खोज

इंडोनेशिया में विश्व महासागर दिवस इंडोनेशिया में विश्व महासागर दिवस  (ANSA)

महासागरों और हमारे भविष्य को बचाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग आधारभूत

विश्व महासागर दिवस पर, 8 जून को विज्ञान के लिए परमधर्मपीठीय अकादमी ने एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया। जिसमें विश्वभर के विशेषज्ञों ने भाग लेकर विचारों एंव समाधानों का आदान-प्रदान किया कि विश्व के महासागरों को किस तरह बचाया जाए, जो मानव की जीविका एवं अस्तित्व के लिए अति आवश्यक है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

8 जून को विश्व महासागर दिवस मनाया जाता है जिसका उद्देश्य है विश्वभर के नागरिकों में सागरों की सुरक्षा के महत्व पर चेतना जागृत करना। इस अवसर पर, समुद्रों और महासागरों के स्वास्थ्य एवं मानवता के वर्तमान और भविष्य में उनकी भूमिका पर, कई विशेषज्ञों ने वाटिकन में एक दिवसीय कार्यशाला में भाग लिया।

कार्यशाला का आयोजन विज्ञान के लिए गठित परमधर्मपीठीय अकादमी ने इटली के एंटोन डोहरन जूलॉजिकल स्टेशन के सहयोग से किया, सभा का उद्देश्य था महासागरों के बचाव हेतु विचारों एवं संभावित समाधानों को साझा करना, साथ ही सतत् विकास के लिए महासागर विज्ञान के संयुक्त राष्ट्र दशक (2021-2030) में योगदान करना।  

खतरे की घंटी

विज्ञान के लिए परमधर्मपीठीय अकादमी ने चेतावनी दी है कि हम "हमारे जीवन की गुणवत्ता पर संभावित प्रभावों के लिए मानवता के इतिहास में अभूतपूर्व अवधि में जी रहे हैं।"

अकादमी ने कहा कि महासागरों एवं सागरों में मानव का प्रभाव आज हमेशा से कहीं अधिक महसूस की जा रही है और यह बढ़ती जायेगी जब लोगों की आबादी इस शताब्दी के अंत में 11 बिलियन हो जायेगी।   

यही कारण है कि उन योजनाओं एवं टिकाऊ अभ्यास को जल्द से जल्द लागू किया जाना चाहिए जिससे कि वैश्विक स्वास्थ्य, ग्रह के पोषण, नवीनीकरणीय ऊर्जा के उत्पादन और खनिज संसाधनों की गारांटी दी जा सके जिसको महासागर प्रदान करते हैं।  

संयुक्त राष्ट्र के महासागर विज्ञान की वहनीयता के दशक की शुरूआत 2021 में हुई और इसका उद्देश्य है संयुक्त राष्ट्र की कार्यसूची 2030 के लक्ष्य तक पहुँचना। जो संत पापा फ्राँसिस के प्रेरितिक विश्व पत्र लौदातो सी से प्रेरित एवं 2015 में पेरिस जलवायु शिखर सम्मेलन में समझौतों में विश्व के नेताओं द्वारा उल्लिखित है।     

एक साथ चलना

वाटिकन में एक दिवसीय सभा ने महासागरों एवं सागरों की स्थिति पर गौर किया तथा वे किस तरह मानव को संभालते और भविष्य में भी संभालेंगे, किस तरह इसे बचाया जा सकता है, किस तरह वैज्ञानिक समुदाय एवं वैश्विक संस्थान सभी की भलाई के लिए एक साथ काम कर सकते हैं आदि पर विचार-विमर्श किया।

 

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

09 June 2022, 16:22