खोज

यूक्रेनी शहर इज़ियम  युद्ध की यावहता का दृश्य यूक्रेनी शहर इज़ियम युद्ध की यावहता का दृश्य   (ANSA)

इज़ियम: यूक्रेन के नारकीय युद्ध के बीच एक यात्रा

रूस के हालिया कब्जे के दौरान दक्षिणपूर्वी यूक्रेनी शहर इज़ियम भयावहता का दृश्य था, भले ही यह शहर 10 सितंबर को मुक्त हो गया था, यह संघर्ष के कारण धराशायी हो गया है, हालांकि स्थानीय निवासी इसके पुनर्निर्माण की बहुत उम्मीद रखते हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 10 दिसंबर 2022 (वाटिकन न्यूज) : "सबको बताओ: युद्ध बेकार है।" एक फर कोट और बेंत हाथ में लिए इज़ियम की सड़कों पर भटकती एक बूढ़ी औरत द्वारा बोले गए कच्चे शब्द शायद एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्तियों पर की गई बुराई के महान रहस्य का एकमात्र संभावित टिप्पणी है।

वह बुराई यातना के लिए इस्तेमाल की जाने वाली रस्सियों और 15 वर्ग मीटर के भूमिगत कमरों का भी रूप ले लेती है, जिसमें आठ लोगों को बंद करके उन्हें एक सिंक में मलत्याग करने के लिए मजबूर किया जाता है। रिश्तेदारों को शवों को निकालने से रोकने के लिए इसमें सामूहिक कब्र में दफन 447 लाशों की बारूदी सुरंगों भी है।

यदि यूक्रेन में संघर्ष की क्रूरता का कोई नाम है, तो वह इज़ियम है। "युद्ध अपराधों की एकाग्रता जिसके बारे में अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन गहन जांच कर रहे हैं," सैन्य और नागरिक अधिकारियों ने पोलिश और यूक्रेनी दूतावासों के साथ परमधर्मपीठ के लिए एक मिशन पर पत्रकारों को बताया।

तबाही का रंगमंच

यूक्रेन के दक्षिण-पूर्व में, डोनेट्स नदी पर स्थित, इज़ियम पर 4 डिग्री से कम तापमान में, मार्च की शुरुआत में कब्जा कर लिया और 10 सितंबर को मुक्त हो गया। यह शहर यातना, तबाही और निर्वासन का दृश्य बन गया था।

यह शहर खार्किव से केवल दो घंटे की दूरी पर है, जो एक अन्य केंद्र है और यूरोप के सबसे बड़े बाजारों में से एक के विस्फोट के लिए प्रसिद्ध हो गया है। हालांकि, खार्किव जहां थोड़े समय में पुनर्निर्माण हुआ है और जहां लोगों को गरजाघऱों और दुकानों में जाते देखा जा सकता है, इज़ियम में युद्ध के घाव अभी भी स्पष्ट हैं।

इज़ियम में एक टूटी हुई खिड़की
इज़ियम में एक टूटी हुई खिड़की

इज़ियम में एक टूटी हुई खिड़की

यह सिर्फ काली और जली हुई अपार्टमेंट इमारतें नहीं हैं, गलियों में मिसाइलों द्वारा बनाई गई खाईयाँ, यहाँ तक कि ऐसे घर भी हैं जिनका केवल मुखौटा ही रह गया है। युद्ध की भयावहता को दिखाता है।

3-6 मई के बम विस्फोटों में एक रॉकेट द्वारा वुल पेरशोत्रवनेवा पर एक इमारत की तीसरी मंजिल एक कोठरी से लटकी जैकेट और शर्ट की तरह दो भागों में विभाजित हो गया, बच्चों के भरवां जानवरों और मिट्टी में पड़े खिलौनों की तरह या यहां तक ​​कि शादी के दिन एक जोड़े की तस्वीरें सड़क के उस पार इमारत के मलबे से बाहर झांकती हैं। यह वास्तव में विशिष्ट सोवियत वास्तुकला का एक बड़ा इमारत था जो मिसाइल से दो भागों में विभाजित हो गई।

बम विस्फोट

दाहिनी ओर के दरवाजे से शॉपिंग बैग लिए एक महिला निकलती है। हो सकता है कि उसने अपनी खुद की वस्तुओं को पुनः प्राप्त किया हो, लेकिन यह भी हो सकता है कि उसने धूल और मिट्टी के बीच बचा हुआ कुछ सामान लिया हो। शायद एक कोट अभी भी धुएँ से काले कमरों में रखा हुआ है।

कौन जानता है कि सड़क के पार खेल के मैदान में स्लाइड पर कौन खेल रहा था। शायद वे दो बच्चे जो विस्फोट में मारे गए थे: "एक आठ का था, दूसरा तीन का," एक पुलिसकर्मी समझाता है। अकेले खेलने के लिए काफी बड़े थे लेकिन 51 अन्य लोगों के साथ मरने के लिए बहुत छोटे। "वे मलबे के नीचे पाए गए।"

कैद

शहर के केंद्र में पुलिस मुख्यालय के तहखाने में अधिक बेजान शव पाए गए। इमारत सेवा योग्य बनी रही और रूसी सैनिकों ने कब्जे के दौरान इसका उपयोग किया, जैसा कि बैरिकेड्स के रूप में इस्तेमाल की जाने वाले ईंटों और सैंडबैगों की पंतियों को देखा जा सकता है।

अंदर तहखाना अंधेरा है। सीवेज, मोल्ड और स्थिर धुएं की तेज गंध है। छत से रस्सियाँ और बिजली के तार लटक रहे हैं, शीशे टूटे पड़े हैं और मार्लबोरो के पैक बूटों के नीचे कुचले गये हैं। केंद्रीय गलियारा बेसमेंट की ओर जाता है। स्थानीय पुलिस प्रमुख द्मित्रो हरंचक बताते हैं, "यह वह जगह है जहाँ कैदियों को रखा गया था।

अत्याचार

जंग लगे लोहे के दरवाजे वाले ग्यारह कमरे, सौ कैदी, दो बिस्तर साझा करने वाले सात या आठ कमरे और शौचालय के रूप में इस्तेमाल होने वाला सिंक। अंदर आप किताबें, घड़ियां, पीले पानी के कनस्तर, कंबल, जूते, एक विंडब्रेकर, अंडरवियर की एक जोड़ी दीवार पर लटके हुए पा सकते हैं। उन कमरों में से एक में यातनाएं दी जाती थीं।

वे सभी नागरिक थे, लेकिन सैन्य कैदी भी थे, युद्ध अपराध अभियोजक मायकोला पेमेन्ज़िव ने पुष्टि की: "छह महिलाओं के बलात्कार के सबूत हैं।" और नीचे एक कमरे की दीवारें अंडे के कार्टन से सजी हुई हैं। वे साउंडप्रूफिंग के लिए बनाये गये थे।

सामूहिक कब्र की खुदाई
सामूहिक कब्र की खुदाई

सामूहिक कब्र

कुछ लाशों को तहखाने में छोड़ दिया गया था, बाकी, बम विस्फोटों और सैन्य कार्रवाइयों के पीड़ितों के साथ, इज़ियम के बाहर शेक्सपियर स्ट्रीट तक पहुँचाया गया जहाँ शहर का कब्रिस्तान है।

वहाँ सितंबर तक, लकड़ी के क्रूस के नीचे काथलिक और ऑर्थोडोक्स 447 शव उस जमीन के नीचे दबे हुए थे: 425 नागरिक, 22 सैनिक। अब जमीन की खुदाई कर शवों को हटाया गया है।

मुड़कर देखने पर खुले ताबूत, खुदे हुए नाम, छोटे-छोटे चित्र और कुछ तस्वीरें दिखाई देती हैं। अधिकारियों ने समझाया कि कुछ क्रूस में नाम के बजाय केवल संख्याएँ होती हैं: 369, 125... ये वे लोग हैं जिनके शरीर की पहचान नहीं की गई है, क्योंकि वे बहुत विकृत हो गये थे।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

10 December 2022, 16:06