खोज

Vatican News
सिंधुपालचोक में बाढ़ सिंधुपालचोक में बाढ़ 

नेपाल,भूटान में बाढ़, दर्जनों लोगों की मौत, अनेक लापता

हिमालयी देशों में मानसून की बारिश और अचानक आई बाढ़ ने दर्जनों लोगों को बहा ले लिया और अनेक लापता हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

काठमांडू, शनिवार, 19 जून 2021(उका न्यूज) : नेपाल में कम से कम 10 और भूटान में 10 अन्य लोगों के मारे जाने की आशंका है, जबकि हिमालयी देशों में विनाशकारी बाढ़ और भूस्खलन के कारण अभी भी कई लोग लापता हैं।

नेपाल में बाढ़

माना जाता है कि 16 जून को तिब्बत की सीमा से लगे एक ऊंचे क्षेत्र में मूसलाधार बारिश और हिमनदों के फटने से अचानक आई बाढ़ ने नेपाल की राजधानी काठमांडू से लगभग 70 किलोमीटर दूर के सिंधुपालचोक जिले की बस्तियों, पुलों और अन्य बुनियादी ढांचे को बहा ले गया।  स्थानीय मीडिया के मुताबिक मरने वालों में एक भारतीय और दो चीनी कामगार शामिल हैं। प्रभावित क्षेत्रों में तेजी से बहने वाले बाढ़ के पानी में कई लोग बह गए।  नेपाल की सेना और पुलिस द्वारा बचाव प्रयास में करीब 70 लोगों को बचा लिया गया है जबकि कई का पता नहीं चल सका है।

भूस्खलन से इंद्रावती नदी के अवरुद्ध होने की चेतावनी के बाद मेलमची बाजार से हजारों लोग सुरक्षित स्थानों पर पहुंच गए। सबसे बुरी तरह प्रभावित बस्तियों में इंद्रावती नदी के तट पर मेलमची नगर पालिका, हेलम्बु ग्रामीण नगर पालिका, पचपोखरी थांगपाल ग्रामीण नगर पालिका और इंद्रावती ग्रामीण नगर पालिका शामिल हैं।

द हिमालयन टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, नेपाल के स्वास्थ्य मंत्री और सिंधुपालचोक जिले के एक सांसद शेर बहादुर तमांग ने कहा कि उच्च पर्वतीय इलाकों में कई भूस्खलन के कारण आधा जिला प्रभावित हुआ है। आज जब हम त्रासदी के बारे में सुनते हैं तो हमारा दिल लया के लोगों के साथ है। तमांग ने कहा, "मेलमची बाजार से करीब 30 किलोमीटर दूर, भूस्खलन ने नदी को अवरुद्ध कर दिया है, जिसके परिणामस्वरूप एक बड़ा बांध बन गया है। नदी अंततः बांध को तोड़कर बस्तियों में चली गई।"

नेपाल में, इंद्रावती नदी और नारायणी नदी (जिसे काली गंडकी नदी के रूप में भी जाना जाता है) सहित प्रमुख नदियाँ खतरनाक स्तरों से ऊपर बह रही हैं, जिससे आगे बाढ़ की आशंका बढ़ रही है और सरकार लोगों को सुरक्षित स्थान पर सामुदायिक आश्रयों में स्थानांतरित करने का आग्रह कर रही है।

मेलीमेखी नदी में बाढ़
मेलीमेखी नदी में बाढ़

भूटान में बाढ़

भूटान में, ग्रामीणों का एक समूह बाढ़ के पानी में बह गया। वे राजधानी थिम्पू से लगभग 60 किलोमीटर उत्तर में लाया के पास अपने शिविर में सो रहे थे, जहां वे कॉर्डिसेप्स, दवा में इस्तेमाल होने वाले कुकुरमुत्ता को इकट्ठा कर रहे थे। कुछ 10 लोगों की मौत हो गई और पांच घायल हो गए।

बचाव अभियान

दूरदराज के इलाकों में बचाव अभियान पर सशस्त्र बलों को तैनात किया गया था। प्रधान मंत्री लोटे शेरिंग ने कहा, "हमारा दिल आज लाया के लोगों के साथ है क्योंकि हम उस त्रासदी के बारे में सुनते हैं जिसने हाइलैंड्स में कॉर्डिसेप जमाकरने वाले एक समूह को मारा। मैं लाया के शोक संतप्त परिवारों और समुदाय के लिए प्रार्थना और संवेदना व्यक्त करने में राष्ट्र के साथ शामिल होता हूँ। साथ ही, मैं पूरे देश में सभी से आग्रह करता हूँ कि वे नदी के किनारे या शिविर में जाने से बचें और मानसून के दौरान इस तरह की संभावित दुर्घटनाओं से सावधान रहें।”

19 June 2021, 15:38