खोज

यूक्रेन के शरणार्थी पोलैंड की सीमा पर ट्रेन का इंतजार करती हुई यूक्रेन के शरणार्थी पोलैंड की सीमा पर ट्रेन का इंतजार करती हुई  (AFP or licensors)

पोप ने यूक्रेनी शरणार्थियों के स्वागत हेतु पोलिश धर्माध्यक्षों को धन्यवाद दिया

संत पापा फ्राँसिस ने पोलैंड के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष महाधर्माध्यक्ष स्तनिसलाव गडेस्की से मुलाकात की, जहाँ उन्होंने यूक्रेन में युद्ध के दौरान पोलैंड की कलीसिया की गतिविधियों पर चर्चा की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 29 मार्च 2022 (रेई) ˸ यूक्रेन में जब दूसरे माह भी युद्ध जारी है, पोलैंड की कलीसिया रूसी हमले के कारण भाग रहे शरणार्थियों का स्वागत कर रही है। उन्होंने संत पापा फ्राँसिस द्वारा रूस और यूक्रेन को संत मरियम के निष्कलंक हृदय को समर्पण के प्रति आभार प्रकट किया है।  

शरणार्थियों के लिए चिंता

वाटिकन में 45 मिनट की इस वार्ता में पोलिश काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष महाधर्माध्यक्ष गडेस्की ने शरणार्थियों के लिए चिंता और पल्ली संचालन विषयों पर बातें कीं।

पोलैंड के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि महाधर्माध्यक्ष गडेस्की एवं संत पापा ने पड़ोसी देश यूक्रेन में जारी युद्ध के दौरान पोलैंड की कलीसिया पर मदद पर चर्चा की। युद्ध से शुरू से लेकर अब तक देश ने करीब 2.3 मिलियन शरणार्थियों का स्वागत किया है।   

कहा गया है कि महाधर्माध्यक्ष गडेस्की और पूर्वी यूरोप के धर्माध्यक्षों ने यूक्रेन पर रूस के हमले की निंदा की है तथा संत पापा द्वारा मानवता, खासकर, रूस और यूक्रेन को संत मरियम के निष्कलंक हृदय को समर्पण के प्रति आभार व्यक्त किया है।

मुलाकात के दौरान संत पापा ने पोलैंड की कलीसिया द्वारा उठाये गये सभी कदमों के लिए धन्यवाद दिया तथा उन्हें अपने आध्यात्मिक समर्थन का आश्वासन दिया है।

महाधर्माध्यक्ष गडेस्की ने अपनी ओर से पोलैंड की कलीसिया द्वारा शरणार्थियों की मदद के लिए उठाये गये कदमों के बारे बतलाया, खासकर, यूक्रेन के शरणार्थियों के लिए जिन्होंने पोलैंड में शरण ली है और जो युद्ध के बावजूद देश में ही रूके हुए हैं।

पल्ली संगठन

पोलैंड की कलीसिया, कारितास पोलास्का एवं धर्मप्रांतीय कारितास, पूर्वी कलीसिया की सहायता हेतु पीबीसी टीम, धर्मसमाजी समुदायों, पुरोहितों एवं सेमिनरी के छात्रों के सहयोग से मदद पहुँचा रही है।  

पीबीसी के अध्यक्ष ने पोलैंड की पल्लियों की प्रतिबद्धता एवं जमीनी स्तर पर की जा रही मदद पर प्रकाश डाला, जो स्थानीय स्तर पर भोजन, आवास, यातायात, मेडिकल, मनोवैज्ञानिक सहायता, कानूनी सहायता, बच्चों के लिए शिक्षा और वर्तमान आवश्यकता के अनुसार कई तरह से मदद पहुँचा रहे हैं।  

साथ ही, महाधर्माध्यक्ष गडेस्की ने विभिन्न ख्रीस्तीय समुदायों के एकजुट होकर मदद करने के संयुक्त प्रयास पर भी प्रकाश डाला।

मुलाकात के अंत में संत पापा ने पोलैंड के पुरोहितों और सेमिनरी के छात्रों से आग्रह किया कि वे ईश प्रजा के करीब रहें, और अंत में उन्होंने उन्हें अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

29 March 2022, 16:07