खोज

यूक्रेन में संकट यूक्रेन में संकट  (AFP or licensors)

यूक्रेन: एक परमाणु विस्फोट सभी सीमाओं से परे तबाही मचाएगा

रूसी आक्रमण की शुरुआत से नौ दिन बाद, एक यूक्रेनी पत्रकार तित्सियाना ओगारकोवा युद्ध के प्रभावों का वर्णन करती है और एक परमाणु विस्फोट के विनाशकारी परिणामों की चेतावनी देती है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कीव, शनिवार 5 मार्च 2022 (वाटिकन न्यूज) : तित्सियाना ओगारकोवा यूक्रेनियन क्राइसिस मीडिया सेंटर के अंतरराष्ट्रीय खंड में पत्रकार हैं। राजधानी कीव में युद्ध के पहले सप्ताह के बाद, उसने अपने बच्चों और बुजुर्ग माता-पिता को सुरक्षा की तलाश में देश के पश्चिम में अपने गृहनगर ले जाने का फैसला किया। वे संघर्ष में घिरे राष्ट्र की कहानी सुनाना और अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारों के काम को सुविधाजनक बनाना जारी रखती है।

बच्चे को  टूटे पुल को पार करने में मदद करता हुए  सैनिक
बच्चे को टूटे पुल को पार करने में मदद करता हुए सैनिक

वे कहती हैं कि रूसी आक्रमण का नवां दिन एक परमाणु तबाही के संभावित भयानक और दूरगामी परिणामों से भी आगे मौत, विनाश और भय लाया है। उसकी चेतावनी यूक्रेन के ज़ापोरिज़्ज़िया परमाणु ऊर्जा स्टेशन, पर रात के दौरान गोलाबारी के मद्देनजर आई। यूरोप का सबसे बड़े परमाणु संयंत्र अब रूस के हाथों में है।

ओगारकोवा यह भी बताती हैं कि यूक्रेनी सैनिकों की ओर से इस तरह के प्रतिरोध का सामना करने के बाद रूसी सैनिकों के साथ युद्ध एक नए चरण में है।

ओगारकोवा का कहना है कि रूसी योजना दो या तीन दिनों में राजधानी पर कब्जा करने की थी, लेकिन उनके हमले असफल रहे क्योंकि रूसी सेना ने यूक्रेनी सेना की ओर से महत्वपूर्ण लचीलापन को देखा।

नागरिक लक्ष्य

ओगारकोवा ने बताया, “अब हम जो देख रहे हैं, वह यह है कि वे नागरिकों को निशाना बना रहे हैं। आज उन्होंने ज़ाइटॉमिर के एक स्कूल पर बमबारी की, जो एक सामान्य स्कूल है जो बिल्कुल भी सैन्य वस्तु नहीं है, घरों और अन्य भवनों का सैन्य संरचनाओं से कोई संबंध नहीं है, उन्हें निशाना बनाया जा रहा है।"

वे कहती हैं, इसका उद्देश्य दहशत और भ्रम पैदा करना है और जमीन पर, इसे युद्ध के बजाय "आतंकवादी गतिविधि" के रूप में अधिक माना जा रहा है।

गोलाबारी के बाद ज़ापोरिज़्ज़िया परमाणु ऊर्जा संयंत्र
गोलाबारी के बाद ज़ापोरिज़्ज़िया परमाणु ऊर्जा संयंत्र

परमाणु हमले की कोई सीमा नहीं होती

वे रात के दौरान ज़ापोरिज़्ज़िया परमाणु ऊर्जा स्टेशन पर गोलाबारी की बात करती है, जो अब रूसी नियंत्रण में है।

वे कहती हैं, "यह बेहद खतरनाक है। क्योंकि अगर कोई विस्फोट होता है तो यह चेरनोबिल आपदा से बहुत बड़ा होगा, जो पिछली शताब्दी में यूरोप में सबसे बड़ी परमाणु आपदाओं में से एक थी। यह चेरनोबिल विस्फोट से छह गुना अधिक मजबूत होगा।

इस स्टेशन पर अब रूसी सेना का नियंत्रण है और अभी की प्राथमिकता यह कि इस स्थिति को बदलने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी को शामिल करना है।

ओगारकोवा ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से "मिसाइलों, रॉकेटों, रूसी हवाई जहाजों के खिलाफ यूक्रेनी स्काईस्पेस की रक्षा के लिए" हर संभव प्रयास करने के लिए अपनी अपील शुरू की।

यह सिर्फ एक स्थानीय मुद्दा नहीं है

वे दोहराती हैं कि यूक्रेनियन इस मुद्दे की जटिलता और इस अर्थ में अंतरराष्ट्रीय भागीदारी के परिणामों को समझते हैं: "संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए इसका मतलब होगा कि वे रूस के साथ युद्ध में हैं।"

ओगारकोवा ने अपनी राय व्यक्त की कि यद्यपि पश्चिम रूसी संघ के साथ संघर्ष से बचना जारी रखे हुए है, वह संघर्ष अंततः "अपरिहार्य" है, क्योंकि "वे पहले यूक्रेन को नष्ट कर देंगे, लेकिन परमाणु खतरे की कोई सीमा नहीं है। यह यूरोप में हर किसी के लिए एक समस्या होगी, इसलिए इस दुःस्वप्न को रोकने के लिए हमें सब कुछ एक साथ करना होगा।"

भोजन, दवाओं, मूलभूत आवश्यकताओं की कमी बढ़ रही है

ओगारकोवा का कहना है कि देश के पश्चिम में इस समय मूलभूत आवश्यकताओं की कोई कमी नहीं है। लेकिन प्रमुख शहरों में और दक्षिण में और उन सभी जगहों पर जो रूसी सैनिकों से घिरे हुए हैं, हर चीज की कमी है।

वे कहती हैं, "यहाँ संकट गंभीर होता जा रहा है। कीव में दवाई दुकानों के सामने बहुत लम्बी लाइनें थीं। लोगों को एक साधारण दवा के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है और इस संबंध में स्थिति और खराब होने की उम्मीद है।"

लोग थक चुके हैं

ओगारकोवा का कहना है कि लोगों में डर के साथ-साथ थकान भी बढ़ती जा रही है। “हम में से बहुत से लोग थक गए हैं क्योंकि हमने यह सारा समय बिना आराम के बिताया है। हवाई अलर्ट के कारण देश के पश्चिमी हिस्से में भी सोना असंभव है।” वे जहाँ रहती हैं वहाँ रात  समय और बड़े सबेरे सायरन भी बजाया जाता है।

यूक्रेनियन सैन्य प्रशिक्षण में भाग ले रहे हैं
यूक्रेनियन सैन्य प्रशिक्षण में भाग ले रहे हैं

विशाल एकजुटता नेटवर्क

वे कहती हैं, "हम लामबंदी और एकजुटता के विशाल नेटवर्क को देखते हैं।" लोग दूसरों को निकालने में मदद कर रहे हैं और लोग एक क्षेत्रीय रक्षा प्रणाली की स्थापना कर रहे हैं, जो अपने देश की रक्षा के लिए हथियार उठाना सिखा रहे हैं।

वे यह भी कहती है कि हर शहर और गाँव में चौकियाँ हैं, जहाँ लोग दस्तावेजों और कारों को नियंत्रित करते हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोई रूसी घुसपैठिया न हो।

ओगारकोवा कहती हैं कि  यह आबादी की चरम लामबंदी है, लेकिन बड़ी थकान का क्षण भी है और जीवन के सभी क्षेत्रों से यूक्रेनियन अंतरराष्ट्रीय समर्थन मांग रहे हैं, "विशेष रूप से हवाई सुरक्षा के मामले में, जो यूक्रेन के लिए सुरक्षित आसमान प्रदान करने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। ।"

वे अंत में कहती हैं, "रूसी सेना शहरों पर गोलाबारी कर रही है और यह हमें बिना किसी संदेह मानवीय तबाही की ओर ले जाएगा।"

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

05 March 2022, 14:51