। वे 9 बच्चों के एक बड़े परिवार से ताल्लुक रखते थे।

कार्डिनल रे ने कहा कि कार्डिनल काच्चाविलन 1949 में अपने पुरोहिताभिषेक के साथ कलीसिया के लिए अपनी सेवा शुरु की और वाटिकन में परमधर्मपीठीय विरासत और प्रशासन (एपीएसए) के अध्यक्ष के रूप सेवा देते हुए, 1 अक्टूबर 2002 को सेवानिवृत्त हुए।


कार्डिनल रे ने कहा, "इन सभी स्थितियों में हमारे मृत भाई को अनुप्राणित करने वाली भावना एक जैसी थी: एक ठोस विश्वास, सभी परिस्थितियों में सत्य का साहस और आत्माओं के लिए प्रेम।" वह कलीसिया के मैजिस्टेरियम के प्रति सैद्धांतिक क्षमता और पूर्ण निष्ठा से प्रतिष्ठित थे। "सेंसस एक्लेसिया" उनकी सभी गतिविधियों का प्रेरक सिद्धांत था।

कार्डिनल काच्चाविलन को उनकी वास्तविक आध्यात्मिकता, जीवंत बुद्धिमत्ता, संतुलित निर्णय, कर्तव्य की गहन भावना और सम्मान और सहानुभूति लाने के लिए हर जगह सराहा गया।

पवित्र मिस्सा समारोह के अंत में संत पापा फ्राँसिस ने कार्डिनल अगुस्टिनो काच्चाविलन के अंतिम संस्कार की धर्मविधि को सम्पन्न किया।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

07 March 2022, 16:39