खोज

सूडान में जनप्रदर्शन, तस्वीरः 01.06.2022 सूडान में जनप्रदर्शन, तस्वीरः 01.06.2022  (AFP or licensors)

सूडानः भारी संख्या में लोग गंभीर भूखमरी का सामना कर रहे हैं

बच्चों के अधिकारों को सुरक्षित रखने हेतु काम कर रहे विश्वव्यापी संगठन सेव द चिल्ड्रन ने कहा है कि उत्तरी सूडान के डारफुर में भूख से मरनेवाली दो किशोरियों का किस्सा उस चरम संकट का एक नाटकीय संकेत है जो जल्द ही एक करोड़ अस्सी लाख लोगों को प्रभावित करेगा।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

डारफुर, शुक्रवार, 10 जून 2022 (रेई, वाटिकन रेडियो): बच्चों के अधिकारों को सुरक्षित रखने हेतु काम कर रहे  विश्वव्यापी संगठन सेव द चिल्ड्रन ने कहा है कि उत्तरी सूडान के डारफुर में भूख से मरनेवाली दो किशोरियों का किस्सा उस चरम संकट का एक नाटकीय संकेत है जो जल्द ही एक करोड़ अस्सी लाख लोगों को प्रभावित करेगा।

सूडान में भूख संकट

09 जून को प्रकाशित एक विज्ञप्ति में सेव द चिल्ड्रन ने उक्त बात कही। इसी बीच संयुक्त राष्ट्र संघ का अनुमान है कि सूडान में तीव्र भूख का सामना करने वाले लोगों की संख्या सितम्बर माह तक दुगुनी हो जायेगी।

सेव द चिल्ड्रन ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का आह्वान किया है कि वह सूडान में मानवीय एवं लोकोपकारी सहायताओं को प्राथमिकता दे तथा संकट से प्रभावित बच्चों और उनके परिवारों के लिए तत्काल आवश्यक भोजन और दीर्घकालिक विकास सहायता मुहैया कराने की व्यवस्था करे।

उत्तरी सूडान के डारफुर में इस सप्ताह भोजन न मिलने के कारण दो किशेरियों की मौत हो गई थी, जिसे सेव द चिल्ड्रन ने एक नाटकीय संकेत निरूपित कर सूडान के क्षुधा पीड़ितों को भोजन मुहैया कराने की अपील की है।

कारण युद्ध और ख़राब फसल

संगठन के अनुसार, देश में मंडरा रहा भूख संकट काफी हद तक संघर्ष, आर्थिक संकट और खराब फसल के संयुक्त प्रभावों के कारण है। पिछले 12 महीनों में देश ने अत्यधिक उच्च मुद्रास्फीति दर का सामना किया है, जो औसतन 336% रही है। इसके अतिरिक्त, यूक्रेनी संघर्ष ने सूडान में स्थिति को और अधिक गम्भीर बना दिया है, खाद्य कीमतों में वैश्विक वृद्धि से लाखों ग़रीब परिवारों के लिए भोजन की व्यवस्था करना दुर्गम हो गया है।

सूडान में सेव द चिल्ड्रन के निदेशक अरशद मलिक ने कहा, "उत्तरी सूडान के अल-फशीर में भूख से दो बच्चों की मौत दिल दहला देने वाली है। हम अपने अंतरराष्ट्रीय भागीदारों से बच्चों और परिवारों पर इन गम्भीर प्रभावों को सीमित करने के लिए हर संभव प्रयास करने का निवेदन करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को इस कठिन समय में सूडानी लोगों का तत्काल समर्थन करना चाहिए।"

 

सेव द चिल्ड्रन सूडान के सर्वाधिक प्रभावित पांच राज्यों में खाद्य सुरक्षा कार्यक्रमों के साथ सक्रिय है, जिसमें कृषि उत्पादन के लिए बीज और अन्य वस्तुओं का वितरण, दूध उत्पादन के लिए बकरियां, और प्रत्यक्ष आर्थिक सहायता शामिल हैं।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

10 June 2022, 11:56