बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
निकारागुआ में प्रदर्शन निकारागुआ में प्रदर्शन  (ANSA)

निकारागुआ के लिए संत पापा की प्रार्थना

निकारागुआ के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के धर्माध्यक्षों ने सभा में यह निश्चित किया कि वार्ता द्वारा ही निकारागुआ में मेल-मिलाप का मार्ग प्रशस्त हो सकता है। संत पापा फ्राँसिस निकारागुआ की प्रिय जनता के लिए प्रार्थना करते हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

निकारागुआ, मंगलवार, 24 जुलाई 2018 (वाटिकन न्यूज)˸ निकारागुआ के धर्माध्यक्षों ने यह निर्णय करने के लिए एक सभा में भाग लिया कि क्या एक बदतर राजनीतिक और सामाजिक संकट के बीच राष्ट्रीय वार्ता प्रक्रिया में मध्यस्थता जारी रखना है अथवा नहीं।

धर्माध्यक्षों की उम्मीद है कि कलीसिया की मध्यस्थता द्वारा खुले समझौते की मेज को पुनः जल्द ही सक्रिय किया जाएगा।

निकारागुआ के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष एवं वार्ता के राष्ट्रीय आयोग अध्यक्ष, कार्डिनल लेओपोल्दो ब्रेनेस सोलोरज़ानो ने रविवार को एक वक्तव्य में कहा कि राष्ट्रपति दानिएल ओरतेगा के शासनकाल में, देश में काथलिक कलीसिया पर अत्याचार हो रहा है। 

उन्होंने यह आलोचना उस दिन की जब समस्त लातिनी अमरीका की जनता निकारागुआ में शांति के लिए प्रार्थना करने हेतु एकत्रित थी। निकारागुआ में मध्य अप्रैल से चली आ रही राजनीतिक उथल-पुथल एवं हिंसा के कारण कुल 360 लोगों की मौत हो गयी है तथा कई लोगों को हिरासत में लिया गया है।

धर्माध्यक्षों का निर्णय

कार्डिनल ब्रेनेस ने कहा कि कलीसिया को हमेशा अत्याचार का शिकार होना पड़ा है इसलिए हम इस सच्चाई से अनभिज्ञ नहीं हैं। निकारागुआ के धर्माध्यक्ष विचार-विमर्श कर रहे हैं कि राष्ट्रीय वार्ता प्रक्रिया में भाग लिया जाए अथवा नहीं क्योंकि राष्ट्रपति ने एक बयान में कहा था कि धर्माध्यक्ष "तख्तापलट षड्यंत्रकारियों" की तरह व्यवहार कर रहे हैं।

संघर्ष की शुरूआत छात्रों द्वारा शांतिपूर्ण रैली से हुई, जिसे उन्होंने सामाजिक कल्याण सुधारों को दंडित करने के विरोध में किया था। यह संघर्ष तब विकराल रूप ले लिया, जब पुलिस बलों ने गोला बारूद के साथ प्रदर्शनकारियों को रोकने का प्रयास किया। इस दौरान गिरजाघरों को अपवित्र करने की कम से कम सात घटनाएँ हुईं तथा धर्माध्यक्षों और कलीसिया के प्रतिनिधियों पर भी कई हमले हुए।

काथलिक कलीसिया पर हमला उस समय बढ़ गया जब धर्माध्यक्षों ने सामाजिक एवं राजनीतिक संकट समाप्त होने की उम्मीद से 2021 में होने वाले चुनाव को 2019 में आयोजित करने की, ओर्तेगा से मांग की थी।

निकारागुआ के लिए संत पापा की अपील

संत पापा फ्राँसिस ने 3 जून को निकारागुआ की याद कर कहा था कि वे वहाँ के धर्माध्यक्षों के साथ हैं तथा उन्होंने वहाँ हिंसा को समाप्त करने की अपील करते हुए हिंसा के शिकार लोगों एवं उनके परिवार वालों के लिए प्रार्थना की थी। 

संत पापा ने कहा था कि कलीसिया हमेशा वार्ता का समर्थन करती है किन्तु इसके लिए स्वतंत्रता एवं जीवन को सम्मान देने हेतु सक्रिय सहभागिता की आवश्यकता होती है।

निकारागुआ के लिए प्रार्थना

इस बीच, जानकारी के अनुसार देश में, हजारों लोग फिर से सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए मानागुआ की सड़कों पर उतरे हैं, और साथ ही गिरजाघरों पर हमला कर, उसे अपवित्र करने की घटना भी सुनाई पड़ रही है। रविवार को प्रार्थना दिवस घोषित किया गया था जिसका आयोजन लातिनी अमरीका के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने किया था। इसी तरह की पहल को विश्वभर में प्रोत्साहन दिया जा रहा है ताकि निकारागुआ के लोगों के प्रति सामीप्य एवं एकात्मता प्रदर्शित किया जा सके। 

24 July 2018, 16:27