खोज

Vatican News
बेरूत के बंदरगाह पर भारी रसायनिक विस्फोट बेरूत के बंदरगाह पर भारी रसायनिक विस्फोट  

यूनिसेफ : बेरूत में बच्चों को लगातार मदद की आवश्यकता

बुधवार को जारी की गई यूनिसेफ की एक नई रिपोर्ट में इस तथ्य पर प्रकाश डाला गया है कि लेबनान की राजधानी बेरूत पर हुए भारी विस्फोट से बच्चों और परिवारों को अभी भी सहायता की आवश्यकता है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

यूनिसेफ, बृहस्पतिवार, 12 नवम्बर 2020 (वीएन)- बेरूत के बंदरगाह पर हुए भारी विस्फोट के 100 दिन बीत चुके हैं जिसमें भारी विनाश हुए थे और कई लोगों की जानें गईं थीं।

महत्वपूर्ण समर्थन

संयुक्त राष्ट्र के बाल सुरक्षा विभाग यूनिसेफ द्वारा बुधवार को प्रकाशित एक नये रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि आपदा के कई महीने बीत जाने के बाद भी परिवारों एवं बच्चों को अब भी महत्वपूर्ण समर्थन की आवश्यकता है।

“विनाश से उठते, बेरूत विस्फोट के जवाब में यूनिसेफ की प्रतिक्रिया के 100 दिन, और बच्चों एवं परिवारों के लिए आगे का रास्ता" शीर्षक के इस रिपोर्ट में निष्कर्ष एक कष्टदायक चित्र प्रस्तुत करता है।

विस्फोट का आघात

रिपोर्ट प्रकाश डालता है कि कई बच्चों को विस्फोट के समय और बाद की स्थिति से आघात पहुँची है तथा चैरिटी, माता-पिता, अभिवावकों एवं बच्चों को मनोवैज्ञानिक समर्थन देने का प्रय़ास कर रहा है।  

12 साल का हुस्साईन उन बच्चों में से एक है जिन्हें इस तरह की सहायता मिली है। उसने कहा, "मैंने अपने चित्रांकन में रंग भरना छोड़ दिया था जो मेरे जीवन को दर्शाता है क्योंकि उस दिन सब कुछ बदल गया।"

हुस्साईन करनतिना शहर में रहता है जो सबसे प्रभावित क्षेत्रों में से एक है। आपदा के अब 10 सप्ताह बीत चुके हैं, हुस्साईन और कई दूसरे बच्चे फिर से मुस्कुराना सीख रहे हैं। उसने कहा, "अब मेरे जीवन में रंग पुनः वापस आ गया है।"

घावों की चंगाई

यूनिसेफ लेबनान के प्रतिनिधि यूकी मोकूओ के अनुसार, "असाधारण प्रयास के कारण जब तत्कालिक घाव चंगे हो रहे हैं, दृश्य और अदृश्य दोनों प्रकार के गहरे घावों की चंगाई हेतु कई आपात स्थितियों का सामना करनेवाले देश में बच्चों और परिवारों को निरंतर एकजुटता, प्रतिबद्धता और समर्थन की आवश्यकता है।"

विगत कई सप्ताहों में यूनिसेफ और इसके साझेदारों ने पाँच साल से कम उम्र के 22,000 से अधिक बच्चों को आवश्यक पोषण जैसे विटामिन ए, उच्च ऊर्जा बिस्किट और आपातकालीन भोजन राशन आदि प्रदान किया है।

इसने 1,060 घरों में हजारों लोगों के लिए जल आपूर्ति को पुनः स्थापित किया है तथा बुरी तरह प्रभावित तीन अस्पतालों में जल टैंक लगाया है। यद्यपि पीड़ा कम करने के लिए बहुत कुछ किया गया है बाल सुरक्षा एजेंसी ने जोर दिया है कि कई बच्चों, माता-पिताओं एवं देखभाल करनेवालों को समर्थन की जरूरत है अर्थात् बच्चों की सुरक्षा के लिए अनुदान बढ़ाने की अति आवश्यकता है।

12 November 2020, 16:49