खोज

Vatican News
शहबाज़ भट्टी शहबाज़ भट्टी  

शहबाज़ भट्टी - मानव गरिमा और अंतर-विश्वास संवाद के पैरोकार

पाकिस्तान के शाहबाज़ भट्टी की हत्या की 10 वीं वर्षगांठ पर, पॉल भट्टी उन मूल्यों को याद करते हैं, जिनके लिए उनके भाई ने अपना जीवन समर्पित किया था।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

इटली, बुधवार 3 मार्च 2021 (वाटिकन न्यूज) : आज से 10 साल पहले पाकिस्तानी काथलिक अधिकारों के पैरोकार और अल्पसंख्यकों के संघीय मंत्री शहबाज भट्टी की हत्यारों ने गोली मार कर सदा के लिए सुला दिया था। 2 मार्च 2011 को, शहबाज़ इस्लामाबाद में अपनी माँ से मुलाकात करने के बाद काम करने के रास्ते में थे, तब उनकी कार को अज्ञात बंदूकधारियों ने गोलियों से छलनी कर दिया था। जब उनकी मृत्यु हुई तब वे 42 वर्ष के थे।

"तालिबान अल-कायदा पंजाब" द्वारा हत्या के स्थान में पम्फलेट को पीछे छोड़ दिया गया था, जिसमें शाहबाज को "ईसाई काफिर" बताया गया था। उसकी गलती?  उन्होंने अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी और पाकिस्तान के विवादास्पद ईश निंदा कानूनों का विरोध किया, जिसमें मुहम्मद की निंदा करने वाले को मौत की सजा और कुरान के खिलाफ निंदा करने वाले को आजीवन कारावास की सजा का प्रवधान था।

शाहबाज़ ने विशेष रूप से काथलिक महिला आशिया बीबी का बचाव किया, जिसे 2010 में ईश निंदा के आरोप में मौत की सजा दी गई थी। पंजाब प्रांत के राज्यपाल, प्रमुख राजनेता सलमान तासीर को भी उसी साल जनवरी में गोली मार दी गई थी। उन्होंने पाकिस्तान के ईश निंदा कानूनों और आशिया बीबी के लिए स्वतंत्रता की समीक्षा करने का आह्वान किया था।

मानवीय गरिमा और अधिकारों का सम्मान

शाहबाज़ के बड़े भाई, पॉल भट्टी, एक सर्जन हैं जो इटली में अपनी सेवा देते हैं। वाटिकन न्यूज के साथ फोन पर बात करते हुए, पॉल ने कहा कि अपने भाई की हत्या की 10वीं वर्षगांठ पर, उन्होंने विशेष रूप से न केवल पाकिस्तान बल्कि दुनिया भर में सभी के अधिकारों की ओर से अपने भाई की सक्रियता को याद किया।

पॉल ने कहा कि शाहबाज की "मुख्य विचारधारा और संघर्ष यह था कि लोगों की मान्यताओं और धर्मों के बावजूद मानवीय मूल्यों और गरिमा को सम्मानित किया जाना चाहिए।"

शिक्षा

ऐसा करने में, शाहबाज़ का “मुख्य ध्यान शिक्षा पर” था। पॉल ने बताया कि कई शिक्षण संस्थानों में, "नफरत और  विभाजन का संदेश बच्चों के दिमाग में डाला जाता है, इसलिए वे इस तरह की नफरत के साथ बड़े होते हैं," अन्य धर्मों के लोगों की उपेक्षा करते हैं। यही कारण है कि "हिंसा, आतंकवाद, उग्रवाद और कट्टरता" देशों में इतना विकसित हो गया है कि यह न केवल पाकिस्तान के अल्पसंख्यक समुदायों के लिए बल्कि दुनिया के बाकी हिस्सों के लिए भी एक समस्या बन गयी है। उन्होंने कहा कि यह ऐसी समस्या है जिसे ठीक से संबोधित किया जाना चाहिए।

शहबाज का यह संदेश आज भी प्रासंगिक है, न केवल पाकिस्तान में शांति के लिए, बल्कि पूरे विश्व में शांति के लिए। इसलिए, सभी लोगों को एक साथ खड़े होने और स्कूलों तथा समाजों से घृणा सामग्री को खत्म करने के लिए हर संभव प्रयास करने की आवश्यकता है। यह कुछ ऐसा है जो न केवल अन्य लोगों के लिए मान्य है, बल्कि उन लोगों के लिए भी है जो दूसरों से नफरत करने के लिए बहकाये जाते हैं।

अंतर-धार्मिक संवाद

इस संबंध में, पॉल ने कहा कि उनका भाई संवाद का एक बड़ा समर्थक था। शाहबाज़ के अनुसार, समाज में या देश में सभी संघर्षों को हल करने के लिए संवाद"एकमात्र, सर्वोच्च विधि" थी। वह विशेष रूप से अंतर-धार्मिक संवाद में विश्वास करते थे क्योंकि यह हर धर्म का सम्मान करता है। शाहबाज़ के दोस्तों में कई “गैर-विश्वासी” भी थे, उनका भी उसने सम्मान किया।

सद्भाव

तो इस संबंध में उनका मुख्य कार्य सद्भाव का संदेश देना था - कि प्रत्येक मनुष्य का सम्मान किया जाना चाहिए, और यह विश्वास तो हम में से प्रत्येक का व्यक्तिगत मामला है।

किसी एक के विश्वास की परवाह किए बिना, सभी जिम्मेदारियों में से एक है, मानव सम्मान और सभी के मूल अधिकारों का आदर और सम्मान करना है। इस संदेश और विचारधारा के आधार पर, पॉल ने कहा, शाहबाज़ ने पाकिस्तान में अंतर-धार्मिक संवाद को बढ़ावा दिया। उन्होंने कई समितियों और आंदोलनों की शुरुआत की और सभी धर्मों के बहुत सारे लोगों से मुलाकात की, इस मुद्दे पर उसने बहुत समय समर्पित किया। पॉल ने कहा कि ऐसे कई लोग हैं जो इस विचारधारा का अनुसरण कर रहे हैं और अंतर-धार्मिक संवाद को बढ़ावा दे रहे हैं।

03 March 2021, 14:37