खोज

Vatican News
डब्ल्यूएचओ का कोवैक्स टीका तिमोर-लेस्ते की राजधानी दिलि  पहुँचा  डब्ल्यूएचओ का कोवैक्स टीका तिमोर-लेस्ते की राजधानी दिलि पहुँचा   (ANSA)

गरीब देशों के पास वैक्सीन की आपूर्ति नहीं, डब्ल्यूएचओ की चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि कोवाक्स साझाकरण कार्यक्रम के माध्यम से खुराक प्राप्त करने वाले आधे से अधिक गरीब देशों के पास जारी रखने के लिए पर्याप्त आपूर्ति नहीं है। अफ्रीका और लैटिन अमेरिका में कई देशों में संक्रमण में वृद्धि देखी जा रही है।

माग्रेट सुनीता मिंज- वाटिकन सिटी

जेनेवा, बुधवार 23 जून 2021 (वाटिकन न्यूज) : डब्ल्यूएचओ के एक वरिष्ठ सलाहकार ब्रूस आयलवर्ड ने एक ब्रीफिंग में कहा कि आधे से अधिक गरीब देशों के पास अभी अपने टीकाकरण कार्यक्रमों को बनाए रखने में सक्षम होने के लिए पर्याप्त टीके की आपूर्ति नहीं है और उनमें से कई पूरी तरह से समाप्त हो गए हैं।

टीकों में मौजूदा कमी आंशिक रूप से निर्माण में देरी और भारत से आपूर्ति में व्यवधान के कारण होती है, जो दुनिया में टीकों का सबसे बड़ा उत्पादक है, लेकिन जो खुद कोविड -19 के बढ़ते मामलों से संघर्ष कर रहा है। आंकड़े बताते हैं कि दुनिया में वितरित किए गए सभी कोविड टीकों में से दो प्रतिशत से भी कम वैक्सीन कम आय वाले देशों में गए हैं।

कोवैक्स के माध्यम से दान

वैश्विक वैक्सीन आपूर्ति पर बढ़ते दबाव के साथ, अतिरिक्त खुराक वाले कुछ धनी देश कोवैक्स और अन्य माध्यमों से दान बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं। सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन के प्रशासन ने जरूरतमंद देशों को 55 मिलियन वैक्सीन खुराक दान करने की घोषणा की। ये टीके प्रमुख आर्थिक शक्तियों के हालिया जी7 शिखर सम्मेलन में राष्ट्रपति बिडेन द्वारा की गई 500 मिलियन खुराक की पूर्व प्रतिज्ञा के अतिरिक्त हैं।

हालांकि अभियान चलाने वालों ने गरीब देशों को पर्याप्त टीके नहीं देने और उनके हस्तांतरण में बहुत धीमी गति के लिए धनी देशों की आलोचना की है। कई लोग यह तर्क देते हुए कोविड टीकों के बौद्धिक संपदा अधिकारों याने पेटेंट पर छूट की मांग कर रहे हैं, कि दुनिया भर के देशों को वायरस के लिए अपने स्वयं के टीके बनाने और वितरित करने के लिए सशक्त होने की आवश्यकता है।

संत पापा की एकजुटता की अपील

संत पापा फ्राँसिस उन लोगों में शामिल हैं जिन्होंने टीकों की सार्वभौमिक पहुंच सुनिश्चित करने के लिए कोविड टीकों के बौद्धिक संपदा अधिकारों को अस्थायी रूप से निलंबित करने का आग्रह किया है। हाल ही में वैक्स लाइव कॉन्सर्ट में एक वीडियो संदेश में संत पापा ने निंदा करते हुए "व्यक्तिवाद का वायरस" कहा जो हमें "दूसरों की पीड़ा के प्रति उदासीन" बनाता है।

उन्होंने कहा, "बंद राष्ट्रवाद", जो पहले किसी के नागरिकों के लिए चिंता का विषय नहीं है, बल्कि दूसरों के लिए चिंता की कमी भी है, इस "व्यक्तिवाद के वायरस" का "एक प्रकार" है। संत पापा ने चेतावनी दी कि जब "हम बाजार के कानूनों या बौद्धिक संपदा अधिकारों को प्रेम के नियमों और मानवता के स्वास्थ्य से ऊपर रखते हैं, तो लोगों को दुख सहना पड़ता है।"

23 June 2021, 15:31