खोज

Vatican News
पुलिस सेंटर से बाहर निकलकर पत्रकारों से बात करते हुए  मार्टिन ली चू-मिंग पुलिस सेंटर से बाहर निकलकर पत्रकारों से बात करते हुए मार्टिन ली चू-मिंग   (ANSA)

एक धर्मनिष्ठ काथलिक मार्टिन ली, नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित

ली चू-मिंग हांगकांग की डेमोक्रेटिक पार्टी के संस्थापकों में से एक है। एक काथलिक, पूर्व विधान सभा सदस्य, एक अनधिकृत विरोध प्रदर्शन में भाग लेने के कारण उनकी गिरफ्तारी पिछले अप्रैल को हुई थी और उसके बाद बेल पर रिहा कर दिया गया था।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

हांगकांग, बृहस्पतिवार, 4 फरवरी 2021 (एशियान्यूज)- हांगकांग में "प्रजातंत्र के पिता" तथा डेमोक्रेटिक पार्टी के संस्थापकों में से एक मार्टिन ली चू मिंग को नोबेल शांति पुरस्कार का उम्मीदवार चुना गया है।

रूढ़िवादी पार्टी के दो नॉर्वेजियन सांसदों मैथिल्डे टायरबिंग-गेज्डे और पीटर फ्रॉलिच ने ली को नामित किया।

एक धर्मनिष्ठ काथलिक मार्टिन ली, हांगकांग की विधान परिषद के सदस्य थे। वे हांगकांग और मुख्य भूमि चीन में स्वतंत्रता के कट्टर रक्षकों में से एक हैं।

दो नॉर्वेजियन सांसदों ने कहा कि वे उम्मीद कर रहे हैं कि ली की उम्मीदवारी "हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक आंदोलन के लिए प्रेरणा का स्रोत बनेगा और दुनिया भर में स्वतंत्रता  को प्रेरणा मिलेगी।"

82 वर्षीय ली पिछले अप्रैल मैं गिरफ्तार किये जानेवाले प्रमुख सार्वजनिक हस्तियों में से एक हैं जिन्होंने एक नियोजित नया सुरक्षा कानून के खिलाफ अनधिकृत विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया था। ली के साथ 14 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया था जिनमें ऐपल डेली न्यूजपेपर के मालिक जिम्मी लाई भी शामिल थे। इस समय जिम्मी लाई को छोड़ बाकी सभी बेल पर रिहा हो चुके हैं।

साल 1901 से ही नोबेल शांति पुरस्कार उन लोगों एवं संस्थाओं को प्रदान किया जाता है जिन्होंने राष्ट्रों के बीच भ्रातृत्व बढ़ाने, सेनाओं को कम करने और शांति स्थापित करने एवं बढ़ाने में अपना उत्तम योगदान दिया है।

पिछले साल का नोबेल शांति पुरस्कार विश्व खाद्य कार्यक्रम को, विश्व भूखमरी के खिलाफ उनके प्रयासों के लिए प्रदान किया गया था।

चीनी पुरस्कार विजेताओं में से एक लियू शियाओबो थे, जिन्हें लियाओनिंग की जेल में पूरी तरह से बीमार छोड़ दिया गया था, और केवल अंतिम समय में अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कारों की घोषणा हर साल असाधारण काम करने वाले लोगों और संस्थाओं को दिया जाता है। यह पुरस्कार शांति, साहित्य, भौतिकी, रसायन, औषधि और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में दिया जाता है। पहली बार नोबेल पुरस्कार 1901 में दिया गया था।

04 February 2021, 15:39