खोज

Vatican News
अफगानिस्तान में युद्ध की स्थिति से त्रस्त लोग अफगानिस्तान में युद्ध की स्थिति से त्रस्त लोग  (AFP or licensors)

अफगानिस्तान शरणार्थियों की संख्या में बढ़ोतरी

अफगानिस्तान में युद्ध के कारण लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।

दिलीप संजय  एक्का-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 16 अगस्त 2021 (रेई) “करीबन बीस सालों के युद्ध में अनगिनत मानवीय त्रासदी और अरबों यूरो खर्च करने के बाद, अमेरिकी सशस्त्र बलों की वापसी ने अफगानिस्तान की स्थिति को दुःख के गर्त में ढ़केल दिया है” उक्त बातें इतालवी कारितास ने अफगानिस्तान की वर्तमान स्थिति को देखते हुए कहा, जहाँ अमेरिकी सेना की वापसी उपरांत हथियार बंधों ने देश को अपने अधिकार में ले लिया है।

देश की मौजूदा हालात और खबरों के अनुसार कल तालिबानी लड़ाकों ने अफगानिस्तान की राजधानी काबूल और राष्ट्रपति भवन को अपने अधिकार में कर लिया। इतालवी कारितास ने कहा, “हमेशा की भांति, युद्धों का दंश सदैव कमजोरों को झेलना पड़ता है। देश में युद्धग्रस्त इलाकों से हजारों लाखों की संख्या में लोगों को पलायन का शिकार होना पड़ा है जिसमें राजदूतावास में कार्यारत लोग, पुरोहित और धर्मबंधुगण शामिल हैं।” युद्धग्रस्त क्षेत्रों से लाखों की तादाद में लोगों के पलायन ने सीमावर्ती देशों में दबाव की स्थिति उत्पन्न कर दी है। पाकिस्तान, कारितास अफगानिस्तान के साथ सीमा पर क्वेटा क्षेत्र में स्थिति का आकलन शुरू करेगा।

इतालवी कारितास ने बात का उजागर किया “ख्रीस्तियों का समुदाय अपने में छोटा लेकिन महत्वपूर्ण है जिसने हाल के वर्षों में सबसे गरीब और सबसे कमजोर वर्गों के लोगों की देख-रेख की है।” वे नब्बे के दशक से देश में शामिल हैं और 2000 के शुरु से, एक बड़े पुनर्वास और विकास के कार्यक्रम में अपने को सम्मिलित किया है जिसके तहत घोर घाटी में चार स्कूलों का निर्माण करते हुए गरीबों के लिए 100 पारंपरिक आवास की व्यवस्था की जिससे पंशीर घाटी में करीबन 483 शरणार्थी परिवारों को मदद मिली है जिसमें विकलांग और अत्यंत गरीब लोग शामिल हैं।

जून 2004 से लेकर दिसंबर 2007 के बीच, इतालवी कारितास के दो कार्यकर्ता दलों ने गतिविधियों के समन्वय और सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से देश में कदम रखा जिससे सबसे अधिक कमजोर नाबालिगों की सहायता की जा सके। अराजकता की स्थिति ने कारितास के कार्यों में बाधा उत्पन्न किया है जो भविष्य में उनकी उपस्थिति की संभवानाओं को भी कम करती है, वहीं यह कुछ अफगानियों के लिए सुरक्षा के भय उत्पन्न करती है जिन्होंने ईसाई संप्रदाय का आलिंगन किया है। 

16 August 2021, 15:29