खोज

Vatican News
जलालाबाद में ठंड से बचने के लिए आग तापते बच्चे जलालाबाद में ठंड से बचने के लिए आग तापते बच्चे  (ANSA)

अफगानिस्तान की सर्दीः3 लाख से अधिक बच्चों की जान जोखिम में

‘सेव द चिल्ड्रन’ संगठन की ओर से चेतावनी दी जा रही है कि अफगानिस्तान के ठंडे क्षेत्रों में, तापमान -27 डिग्री से कम हो सकता और स्कूल जो सर्दियों के दौरान एकमात्र गर्म स्थान है, मार्च तक बंद रहेगा।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

अफगनिस्तान, शनिवार 2 जनवरी 2021 (वाटिकन न्यूज) : अफगानिस्तान में, 300,000 से अधिक बच्चे सर्दियों का सामना करने के लिए पर्याप्त सर्दियों के कपड़े और हीटिंग के बिना खुद को बीमार होने के जोखिम के साथ और सबसे खराब मामलों में कुछ बच्चे अपना जीवन खो देते हैं। यह ‘सेव द चिल्ड्रन’ संस्था द्वारा लॉन्च किया गया अलार्म है। यह अंतरराष्ट्रीय संस्था जरुरतमंद बच्चों को बचाने और उनके भविष्य की गारंटी देने के लिए, 100 से अधिक वर्षों से काम रही है।

स्कूल, एकमात्र गर्म स्थान

अफगानिस्तान में ‘सेव द चिल्ड्रन’ संस्था के निदेशक क्रिस न्यामांदी बताते हैं कि "देश के उत्तर में पहला बर्फ बच्चों पर विशेष रूप से बुरा प्रभाव डालता है।" सबसे ज्यादा असुरक्षित वे बच्चे हैं जिनके स्कूल बिगड़ते मौसम के कारण बंद हो गए हैं। उनके परिवारों के पास सर्दियों के कपड़े खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं और बच्चे कड़कड़ाती ठंड से बचने के लिए घर के अंदर शरण लेने को मजबूर हैं। इसका मतलब यह भी है कि हमारे लिए इन बच्चों तक पहुंचना और उन्हें सर्दियों के कपड़े देना अधिक कठिन है। हमें कोट और कंबल देने के लिए घर-घर जाना होगा। अफगनिस्तान में जारी संघर्ष ने कई घरों को नष्ट कर दिया है और हजारों बेघर बच्चों को शिविरों में खुद को बचाने के लिए मजबूर किया है। वहां उन्हें भूख और कोविद-19 बीमारी का खतरा है और यहां तक ​​कि बहुत कम तापमान में कई बच्चों की मौत भी हो जाती है।”

शिविरों में बच्चे

क्रिस न्यामांदी ने कहा, “बल्ख प्रांत में पाए जाने वाले शिविरों में रहने के लिए मजबूर बच्चों की स्थिति दयनीय है। यह स्थान पहले से ही बहुत ठंडा है और रात का तापमान -10 डिग्री तक पहुंच जाता है। मार्च तक यह और भी ठंडा हो जाएगा। इन शिविरों में, साथ ही अफगानिस्तान के अन्य हिस्सों में, बच्चों के पास ठंड से बचने के लिए उनके पहने हुए कपड़े और प्लास्टिक की एक परत मात्र रहती है। अफगान की सर्दी में हजारों बच्चे जीवित रहने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करते हैं।"

अफगानिस्तान में 45 साल से

‘सेव द चिल्ड्रन’ संस्था 1976 से अफगानिस्तान में है। कठोर सर्दियों की स्थिति में, साझेदार संगठनों के साथ मिलकर वे काबुल, बदख्शां, बल्ख, फरियाब, कंधार, कुंअर, कुंदरुज, नंगरहार, ताखर, जवाजन, लग्हमन, सार और पुल में परिवारों को शीतकालीन किट प्रदान करेंगे। अफगानिस्तान के 34 में से 12 प्रांतों में 100,000 से अधिक घरों में शीतकालीन किट वितरित किए जाएंगे और इसमें बच्चों के लिए ईंधन और एक स्टोव, कंबल और सर्दियों के कपड़े शामिल होंगे।

02 January 2021, 14:02