खोज

Vatican News
व्यंग्य अखबार चार्ली हेब्दो के पूर्व कार्यालय के बाहर चाकू से हमला व्यंग्य अखबार चार्ली हेब्दो के पूर्व कार्यालय के बाहर चाकू से हमला   (ANSA)

फ्रांसीसी अधिकारियों द्वारा आतंकवाद के कार्य की जाँच

एक व्यक्ति ने व्यंग्य अखबार चार्ली हेब्दो के पूर्व कार्यालय, पेरिस के बाहर दो लोगों को घायल कर दिया। फ्रांसीसी अधिकारियों ने उसे और आतंकवादी कार्यों में संलग्न 6 लोगों को हिरासत में ले लिया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

पेरिस, सोमवार 28 सितम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज) : शुक्रवार दोपहर को मीट क्लीवर से लैस एक व्यक्ति ने व्यंग्य अखबार चार्ली हेब्दो के पूर्व कार्यालय, पेरिस के बाहर दो लोगों को घायल कर दिया। पुलिस ने उसे घटनास्थल के पास से हिरासत में लिया। उसी स्थान पर 2015 में पैगंबर मुहम्मद और इस्लाम के बारे में कार्टून प्रकाशित होने के बाद 12 लोग मारे गए थे।

घायल हुए एक पुरुष और एक महिला डॉक्यूमेंट्री फिल्म कंपनी में काम करते हैं। कथित तौर पर अवकाश के समय जब वे बाहर धूम्रपान कर रहे थे उस वक्त उन पर हमला किया गया था।

मुख्य संदिग्ध की पहचान पाकिस्तानी मूल के 18 वर्षीय व्यक्ति के रूप में हुई। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि छह अन्य लोग भी हिरासत में हैं और उनसे पूछताछ की जा रही है।

आतंकी कार्य

शुक्रवार के हमले को आतंकवादी घटना के रूप में माना जा रहा है।  आंतरिक मंत्री जेराल्ड डारमैनिन ने फ्रांसीसी टेलीविजन को बताया, "जाहिर तौर पर, यह इस्लामी आतंकवाद का एक कार्य है और इसमें कोई संदेह नहीं है। यह हमारे देश के खिलाफ, पत्रकारों के खिलाफ, इस समाज के खिलाफ एक नया खूनी हमला है।"

आंतरिक मंत्री ने यह भी कहा कि हमलावर तीन साल पहले फ्रांस में पाकिस्तान से अभिभावकों के बिना एक नाबालिग के रूप में आया था।

अधिकारियों ने खुलासा किया कि एक महीने पहले ही संदिग्ध हमलावर को पेचकस अपने साथ रखने के आरोप में हिरासत में लिया गया था। लेकिन वह इस्लामी कट्टरपंथ के लिए पुलिस के रडार पर नहीं था।

अभियोजकों का कहना है कि एक जांच "आतंकवादी उद्यम के संबंध में हत्या के प्रयास" में खोला गया है। फ्रांसीसी प्रधान मंत्री जीन कैस्टेक्स ने कहा कि घायल लोग खतरे से बाहर हैं। उन्होंने उनके परिवार और सहयोगियों के साथ सरकार की एकजुटता व्यक्त की।

लेकिन आस-पड़ोस में लोग स्तब्ध हैं। वे कहते हैं कि वे पांच साल पहले न्यूज़रूम नरसंहार के बुरे सपने को दूर कर रहे थे कि फिर से यह घटना हुई। उन्होंने पत्रिका चार्ली हेब्दो छुरेबाजी की कड़ी निंदा की, जो इसके पुनः प्रकाशित होने के बाद हुई।

दुखद प्रकरण

 सोशल मीडिया में कहा गया कि "यह दुखद प्रकरण हमें एक बार फिर दिखाता है कि कट्टरता, असहिष्णुता, अभी भी फ्रांसीसी समाज में मौजूद हैं।"

इस महीने, चार्ली हेब्दो ने पैगंबर मुहम्मद और इस्लाम के बारे में उन्हीं कार्टूनों को फिर से प्रकाशित किया जिन्होंने 2015 में पत्रिका के घातक हमले को प्रेरित किया था। इसका प्रकाशन हमले में साथी के रूप में आरोपी लोगों के लंबे समय से प्रतीक्षित आतंकवाद के परीक्षण की शुरुआत के साथ हुआ।

28 September 2020, 14:42