खोज

यूक्रेन के कीएव शहर में लोग बिजली नहीं होने के कारण मोमबत्ती की रोशनी में बैठे हैं यूक्रेन के कीएव शहर में लोग बिजली नहीं होने के कारण मोमबत्ती की रोशनी में बैठे हैं  (ANSA)

यूक्रेन ˸ 'लड़ाई से पहले रूस ने खेरसॉन के घरों को लूटा'

यूक्रेन ने रूस पर आरोप लगाया है कि उसने खेरसोन के घरों को लूटा है और सिविल पोशाक में सैनिकों ने उनपर कब्जा किया है। आरोप सोमवार को तब लगाया गया जब संत पापा के शांतिपूर्ण समाधान की अपील के बावजूद दोनों पक्षों ने एक बड़े संघर्ष के लिए तैयारी की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

रूस ने खेरसोन के नागरिकों को शहर छोड़ने के लिए बार-बार चेतावनी दी है कि वे इस पर पुनः कब्जा करने के लिए यूक्रेन पर एक प्रत्याशित हमला करनेवाले हैं। 

खेरसोन एकमात्र क्षेत्र है जो 24 फरवरी को आक्रमण की शुरूआत से लेकर अब तक रूसी कब्जे में है। 

पश्चिमी सैन्य पर्यवेक्षकों का कहना है कि इस पर फिर से कब्जा करना यूक्रेन के लिए प्रतीकात्मक और तार्किक मूल्य होगा क्योंकि रूस चाहता है कि यह क्षेत्र कब्जेवाले क्रीमिया प्रायद्वीप को पानी की आपूर्ति और रूस के लिए एक भूमि पुल को सुरक्षित करे।

यूक्रेनी और रूसी अधिकारियों का कहना है कि खेरसोन, युद्ध से पहले अपनी 3 लाख आबादी के साथ बिजली एवं पानी के बिना ठंढ़ और अंधेरे में है।  

रूसी अधिकारियों ने यूक्रेनियों पर "तोड़फोड़" का आरोप लगाया है और कहा कि वे बिजली बहाल करने के लिए काम कर रहे थे।

कीव ने आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि रूसियों ने 1.5 किलोमीटर (लगभग 1 मील) बिजली लाइनों को नष्ट कर दिया था।

यूक्रेन ने खेरसॉन से हजारों लोगों के क्षेत्र से खाली कराने को "जबरन निर्वासन" और "युद्ध अपराध" बतलाया है। लेकिन मास्को का कहना है कि वह निवासियों को उनकी सुरक्षा के लिए दूर भेज रहा है।

रूसी हवाई हमले

यूक्रेनी अधिकारियों ने कहा कि जब लड़ाई जारी है, रूसी हवाई हमलों के कारण लाखों यूक्रेनी उपभोक्ता बिजली के बिना हैं। 

सरकार ने राजधानी कीव के निवासियों से भी आग्रह किया कि वे इस चिंता के बीच जाने के लिए तैयार रहें क्योंकि अधिक रूसी मिसाइल और ड्रोन हमले वहां पहले से क्षतिग्रस्त बिजली ग्रिड को नष्ट कर सकते हैं।

हांलाकि, रूसी सैनिक, जिनमें बहुत से लोग जिनका जीवन अभी शुरू हुआ है (किशोर) युद्ध में शामिल हैं और यूक्रेन में लड़ने के लिए भेजे गये हैं, वे भी पीड़ित हैं।

जैसे ही यूक्रेनी सेना ने क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया था, कई रूसी सैनिक जल्दबाजी में खेरसॉन क्षेत्र से हट गए थे।

फुटेज से पता चलता है कि घबराई हुई रूसी सेना घायल सैनिकों को निकालने की कोशिश कर रही है क्योंकि यूक्रेनी हमले जारी हैं। लेकिन इसके तुरंत बाद, कुछ भयानक होता है : उनका सैन्य वाहन सड़क के किनारे दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है।

संत पापा ने भी उल्लेख किया था कि युद्ध द्वारा मानव पीड़ा लाखों लोगों का जीवन ले सकता है। 

बहरीन से रोम वापस लौटते समय संत पापा ने पत्रकारों को बतलाया कि उन्हें रूसी और यूक्रेन दोनों लोगों के प्रति प्यार है। उन्होंने स्पष्ट किया था कि वे शांति के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। वाटिकन ने नेताओं से कई सभाएँ की हैं कि वे युद्ध के अंत के लिए मदद कर सकें। 

 

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

08 November 2022, 16:32