खोज

Vatican News
जेओ न्यज  चैनल के कंट्रोल रुप में काम करता हुआ एक कर्मचारी जेओ न्यज चैनल के कंट्रोल रुप में काम करता हुआ एक कर्मचारी 

पाकिस्तान में ईसाई पत्रकार की गोली मारकर हत्या

क्वाइस जावेद इस साल पाकिस्तान में मारे गए मीडिया के चौथे व्यक्ति हैं। उसकी हत्या एक हफ्ते बाद आई जब जावेद ने पुरातत्व विभाग द्वारा हिंदू मंदिर के खंडहर और उनकी उपेक्षा के बारे में एक लघु वृत्तचित्र अपलोड किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

इस्लामाबाद, सोमवार14 दिसम्बर 2020 (उका न्यूज) : पाकिस्तान में मीडिया लोगों पर जारी हिंसा में 37 वर्षीय मेथोडिस्ट ईसाई क्वाइस जावेद इसके नवीनतम शिकार बन गये। सत्तारूढ़ पाकिस्तान जस्टिस पार्टी के पूर्व सदस्य मोहन मासिह के पत्रकार बेटे क्वाइस जावेद की 7 दिसम्बर को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

पुलिस और परिवार ने बताया कि जावेद की मौत उत्तर-पश्चिमी शहर डेरा इस्माइल खान में एक यात्रा के दौरान हुई। पुलिस के पास दायर रिपोर्ट के अनुसार,  वह और उसका बेटा अपने वाहन से उतरकर अपने घर में घुसने वाले थे, तभी उसे गोली मार दी गई। उन्हें जल्दी से अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां उनकी मौत हो गई। उनके बेटे को गोली नहीं लगी।

जावेद को 8 दिसंबर को चाह सैयद मुनव्वर शाह के मैथोडिस्ट गिरजाघर में दफनाया गया ।

किसी ने भी हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।

एक स्थानीय पुलिस अधिकारी, अज़मतुल्लाह ने संवाददाताओं को बताया कि पुलिस ने अभी तक हत्या के कारण का पता नहीं लगा पाई है। जावेद अपनी उर्दू भाषा की न्यूज़ साइट चला रहा था। उन्होंने 2016 में पाकिस्तानी प्रमुख न्यूज चैनल छोड़ने के बाद, जियो न्यूज के साथ संबंध बनाए रखा।

उसकी हत्या एक हफ्ते बाद आई जब जावेद ने पुरातत्व विभाग द्वारा हिंदू मंदिर के खंडहर और उनकी उपेक्षा के बारे में एक लघु वृत्तचित्र अपलोड किया।

प्रेस क्लब द्वारा हत्या की निंदा

8 दिसंबर को शहर के प्रेस क्लब ने हत्या की निंदा की। प्रेस क्लब के अध्यक्ष यासीन कुरैशी ने कहा, "सरकार को शोक संतप्त पत्रकार के परिवार के लिए वित्तीय सहायता की भी घोषणा करनी चाहिए।"

क्लब के पूर्व महासचिव और जावेद के साथ काम करने वाले फ़ज़लुर रहमान ने हत्या को एक आतंकवादी हमला माना। जावेद पाकिस्तान में इस साल मारे गए चौथे पत्रकार हैं, इस देश को पत्रकारों के लिए दुनिया की सबसे खतरनाक जगहों में से एक माना जाता है।

 यूनेस्को की गणना के अनुसार 2014 के बाद से देश में कम से कम 30 पत्रकार मारे गए हैं।

14 December 2020, 15:34