खोज

Vatican News
अमेरिका में शरण  की अपील करने वाले  क्यूबा के प्रवासी अमेरिका में शरण की अपील करने वाले क्यूबा के प्रवासी  

दुनिया के लगभग 5 प्रतिशत कार्यबल अंतरराष्ट्रीय प्रवासी, आईएलओ

संयुक्त राष्ट्र अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 2019 में अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की संख्या में 5 मिलियन की वृद्धि हुई।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

न्यूयार्क, शनिवार,3 जुलाई 2021 (वाटिकन न्यूज) : संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, 2019 में अंतर्राष्ट्रीय प्रवासी श्रमिकों की संख्या 164  मिलयन से बढ़कर 169 मिलियन हो गई, जो दुनिया के प्रत्येक 20 कार्यकर्ता में से 1 है। बुधवार को जारी  अतरराष्ट्रीय प्रवासी कार्यकर्ताओं पर आईएलओ ग्लोबल एस्टीमेट्स के अध्ययन में विदेशों में अवसरों की तलाश करने वाले युवाओं की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई।

मेजबान देशों में प्रमुख योगदानकर्ता

अक्सर, ये प्रवासी श्रमिक स्वास्थ्य, परिवहन, सेवाओं, कृषि और खाद्य प्रसंस्करण जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। आईएलओ के कार्य और समानता विभाग के निदेशक मानुएला टोमेई ने कहा, "हमने देखा है कि कई क्षेत्रों में, प्रवासी श्रमिक कार्यबल के एक बड़े हिस्से का प्रतिनिधित्व करते हैं। वे निश्चित रूप से अपने मेजबान देशों की अर्थव्यवस्थाओं और समाजों में योगदान दे रहे हैं, लेकिन प्रेषण के माध्यम से अपने घरेलू देशों की भी मदद कर रहे हैं।"

आईएलओ के अध्ययन अनुसार,जिसने 189 देशों से डेटा एकत्र किया, “कोविड -19 संकट ने विशेष रूप से महिला प्रवासी श्रमिकों की कठिनाईयों को और बढ़ा दिया है, क्योंकि वे कम-भुगतान और कम-कुशल नौकरियों में अधिक प्रतिनिधित्व करती हैं और सामाजिक सुरक्षा तक सीमित पहुंच और समर्थन सेवाओं के लिए कम विकल्प हैं।”

मुख्य रूप से एक पुरुष प्रधान

16.9 करोड़ अंतरराष्ट्रीय प्रवासी कामगारों में से 58 फीसदी पुरुष हैं, यानी 70 मिलियन महिलाओं की तुलना में 99 मिलियन पुरुष हैं। इनमें से अधिकांश पुरुष उद्योगों में काम पाते हैं, इसके बाद निर्माण क्षेत्र में काम होता है, जिसमें तीन में से लगभग दो प्रवासी काम करते हैं। अन्य सात प्रतिशत विदेशी श्रमिक खेती का काम करते हैं।

स्वास्थ्य सेवाओं और घरेलू काम में महिला प्रवासी कामगारों की अधिक संख्या वाले क्षेत्रों के बीच पर्याप्त लिंग भेद मौजूद हैं। आईएलओ ने कहा कि यह आंशिक रूप से स्वास्थ्य और घरेलू काम सहित देखभाल अर्थव्यवस्था में बढ़ती श्रम मांग से समझाया जा सकता है।

वैश्विक वितरण पैटर्न

यूरोप और मध्य एशिया में 63.8 मिलियन और अमेरिका में अन्य 43.3 मिलियन के साथ, तीन में से दो अंतरराष्ट्रीय प्रवासी श्रमिक उच्च आय वाले देशों में केंद्रित हैं। अरब राज्य, एशिया और प्रशांत में गर देश में लगभग 24 मिलियन प्रवासी श्रमिक हैं, जबकि अफ्रीका में 13.7 मिलियन प्रवासी श्रमिक हैं, जो कुल 8.1 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करते हैं।

आईएलओ ने कहा कि 15 से 24 वर्षीय श्रमिकों की हिस्सेदारी बढ़ी है। 2017 में 8.3 प्रतिशत से 2019 में 10.0 प्रतिशत तक, कई विकासशील देशों में उच्च बेरोजगारी दर और बढ़ती जनसांख्यिकीय प्रवृत्ति को दर्शाती है। हालांकि, बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक (86.5 प्रतिशत) 25 से 64 वर्ष की आयु के वयस्क हैं।

आईएलओ  रिपोर्ट से लाभ

यह आईएलओ का अंतर्राष्ट्रीय प्रवासी कामगारों पर वैश्विक अनुमान का तीसरा संस्करण है। संयुक्त राष्ट्र एजेंसी को उम्मीद है कि इसकी सामयिक रिपोर्ट देश, क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर सतत विकास लक्ष्य प्राप्त करने के साथ-साथ नीति निर्माण में योगदान देने में मदद करेगी। अपने प्रवासी श्रमिक कार्यबल पर विश्वसनीय आंकड़ों को संकलित करने वाले देशों के मूल्य पर प्रकाश डालते हुए, आईएलओ का कहना है कि इससे उन्हें "श्रम आपूर्ति और मांग में बदलाव का जवाब देने, नवाचार और सतत विकास को प्रोत्साहित करने और स्थानांतरण और कौशल अपडेट" करने में मदद मिलेगी।

 

03 July 2021, 14:24