खोज

यूक्रेन में संघर्ष यूक्रेन में संघर्ष  (AFP or licensors)

महाधर्माध्यक्ष शेवचुक द्वारा यूक्रेन के साथ एकात्मता की अपील

पूर्वी यूरोप में जब तनाव बहुत अधिक बढ़ गया है कीव हालेक के महाधर्माध्यक्ष स्वीयातोस्लाव शेवचुक ने यूक्रेन के लिए अंतरराष्ट्रीय एकात्मता की अपील की है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

यूक्रेन, बृहस्पतिवार, 24 फरवरी 2022 (रेई) ˸ यूक्रेन में ग्रीक काथलिक कलीसिया के शीर्ष ने एक बयान जारी कर कहा है कि यह सभी मनुष्यों का कर्तव्य एवं जिम्मेदारी है कि युद्ध को टालने के लिए सक्रिय रूप से कार्य करें।

पूर्वी यूक्रेन में डोनेट्स्क और लुगांस्क के विद्रोही क्षेत्रों में रूसी सैनिकों के प्रवेश के बाद, यूक्रेन की ग्रीक काथलिक कलीसिया के शीर्ष महाधर्माध्यक्ष स्वीयातोस्लाव शेवचुक ने सभी भली इच्छा रखनेवाले लोगों से अपील की है कि यूक्रेन के लोगों की पीड़ा को अनदेखा न किया जाए।  

शांति के लिए एक खतरा

मंगलवार को जारी एक विज्ञप्ति में महाधर्माध्यक्ष ने चेतावनी दी है कि डोनट्स्क और लुगांस्क के स्वघोषित स्वतंत्रता को रूसी राष्ट्रपति बल्दीमीर पुतिन द्वारा स्वीकृति दिया जाना, गंभीर चुनौती उत्पन्न कर सकता है और यह पूरे अंतरराष्ट्रीय समुदाय एवं अंतरराष्ट्रीय नियम के लिए खतरा हो सकता है। उन्होंने कहा कि "अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के तर्क को अपूरणीय क्षति हुई है, जिसे शांति और समाज के न्यायसंगत आदेश, कानून की सर्वोच्चता, राज्य शक्तियों की जवाबदेही, मानव की रक्षा, मानव जीवन और प्राकृतिक अधिकारों की रक्षा के लिए बुलाया गया है।"

एक पूर्ण पैमाने पर सैन्य अभियान के खतरे

गहरे घावों की याद करते हुए जिनको 2014 में युद्ध की शुरूआत के साथ डोनबास के लोगों पर किया गया था, महाधर्माध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्रपति पुतिन की कार्यवाही ने यूक्रेन में शांति की रक्षा की लम्बी प्रक्रिया के मौलिक सिद्धांत को नष्ट कर दिया है और यूक्रेन के लोगों के खिलाफ एक पूर्ण पैमाने पर सैन्य अभियान की शुरुआत कर सकता है।  

युद्ध को टालने का कर्तव्य

इस बात पर जोर देते हुए कि यूक्रेन की स्वतंत्रता, क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा जो यूक्रेन के लोगों के लिए एक मौलिक अधिकार एवं नागरिक कर्तव्य है, महाधर्माध्यक्ष ने कहा कि यह पूरी मानवजाति की जिम्मेदारी एवं कर्तव्य है कि वह युद्ध को टालने के लिए सक्रिय रूप से कार्य करे एवं शांति की रक्षा करे। महाधर्माध्यक्ष ने यूक्रेन के लोगों पर ईश्वर की सुरक्षा की याचना की है।

संघर्ष से बच्चे प्रभावित

पूर्वी यूक्रेन में आठ साल के सशस्त्र संघर्ष ने नागरिकों पर भारी असर डाला है, लगभग 30 लाख लोग मानवीय सहायता पर निर्भर हैं और लगभग दस लाख लोग विस्थापित हुए हैं। बड़े पैमाने पर युद्ध की पुनः शुरूआत मानवीय परिस्थिति को अत्यन्त बुरी स्थिति में ला देगा। यह पहले से क्षतिग्रस्त नागरिक संरचना को तहस-नहस कर देगा, लोगों की गतिविधियों को रोक देगा, जरूरतमंद समुदायों को बाधा पहुँचायेगा एवं लोगों की मौलिक आवश्यकताओं जैसे- पानी, बिजली, यातायात एवं बैंक को बाधित करेगा।  

सशस्त्र संघर्ष में बच्चे और बुजूर्ग सबसे अधिक प्रभावित हैं। यूनिसेफ के अनुसार करीब 5,10,000 बच्चे-बच्चियों को तत्काल मानवीय राहत सेवा की जरूरत है तथा करीब 430,000 लोग युद्ध के कारण मानसिक रूप से जख्मी हैं।   

संघर्ष क्षेत्र के दोनों ओर 20 किलोमीटर की दूरी में रहनेवाले करीब 2 मिलियन लोगों के लिए हिंसा और विस्थापन का खतरा बढ़ गया है।  स्व-घोषित डोनट्स्क और लुगांस्क पीपुल्स रिपब्लिक के अलगाववादी नेता, संघर्ष फिर शुरू होने के साथ ही महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों को निकटवर्ती रूस में शरण लेने के लिए प्रोत्साहित किया है।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

24 February 2022, 15:34