खोज

Vatican News
फातिम की माता मरियम फातिम की माता मरियम  (Lazaro Gutierrez fotografo della archidiocesi di Managua )

फातिमा की माता मरियम का पर्व विश्वासियों की अनुपस्थिति में

कोरोना वायरस के कारण सभाएँ और समारोह अभी प्रतिबंधित हैं, फातिमा की माता मरियम के पर्व पर की जानेवाली तीर्थयात्रा वर्चुवल (आभासी) होगी।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

पुर्तगाल, बृहस्पतिवार, 7 मई 2020 (वीएन)- फातिमा की माता मरियम के पर्व दिवस पर सड़कें खाली होंगी क्योंकि विश्वभर के तीर्थयात्री आध्यात्मिक रूप से भाग लेंगे। इस वार्षिक समारोह में अक्सर देखा गया है कि तीर्थयात्री हजारों की संख्या में फातिमा स्थित माता मरियम तीर्थस्थल की ओर यात्रा करते हैं। 1917 ई. में मई से अक्टूबर तक हर माह के 13 तारीख को कुँवारी मरियम ने बच्चों को छः बार दर्शन दिये थे। इस साल कोरोना वायरस महामारी के कारण, 350 तीर्थयात्री दलों को अपनी यात्रा रद्द करना पड़ी।

क्रमिकता और विवेकशीलता

लेईरिया-फातिमा के धर्माध्यक्ष एवं पुर्तगाल के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के उप- अध्यक्ष कार्डिनल अंतोनियो मारतो ने शनिवार को इसकी पुष्टि दी, जब पूरा देश कोरोना वायरस लॉकडाउन के दूसरे चरण की तैयारी कर रहा था। कोरोना वायरस लॉकडाउन के दूसरे चरण का अर्थ है एक महीने के लॉकडाउन के बाद देश को धीरे से खोलना। पुर्तगाल की कलीसिया क्रमिक एवं विवेकशीलता के साथ दूसरे चरण में प्रवेश करना चाहती है ताकि आपदा से बचा जा सके।

अतः 13 मई को मनाया जानेवाला समारोह सिर्फ रेडियो, टेलीविजन और डीजिटल संचार माध्यमों पर मनाया जा सकेगा। कार्डिनल मारतो ने कहा कि यद्यपि हमारा हृदय फातिमा में होने और 1917 के समान एक साथ मनाने की इच्छा व्यक्त करेगा किन्तु विवेक कहता है कि हम ऐसा न करें। उन्होंने कहा कि कलीसिया द्वारा इन निर्देशों का पालन जिम्मेदारी की भावना से की जा रही है ताकि लोगों के स्वास्थ्य पर खतरा उत्पन्न न किया जाए, साथ ही, अपने पड़ोसी से प्रेम करने के सुसमाचारी आदेश का भी पालन किया जा सके।

आध्यात्मिक यात्रा

कोवा दा इरिया की तीर्थयात्रा नहीं कर पानेवाले  फातिमा के तीर्थयात्रियों के लिए एक "आध्यात्मिक यात्रा" का प्रस्ताव रखा गया है जिसके अनुसार दैनिक प्रार्थना में भाग लिया जा सकता है। ये प्रार्थनाएँ तीर्थस्थल के वेबसाईट में www.fatima.pt देखे जा सकते हैं।

तीर्थस्थल के संचालक फादर कार्लो काबेचिन्हास ने एक संदेश जारी कर विश्वासियों को निमंत्रण दिया है कि वे तीर्थयात्रा में हृदय से भाग लें। जिसके लिए भौतिक दूरी तय करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। तीर्थयात्रियों को निमंत्रण दिया गया है कि वे 12 मई तक हर दिन अपने घरों की खिड़कियों पर मोमबत्ती जलायें।

भविष्य में तीर्थस्थल का खुलना

पुर्तगाल में विश्वासियों के साथ समारोह मनाने की तिथि 30 मई को सुनिश्चित की गई है। तीर्थस्थल की गतिविधियों को धीरे-धीरे करके खोला जाएगा जबकि आज से ही व्यक्तिगत प्रार्थना के लिए इसे खोल दिया गया है। संग्रहालय को 19 मई को खोला जाएगा।

तीर्थयात्रियों एवं तीर्थस्थल पर कार्य करनेवालों की सुरक्षा के लिए कई उपाय अपनाये गये हैं, जैसे कि मास्क लगाना, दूरी बनाकर रखना एवं हाथों में सनिटाईजर लगाना, साथ ही वातावरण को भी स्वच्छ रखने की कोशिश करना आदि शामिल है।

07 May 2020, 16:54