खोज

Vatican News
हौथी विद्रोहियों  के ताबूत ले जाते हुए उनके रिश्तेदार हौथी विद्रोहियों के ताबूत ले जाते हुए उनके रिश्तेदार  (ANSA)

यमन:मारिब प्रांत में भारी झड़पों में दर्जनों लोग मारे गए

सप्ताहांत में यमन के तेल समृद्ध मारिब प्रांत में भारी लड़ाई से कई हताहत हुए। युद्ध को समाप्त करने के लिए शांति प्रयासों पर संदेह जताया गया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

यमन, सोमवार 15 फरवरी 2021 (वाटिकन न्यूज) : यमन के मारिब प्रांत में हिंसा के एक सप्ताह के दौरान रविवार को सरकारी सैनिकों और हौथी विद्रोहियों के बीच रात भर हुई झड़पों में कई दर्जन लोग मारे गए।

इससे पहले फरवरी में, हौथी विद्रोहियों ने देश की राजधानी साना से लगभग 120 किलोमीटर पूर्व में स्थित तेल समृद्ध मारिब प्रांत को जब्त करने के लिए एक आक्रामक संघर्ष शुरूआत की थी। संघर्ष में विद्रोहियों को हालांकि कड़े प्रतिरोध का सामना किया और परिणामस्वरूप ज्यादातर हौथी हताहत हुए।

विशेषज्ञों का कहना है कि ताजा हमले ने देश में हिंसा को खत्म करने की दिशा में युद्धरत पक्षों के बीच बातचीत को फिर से शुरू करने के संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व वाले प्रयासों पर संदेह जताया है।

लंबे समय से चल रहा संघर्ष

2014 में यमन में हिंसा तब भड़की जब ईरानी समर्थित हौथी विद्रोहियों ने राजधानी और देश के उत्तर के एक महत्वपूर्ण हिस्से को जब्त कर लिया। महीनों बाद, सऊदी के नेतृत्व वाले, यूएस-समर्थित मिशन ने विद्रोहियों को हटाने और देश की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त सरकार को बहाल करने के लिए हस्तक्षेप किया।

यमन के लंबे समय से चल रहे संघर्ष ने अब तक लगभग 130,000 लोगों को मार डाला है, लाखों लोगों को विस्थापित किया है और इसके कारण संयुक्त राष्ट्र ने इसे दुनिया के सबसे खराब मानवीय संकट कहा है।

मारिब

विद्रोहियों ने 2020 की शुरुआत से ही मारिब की ओर मार्च किया है, शहर पर हमला किया और आबादी को संकट में डाला। विशेषज्ञों का कहना है कि सऊदी अरब की दक्षिणी सीमा को बंद करने और संभावित शांति वार्ताओं में लाभ उठाने वाले तेल क्षेत्रों पर नियंत्रण रखने के लिए मारिब पर नियंत्रण रखने की कोशिश की जा रही है।

हमलों के कारण, सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन ने मारिब के आसपास के रेगिस्तान में काफिले को आगे बढ़ाया। उन्होंने सरकार के नियंत्रण वाले प्रांतों तइज़ और शबवा से ज़मीन सुदृढ़ीकरण में भी सेना को भेजा।

समाचार सूत्र बताते हैं कि पिछले दो दिनों में 48 से अधिक लड़ाके मारे गए और 120 से अधिक घायल हो गए, जिनमें से अधिकांश हौथी विद्रोही हताहत हुए हैं।

संघर्ष के प्रभाव

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों के एक बयान में शुक्रवार को कहा गया कि संघर्ष के कारण लगभग 400,000 बच्चे इस साल गंभीर या तीव्र कुपोषण के तात्कालिक खतरे का सामना कर रहे हैं, जिसे आगे चलकर कोविद -19 महामारी ने और बढ़ा दिया है। संयुक्त राष्ट्र ने यह भी चिंता व्यक्त की कि 1.2 मिलियन गर्भवती या स्तनपान करने वाली माताओं को 2021 में चरम कुपोषण का खतरा है।

संयुक्त राष्ट्र के दूत मार्टिन ग्रिफिथ्स ने पिछले हफ्ते कहा था कि वह "विशेष रूप से नए कूटनीतिक गति" के समय देश में हो रहे संधर्ष के बारे में "बेहद चिंतित" है।

15 February 2021, 14:59