खोज

Vatican News
यांगून में लोग ऑक्सीजन भरवाने के लिए  लाइन में इन्तजार करते हुए यांगून में लोग ऑक्सीजन भरवाने के लिए लाइन में इन्तजार करते हुए  (HA)

महामारी ने एशिया पर अपनी घातक पकड़ मजबूत की

आशा, एकजुटता और न्याय के प्रयासों के साथ-साथ कोविड -19 और संघर्ष एशियाई देशों को जकड़े हुए हैं। म्यांमार में सैन्य शासन द्वारा घातक महामारी के कुप्रबंधन के कारण देश मानवीय तबाही के कगार पर है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

म्यांमार, सोमवार 26 जुलाई 2021 (उका न्यूज) : म्यांमार के पाथेन में एक 67 वर्षीय काथलिक धर्माध्यक्ष जॉन हसने हगी की कोविद -19 से मृत्यु हो गई। पर्यवेक्षकों को डर है कि सैन्य शासन द्वारा घातक महामारी के कुप्रबंधन के कारण देश मानवीय तबाही के कगार पर है। कलीसिया के अधिकारियों ने कहा कि दिवंगत धर्माध्यक्ष 16 जुलाई से अस्वस्थ महसूस करने के बाद आत्म-अलगाव में अपने कमरे में रहे थे। वे मधुमेह से भी पीड़ित थे और उनकी मृत्यु से एक रात पहले ऑक्सीजन का स्तर कम हो गया था।

वे म्यांमार में कलीसियाई नेताओं के बीच सबसे सक्रिय इंटरनेट उपयोगकर्ताओं में से एक थे और दैनिक मिस्सा समारोह, प्रार्थना, उपदेश और नोवेना के माध्यम से आध्यात्मिक पोषण प्रदान करने के लिए इंटरनेट का उपयोग करते थे। वे म्यांमार के 247 लोगों में शामिल थे, जिनकी गुरुवार 22 जुलाई को कोरोनावायरस से मृत्यु हो गई।

हिंसा को समाप्त करने की अपील

फरवरी में सत्ता हथियाने वाले सैन्य जुंटा द्वारा कुप्रबंधन के बाद ऑक्सीजन की कमी और भारी अस्पतालों के बीच म्यांमार को तीसरी लहर का सामना करना पड़ रहा है। फिर भी सरकार ने तख्तापलट का विरोध करने और बड़े पैमाने पर सविनय अवज्ञा आंदोलन में शामिल होने के लिए डॉक्टरों और नर्सों सहित स्वास्थ्य कर्मियों पर कार्रवाई जारी रखा है। म्यांमार ने कोविड -19 के 247,000 से अधिक मामले दर्ज किए हैं और 5,800 मौतें हुई हैं। काथलिक नेताओं ने हिंसा को समाप्त करने और पीड़ितों के लिए अधिक मदद की अपील की है।

इंडोनेशिया में कोविड -19 संकट

काथलिक जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं। इंडोनेशिया एशिया में कोविड -19 संकट का केंद्र बन गया है। योग्याकार्टा विशेष क्षेत्र में सेल्मन जिले में संत चार्ल्स बोर्रोमेयो की धर्मबहनें कोविड रोगियों के लिए एक मुफ्त अलगाव केंद्र के रूप में अपना प्रशिक्षण गृह देने की पेशकश की है। केंद्र 82 स्व-निहित कमरों में स्वास्थ्य निगरानी उपकरणों के साथ 164 लोगों को समायोजित कर सकता है। पश्चिम जावा प्रांत के बांडुंग धर्मप्रांत में संत जॉन बपतिस्ता पल्ली के पल्लीवासी "एक दूसरे के लिए भोजन स्टाल" नामक एक कार्यक्रम के माध्यम से स्थानीय लोगों के लिए मुफ्त भोजन उपलब्ध कराने के लिए स्ट्रीट फूड स्टॉल मालिकों के साथ काम कर रहे हैं।

26 July 2021, 14:57