खोज

Vatican News
मरियम तीर्थालय के प्रांगण में पवित्र मिस्सा बलिदान  में संत पापा मरियम तीर्थालय के प्रांगण में पवित्र मिस्सा बलिदान में संत पापा 

सुमुलेउ सीउक के मरियम तीर्थालय में संत पापा का दौरा

रोमानिया के धुँधभरे और मेघयुक्त दिन में, हजारों तीर्थयात्रियों ने सुमुलेउ सीउक के मरियम तीर्थालय के प्रांगण में पवित्र मिस्सा बलिदान में भाग लिया। संत पापा फाँसिस ने पवित्र मिस्सा बलिदान का अनुष्ठान किया।

सुमुलेउ सीउक, शनिवार 1 जून 2019 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस अपनी प्रेरितिक यात्रा के दूसरे दिन सुमुलेउ सीउक के मरियम तीर्थालय पहुँचे। तीर्थालय में संत पापा फ्राँसिस का स्वागत अबा इयूलिया के महाधर्माध्यक्ष जोर्जी मिरकोस, मियरक्यूरिया सीउक शहर के महापौर और  क्षेत्राअध्यक्ष ने की। ख्रीस्तीय विश्वासियों ने बड़ो हर्षोल्लास के साथ संत पापा का स्वागत किया। रोमानिया के समय अनुसार 113.0 बजे में पवित्र मिस्सा प्रारंभ की गई। संत पापा फाँसिस ने मरियम तीर्थालय के प्रांगण में पवित्र मिस्सा बलिदान का अनुष्ठान किया। पवित्र मिस्सा में करीब 1 लाख ख्रीस्तियों ने भाग लिया।

उलेमुलेउ सीउक का मरियम तीर्थालय, मियरक्यूरिया सीउक शहर के एक सुरम्य प्राकृतिक तराई में स्थित है, जो रोमानिया और अन्य देशों के हंगेरियन-बोलने वाले काथलिकों का एक ऐतिहासिक तीर्थस्थल है। फ्रांसिस्कन मठ के अंदर स्थित मरियम का गिरजाघर को "बेसिलिका माइनर" अर्थात छोटा महागिरजाघर की उपाधि प्राप्त है।

इसे 1442 और 1448 के बीच माउंट सोमिलो की तराई पर बनाया गया था। वर्तमान तीर्थालय, बारोक शैली में निर्मित है। यह 1802 और 1824 के बीच पूरा हुआ था। अंदर धन्य कुवारी मरियम की कीमती लकड़ी की मूर्ति है, जो 1515 और 1520 के बीच बनाई गई और 1661 में गिरजाघर में लगी आग से बच गई। तीर्थालय 1009 में हंगरी के राजा संत स्टेफन द्वारा निर्मित, अल्बा इयूलिया के महाधर्मप्रांत का हिस्सा है। यहाँ हर वर्ष पेंतेकोस्त रविवार के पहले दिन हजारों के संख्या में तीर्थयात्रा करते हुए मरियम के तीर्थालय आते हैं। कई तीर्थयात्री हंगरी से भी आते हैं। 16 वीं शताब्दी में काथलिकों को प्रोटेस्टेंट दल द्वारा अपने दल में मिलाने जाने हेतु भेजे गये बल पर विजय पाने की याद में यह तीर्थयात्रा की जाती है।

01 June 2019, 17:06