खोज

Vatican News
पोर्ट एव प्रिंस के एक सड़क में  आते जाते लोग पोर्ट एव प्रिंस के एक सड़क में आते जाते लोग  (AFP or licensors)

कोविद-संकट ने हैती में गरीबी को और बढ़ाया

"फाउंडेशन रावा" के फादर रिचर्ड फ्रीचेट बताते हैं कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में गिरावट ने कैरेबियाई राष्ट्र हैती की आर्थिक स्थिति को बदतर बना दिया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

पोर्ट एल प्रिंस, शनिवार 17 अप्रैल 2021 (वाटिकन न्यूज) : गैर-लाभकारी संगठन "फाउंडेशन रावा" ज्यादातर ज़रूरतमंद लोगों के लिए आपातकालीन सहायता प्रदान करता है, लेकिन साथ ही आजीविका के निर्माण में गरीब लोगों के समर्थन के लिए दीर्घकालिक कार्यक्रमों को बढ़ावा देता है।

फादर रिचर्ड फ्रेचेट, एक पुरोहित और चिकित्सक हैं, इनके काम हैती में फाउंडेशन द्वारा समर्थित है। फादर रिचर्ड ने दुनिया के सबसे गरीब देशों में से एक हैती में महामारी के प्रभावों के बारे में वाटिकन न्यूज़ से बातें कीं।

फादर फ्रीचेट ने कहा, "मेरे अनुभव में कोरोनावायरस ने हैती में लोगों की स्थिति को नकारात्मक रूप से प्रभावित किया है, मुख्य कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था का गिरना है।"

उन्होंने इस तथ्य पर प्रकाश डाला कि विदेशों से प्राप्त धन "दान" नहीं है। उन्होंने कहा कि वे संगठन द्वारा उपयोग की जाने वाली सब्सिडी की तरह हैं "कुछ ऐसा काम शुरु करना जो लोगों के लिए वास्तव में अच्छा और फायदेमंद है, छोटे व्यवसाय जो लोगों को जीने में मदद करते हैं।”

वैश्विक आर्थिक पतन के कारण दान में "भारी" कमी को ध्यान में रखते हुए, फादर फ्रीचेट ने कहा, "यह हमारा अनुभव है और मुझे यकीन है कि दुनिया भर में कोविद -19 के कारण गरीबी और कठिनाई में वृद्धि हुई, जो वैश्विक अर्थव्यवस्था के पतन का कारण बना।"

17 April 2021, 14:07