खोज

Vatican News
कार्डिनल बनने का समारोह कार्डिनल बनने का समारोह 

28 नवम्बर : कोविड-19 के समय में कार्डिनल रचना समारोह

वाटिकन ने पुष्टि दी है कि नवनियुक्त कार्डिनलों में से दो कार्डिनल शनिवार को संत पापा फ्राँसिस से कार्डिनल के विशेष चिन्ह लाल टोपी को ग्रहण करने रोम में उपस्थित नहीं हो पायेंगे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार, 25 नवम्बर 2020 (रेई)- कोरोना वायरस लोकसभा परिषद (कंसिस्ट्री) को रोक नहीं पायेगी किन्तु इसके काम करने के ढंग को बदल देगी। इतिहास में पहली बार ऐसा होगा कि 28 नवम्बर 2020 को संत पापा फ्राँसिस द्वारा नवनियुक्त सभी कार्डिनल व्यक्तिगत रूप से अपनी लाल टोपी ग्रहण करने के लिए रोम नहीं आ पायेंगे।

वाटिकन प्रेस कार्यालय के निदेशक मात्तेओ ब्रूनी ने सोमवार को कहा कि ब्रुनेई के प्रेरितिक विकर नवनियुक्त कार्डिनल कोर्नेलियुस सिम और फिलीपींस के नवनियुक्त कार्डिनल जोसेफ एफ. अडविनकुला, वाटिकन में कार्डिनल बनने के समारोह में भाग नहीं ले पायेंगे। इसका मूल कारण है कोरोना वायरस के कारण यात्रा करने में प्रतिबंध।

वे अपने धर्मप्रांत से ही डिजीटल माध्यम द्वारा संत पेत्रुस महागिरजाघर में होने वाले समारोह में भाग लेंगे।  

नये कार्डिनल दुनिया के सभी हिस्सों से

प्रेस कार्यालय के निदेशक ने बतलाया कि संत पापा फ्राँसिस के एक प्रतिनिधि उनके लिए लाल टोपी, कार्डिनल की अंगुठी और रोम का एक पल्ली प्रदान करेंगे, इसके लिए समय बाद में निश्चित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि कार्डिनल मंडल के सदस्य जो समारोह के लिए रोम नहीं आ पायेंगे वे साधे प्रसारण के माध्यम से समारोह में भाग लेंगे।

छोटी सभा और शुभकामना मुलाकात नहीं

कार्डिनल बनने का समारोह शनिवार को दोपहर में, संत पेत्रुस महागिरजाघर के सिंहासन वेदी पर सम्पन्न होगा जहाँ विश्वासियों की बहुत कम संख्या होगी। हर नये कार्डिनल को अपने परिवार से कम रिश्तेदारों को लाने की अनुमति होगी।   

समारोह के बाद परम्परा के विपरीत प्रेरितिक आवास और पौल षष्ठम सभागार में शुभकामना देनेवाले नहीं आ पायेंगे।

नये कार्डिनल संत पेत्रुस महागिरजाघर में रविवार 29 नवम्बर को संत पापा फ्राँसिस के साथ ख्रीस्तयाग में भाग लेंगे।

ब्रुनेई के धर्माध्यक्ष ने संत पापा को धन्यवाद दिया है कि उन्होंने सुदूर क्षेत्र से उन्हें चुना है। संत पापा ने 13 नये कार्डिनलों की घोषणा 25 अक्टूबर को की थी। वे हैं, वॉशिंगटन के महाधर्माध्यक्ष विल्टॉन ग्रेग्रोरी, माल्टा के धर्माध्यक्ष मारियो ग्रेच, संतियागो के महाधर्माध्यक्ष सेलेस्टीनो आओस ब्राको, रूवांडा के महाधर्माध्यक्ष अंतोइने कामबंदा, ब्रुनेई के प्रेरितिक विकर कोर्नेलियुस सिम और फिलीपींस के धर्माध्यक्ष जोश एफ. अडविनकुला।  

इटली के नवनियुक्त धर्माध्यक्ष हैं- महाधर्माध्यक्ष अगुस्तो पाओलो लोजुदीचे, असीसी के फादर मौरो गाम्बेत्ती, धर्माध्यक्ष मरचेल्लो सेमेरारो, संत पापा के उपदेशक कपुचिन फादर रानियेरो कंतालामेस्सा।  

कंतालामेस्सा के साथ संत पापा ने तीन अन्य कार्डिनलों की नियुक्ति की है जो वोट नहीं कर पायेंगे क्योंकि उनकी उम्र 80 साल से अधिक है। वे हैं, मेक्सिको, क्रिस्तोबल दी लास कासास के सेवानिवृत धर्माध्यक्ष फिलिपे अरिजमेंदी एस्क्वी वेल, अमरीका के सेवानिवृत स्थायी पर्यावेक्षक महाधर्माध्यक्ष सिलवानो मरिया तोमासी और रोम के दिविनो अमोरे मरियम तीर्थस्थल के पल्ली पुरोहित मोनसिन्योर एनरिको, फेरोची।  

24 November 2020, 17:56