खोज

Vatican News
कार्डिनल लुईस से मुलाकात करते संत पापा कार्डिनल लुईस से मुलाकात करते संत पापा  (ANSA)

कार्डिनल साको ˸ संत पापा ख्रीस्तियों को प्रोत्साहित करने आयेंगे

संत पापा फ्राँसिस अगले साल 5 मार्च से 8 मार्च तक ईराक की प्रेरितिक यात्रा करेंगे जो नवम्बर 2019 के बाद उनकी पहली यात्रा होगी। कार्डिनल लुईस साको ने संत पापा की यात्रा पर देश की प्रतिक्रिया एवं खुशी के बारे बतलाया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 8 दिसम्बर 2020 (वीएन)- बेबीलोन के खलदेई प्राधिधर्माध्यक्ष कार्डिनल लुईस, रफाएल साको ने संत पापा की ईराक यात्रा की घोषणा का सहर्ष स्वागत किया है। उन्होंने कहा, "संत पापा फ्रांसिस अपने समर्थन एवं आशा के संदेश के साथ ईराक आयेंगे।" 

देश की बड़ी समस्याएँ

कार्डिनल ने गौर किया कि संत पापा की यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब देश के लोग कई बड़ी समस्याओं का सामना कर रहे हैं। कार्डिनल ने कहा, "हम एक बुरी परिस्थिति में जी रहे हैं, न केवल महामारी के कारण बल्कि राजनीतिक परिस्थिति, आर्थिक परिस्थिति के कारण भी।"

वाटिकन न्यूज से बातें करते हुए कार्डिनल साको ने संत पापा फ्राँसिस का जिक्र एक ऐसे व्यक्ति के रूप में किया जो शांति एवं भाईचारा को बढ़ावा देते हैं।

आशा का संदेश

ईराकी ख्रीस्तीय जिनकी एक बड़ी संख्या कई प्रकार की समस्याओं एवं चुनौतियों का सामना कर रही है जब तथाकथित इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने 2014 और 2017 के बीच देश के बड़े जगहों को नियंत्रित किया। कई मामलों में संघर्ष के दौरान बेहतर जीवन की तलाश में लोगों को देश से पलायन करना पड़ा।  

देश से लोगों के पलायन का प्रकाश डालते हुए कार्डिनल ने गौर किया कि मध्यपूर्व में उनका अस्तित्व ही खतरे में है, अतः उन्होंने जोर दिया कि संत पापा का समर्थन बहुत महत्वपूर्ण है। "उनका भाषण इस भूमि में रहने के लिए आशा एवं प्रोत्साहन से पूर्ण हैं।" उनके संदेश सिर्फ ईराकियों के लिए नहीं हैं बल्कि सीरिया एवं लेबनान के लिए भी हैं। 

नवम्बर 2019 की प्रेरितिक यात्रा के पश्चात् महामारी शुरू होने के बाद संत पापा की यह पहली यात्रा जो कोविड-19 महामारी के प्रसार को रोकने के लिए लगे प्रतिबंधों के कारण रूक गई थी।

एक ट्वीट में ईराक के राष्ट्रपति बरहम सालीह ने कहा कि यात्रा "ईराक के सभी धर्मों के लिए शांति और सेवा का संदेश होगा कि हम न्याय एवं प्रतिष्ठा के आम मूल्यों को पुष्ट कर सकें।" संत पापा फ्रांसिस ईराक की यात्रा करने वाले पहले पोप होंगे।

08 December 2020, 15:33