खोज

Vatican News
लेबनोन में सुधार हेतु माक्रोन की यात्रा एवं विस्फोट का विरोध लेबनोन में सुधार हेतु माक्रोन की यात्रा एवं विस्फोट का विरोध  (ANSA)

फ्राँस द्वारा लेबनान में सुधार की कोशिश

फ्राँस के राष्ट्रपति इम्मानुएल माक्रोन लेबनान की दो दिवससीय यात्रा पर हैं और इस दौरान उन्होंने राजनीतिक घटकों से अपील की है कि वे सरकार की कायापलट का समर्थन करें। यह यात्रा तब की जा रही है जब संत पापा फ्राँसिस ने 4 सितम्बर को देश के लिए प्रार्थना दिवस का आह्वान किया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

फ्राँस, बृहस्पतिवार, 3 सितम्बर 20 (वीएन) – ईराक जाने के पूर्व बुधवार को फ्राँस के राष्ट्रपति इम्मानुएल माक्रोन ने लेबनान में नयी सरकार के शीघ्र गठन की अपील की।

अपनी दो दिवसीय यात्रा में उन्होंने बेरूत बंदरगाह का दौरा किया है जहाँ पिछला महीना भारी विस्फोट हुआ था जिसमें करीब 8,000 इमारत ध्वस्त हो गये थे और 3,00,000 लोग बेघर हो गये थे।

माक्रोन ने पत्रकारों को बतलाया कि उन्हें उम्मीद थी कि सरकार छह से आठ सप्ताह के भीतर सुधारों के रोडमैप पर काम शुरू कर देगी।

लेबनान के प्रति सहानुभूति हेतु पोप द्वारा प्रार्थना एवं उपवास का आह्वान

माक्रोन ने कहा, "मैंने जिस चीज की मांग की है, यहां बिना किसी अपवाद के सभी राजनीतिक दलों ने आज शाम तक जो किया है, वह यह है कि इस सरकार के निर्माण में 15 से अधिक दिन नहीं लगेंगे।"

उन्होंने लेबनान से अपील की है कि वह भ्रष्टाचार से संघर्ष करे, ऊर्जा क्षेत्र में सुधार लाये और बैंकिंग उद्योग में समस्याओं का समाधान करे।

प्रक्रिया को गति देने के प्रयास में, नामित प्रधानमंत्री मुस्ताफा अदीब, संसद के अध्यक्ष, पूर्व प्रधानमंत्री और संसदीय दल के प्रतिनिधि से मिलेंगे एवं स्थिति पर चर्चा करेंगे।

अदीब पिछले 7 सालों से बर्लिन में राजदूत हैं। विस्फोट से पहले से ही देश भारी आर्थिक संकट झेल रहा था एवं कोरोना वायरस महामारी का सामना करने के लिए संघर्ष कर रहा था।

मामले को बदतर बनाने के लिए, लेबनान में अत्यधिक बेरोजगारी, धीमी गति से विकास और मध्य पूर्व में उच्चतम ऋण अनुपात भी अन्य प्रमुख कारण हैं।

 

03 September 2020, 16:04