खोज

Vatican News
वाटिकन संचार विभाग के प्रीफेक्ट पावलो रुफीनी वाटिकन संचार विभाग के प्रीफेक्ट पावलो रुफीनी  (Vatican News)

संत फ्राँसिस डी सालेस समारोहः सत्य एक खोज है, पावलो रुफीनी

"इंटरनेशनल डेज़ ऑफ़ सेंट फ्रांसिस ऑफ़ सेल्स",के उद्घाटन पर वाटिकन संचार विभाग के प्रीफेक्ट पावलो रुफीनी ने संदेश दिया। उन्होंने हस बात पर जोर दिया कि "अच्छी पत्रकारिता को हमेशा सच्चाई की खोज निरंतर करनी चाहिए।"

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

लूर्द, गुरुवार 31 जनवरी 2019 (वाटिकन न्यूज) : लूर्द में बुधवार 30 जनवरी को संत फ्राँसिस डी सालेस समारोह के 23वे संस्करण के उद्घाटन समारोह पर पावलो रुफीनी ने लूर्द के धर्माध्यक्ष निकोलस ब्रोवेट को अपने धर्मप्रांत में स्वागत करने के लिए विशेष धन्यवाद दिया। उन्होंने काथलिक मीडिया फेडरेशन के अध्यक्ष जोन मरिया मोन्टेल, सिगनीस के अध्यक्ष हेलेन ओस्मान और सभी व्यवस्थापकों को सारे हृदय से धन्यवाद दिया।

उन्होने कहा,“पिछले साल से, वाटिकन संचार विभाग इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के सह-आयोजक है और 2018 में कार्डिनल पिएत्रो पारोलिन द्वारा संबोधित प्रोत्साहन के शब्दों को याद करते हुए, मैं कलीसिया के मिशन और विकास के लिए काथलिक संचार पेशेवरों के बीच सहयोग और एकात्मकता की भावना के महत्व को दोहराना चाहूँगा।”

2018 संस्करण में 26 देशों के 250 से अधिक पत्रकारों ने भाग लिया; इस वर्ष हमें विश्वास है कि हमारी संख्या बढ़ी है। वाटिकन  संचार विभाग की और से मैं इन अंतर-पेशेवर क्षणों को विकसित करने में योगदान करने की अपनी इच्छा को दोहराता हूँ।

पत्रकारिता और विश्वास

उन्होंने कहा,“हमने कुछ समय पहले, ‘ईसाई प्रेस पर एक नज़र, विश्वास और खुलेपन को संयोजित करने की तत्काल आवश्यकता’ पर जोन वानियर का वीडियो संदेश सुना। सत्य पर उनके शब्द दुनिया के विघटन के लिए एक उपाय के रूप में, इसे वापस लाने और हमें एकता में वापस लाने के तरीको को उजागार करते हैं।  निश्चित रूप से "पत्रकारिता और विश्वास" विषय के लिए समर्पित इन दिनों को शुरू करने के लिए यह एक महत्वपूर्ण बुलावा है।

पत्रकारिताःवास्तविकता को बताना

रुफीनी ने सामाजिक संचार विश्व दिवस के लिए संत पापा फ्राँसिस के संदेश को याद दिलाया जिसका विषय है,“एक दूसरे से सच बोलें क्योंकि हम एक दूसरे के अंग हैं, (इफ 4:25) सामाजिक नेटवर्क समुदाय से मानव समुदाय तक”। संत पापा हमें याद दिलाते हैं कि संचार वास्तविकता में होता है, वास्तविकता को स्वीकार करना, वास्तविकता को पूरा करना एवं वास्तविकता बताना, यह पत्रकारिता है और यही सच्चा संचार है। जब वास्तविकता के झूठे प्रतिनिधित्व के आधार पर झूठी मान्यताओं का निर्माण और प्रसार किया जाता है और यह पत्रकारिता नहीं है। यह सच्चा संचार नहीं है।

संत पापा पॉल छठे कहा करते थे, “अगर हमारे समय के लोग हमें नहीं समझते हैं, तो सच कहने का क्या फायदा है?" इसलिए हम न केवल सच बोलना चाहिए, बल्कि इसे उन लोगों की भाषा में बोलना चाहिए जिससे वे हमारी बातें सुन और समझ सकें।”

मीडिया का चुनाव

आप संचार का उपयोग जोड़ने या तोड़ने के लिए कर सकते हैं।

संत पापा फ्राँसिस हमें लगातार खुद से पूछने के लिए आमंत्रित करते हैं कि हम कैसे संवाद करते हैं; यह हमें खुद से सवाल करने का आग्रह करता है: क्या हमारा संचार एक एक सुखद भविष्य है या ईश्वर के बच्चों के बीच टकराव और संघर्ष लाता है?

रुफीनी ने कहा कि वास्तव में, मीडिया अच्छे और बुरे के बीच चयन करने के लिए हर दिन हमें चुनौती देता है। यह हम में से प्रत्येक पर नर्भर करता है कि हम व्यक्तिगत रुप से और समूह में भी हर बार किस तरह चुनाव करते हैं।

31 January 2019, 16:20