खोज

Vatican News
परमाणु बम विस्फोट परमाणु बम विस्फोट 

परमाणु हथियारों पर प्रतिबंध का समझौता जनवरी में लागू

24 अक्टूबर को परमाणु हथियारों पर प्रतिबंध लगाने की अंतरराष्ट्रीय संधि के 50वें अनुसमर्थन के साथ, यह समझौता जनवरी में लागू होगा।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

सभी परमाणु हथियारों को नष्ट करने और हमेशा के लिए उनके उपयोग पर रोक लगाने के उद्देश्य से एक संधि ने एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर पार किया है, जो 90 दिनों में लागू किये जाने का संकेत दे रहा है, जब होंडुरास ने शनिवार को परमाणु हथियार निषेध कानून (टीपीएनडब्ल्यू) पर संयुक्त राष्ट्र संधि की पुष्टि की, इसतरह यह - अंतर्राष्ट्रीय कानून के रूप में लागू होने के लिए इसकी न्यूनतम आवश्यकता के साथ ऐसा करने वाला 50वां राष्ट्र बन गया।

एक विश्वव्यापी आंदोलन

संयुक्त राष्ट्र के न्यूयॉर्क मुख्यालय में बातचीत में संधि पूरी होने के बाद अनुसमर्थन सीमा तीन साल से थोड़ी अधिक हो गई थी। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने 50वें अनुसमर्थन को "परमाणु हथियारों के किसी भी उपयोग के विनाशकारी मानवीय परिणामों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए दुनिया भर में आंदोलन की परिणति के रूप में बधाई दी।"

संयुक्त राष्ट्र की घोषणा का परमाणु-विरोधी कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया, लेकिन संयुक्त राज्य अमेरिका और 8 अन्य परमाणु-सशस्त्र देशों ने कड़ा विरोध किया था। गुटेरेस ने उन सभी देशों की सराहना की है जिन्होंने 7 जुलाई, 2017 को महासभा में 122 देशों द्वारा अनुमोदित समझौते की बहाली द्वारा हथियारों पर प्रतिबंध लगाये जाने की मदद की है।

इनमें से सबसे अच्छा है, परमाणु हथियार (आईसीएएन) को खत्म करने का अंतर्राष्ट्रीय अभियान, जिसे 2017 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इसके कार्यकारी निदेशक व्यात्रीस फ़िहन ने "परमाणु निरस्त्रीकरण को एक नया अध्याय" के रूप में सराहना की है।

शनिवार की उपलब्धि जमैका और नाउरू के द्वीप राष्ट्रों द्वारा अनुसमर्थन प्रस्तुत करने के एक दिन बाद मिली है।

परमाणु हथियार अनैतिक और अवैध

फिहन ने कहा कि परमाणु हथियार पर प्रतिबंध, हिरोशिमा और नागासाकी में भयंकर आक्रमण तथा संयुक्त राष्ट्र की स्थापना जिसने परमाणु निरस्त्रीकरण को आधारशिला बनाया" उसके 75 वर्षों बाद किया गया है। "50 देशों ने इस संधि की पुष्टि की," उन्होंने जोर देकर कहा कि "नए अंतरराष्ट्रीय मानदंड स्थापित करने में सच्चा नेतृत्व दिखा रहा है कि परमाणु हथियार सिर्फ अनैतिक नहीं बल्कि अवैध है।"  

गुटेर्रेस ने कहा कि इसे लागू किया जाना, "परमाणु विस्फोटों और परीक्षणों से बचे लोगों के लिए एक श्रद्धांजलि है, जिनमें से कई ने इस संधि की वकालत की है।"

परमधर्मपीठ, संत पापा परमाणु हथियार के खिलाफ

परमधर्मपीठ एवं संत पापा ने परमाणु हथियार के खिलाफ यूएन और विश्व का जोरदार समर्थन किया है। यूएन की स्थापना की 75 वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में 25 सितम्बर को प्रेषित विडीयो संदेश में, पोप फ्रांसिस ने परमाणु निरस्त्रीकरण और उसके प्रसार को रोकने हेतु प्रमुख अंतरराष्ट्रीय और कानूनी साधनों का समर्थन बढ़ाने का आह्वान दोहराया था।  

2019 में जापान की प्रेरितिक यात्रा के दौरान नागासाकी में शांति स्मारक पर 24 नवम्बर को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए, संत पापा ने 9 अगस्त 1945 में शहर में परमाणु बम हमले के प्रभाव के लिए दुःख व्यक्त किया था। उन्होंने कहा था, "हमें परमाणु निरस्त्रीकरण और परमाणु अप्रसार के प्रमुख अंतरराष्ट्रीय कानूनी उपकरणों के समर्थन में काम करने से कभी नहीं थकना चाहिए, जिसमें परमाणु हथियारों के निषेध पर संधि भी शामिल है।" उसी दिन हिरोशिमा का दौरा करने के बाद उन्होंने कहा था, "जिस तरह परमाणु हथियार रखना अनैतिक है, उसी तरह युद्ध के उद्देश्यों के लिए परमाणु ऊर्जा का प्रयोग भी अनैतिक है।"

27 October 2020, 16:46