खोज

Vatican News
दक्षिणी सूडान के राष्ट्रपति साल्वा कीर से वाटिकन में मुलाकात करते संत पापा फ्राँसिस   दक्षिणी सूडान के राष्ट्रपति साल्वा कीर से वाटिकन में मुलाकात करते संत पापा फ्राँसिस  

क्रिसमस संदेश: पोप ने की सूडान से शांति प्रक्रिया को नवीकृत करने की अपील

संत पापा फ्राँसिस ने दक्षिणी सूडान के राजनीतिक नेताओं को क्रिसमस का संदेश दिया तथा अपील की कि वे शांति के रास्ते पर चलें एवं देश की सेवा करने के प्रयास को तेज करें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 24 दिसम्बर 20 (रेई)- संत पापा फ्राँसिस ने दक्षिणी सूडान के नेताओं को ख्रीस्त जयन्ती का शांति संदेश भेजा। उन्होंने अंगलिकन महाधर्माध्यक्ष जस्टिन वेलबे और प्रेसबिटेरियन कलीसिया की आमसभा के अध्यक्ष माननीय मार्टिन फेर के साथ क्रिसमस संदेश पर हस्ताक्षर किया है।

सभी के सेवक

संत पापा फ्राँसिस ने 24 दिसम्बर को एक तार संदेश भेजकर दक्षिणी सूडान के नेताओं को क्रिसमस का संदेश दिया। उन्होंने संदेश में लिखा, "इस क्रिसमस काल में हम याद करते हैं कि हमारे प्रभु येसु ख्रीस्त इस दुनिया में सबसे छोटे लोगों के पास – जानवरों के बीच गोशाले में आये। बाद में, उन्होंने उन लोगों को सभी के सेवक होने के लिए बुलाया जो उनके राज्य में महान बनना चाहते थे।"

2019 को वाटिकन में हुई ऐतिहासिक मुलाकात में संत पापा फ्राँसिस ने विनम्र सेवक होने का ठोस उदाहरण प्रस्तुत करते हुए झुककर उनके पैर चुम लिये थे।

शांति प्रक्रिया को तेज करन की अपील

संत पापा ने अप्रैल 2019 में अपनी सूडान यात्रा एवं वाटिकन में किये गये शांति समझौते की याद करते हुए कहा कि "हमें यह देखकर खुशी हो रही है कि आपने थोड़ी प्रगति की है किन्तु यह आपके लोगों के लिए शांति को पूर्ण रूप से अनुभव करने हेतु काफी नहीं है। हम बदले हुए राष्ट्र की कामना करते हैं।"

अधिक भरोसा एवं उदारता

संत पापा ने कहा, "इस ख्रीस्त जयन्ती में हम प्रार्थना करते हैं कि आप एक-दूसरे पर अधिक भरोसा कर सकें एवं लोगों की सेवा में अधिक उदार बन सकें। कामना करते हैं कि ईश्वर की शांति जो हमारी समझ से परे है, आपके हृदयों और आपके महान देश के हृदयों को भर दे।"

लम्बे समय का संघर्ष

जुलाई 2011 में स्वतंत्र होने के कुछ ही दिनों के बाद दक्षिणी सूडान नागरिक युद्ध के चपेट में आ गया। संघर्ष 2013 से सितम्बर 2018 तक चला। युद्ध में करीब 400,000 लोग मौत के शिकार हो गये करीब 250,000 लोग घर छोड़कर भाग गये तथा 11 मिलियन आबादी में से आधी आबादी अत्यन्त गरीबी की शिकार हो गई।

सितंबर 2018 में, दक्षिण सूडान में संघर्ष के संकल्प पर पुनरीक्षित समझौते के साथ शांति प्रक्रिया को फिर से शुरू किया गया। फिर भी स्थिति जटिल बना हुआ है। इस मिशन के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख डेविड शिरेर ने रिपोर्ट किया था कि शांति समझौता को उस तरह लागू नहीं किया गया है जिस तरह किया जाना चाहिए था। उन्होंने कहा कि हिंसा अब भी राष्ट्र के बड़े हिस्से को प्रभावित करती है।

24 December 2020, 13:34