खोज

Vatican News
शताब्दी समारोह में  पेड़ रोपते हुए  फ्रांस के राष्ट्रपति मेक्रोन शताब्दी समारोह में पेड़ रोपते हुए फ्रांस के राष्ट्रपति मेक्रोन 

फ्रांसीसी राष्ट्रपति द्वारा लेबनान में सुधारों का आग्रह

फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रोन बेरूत की यात्रा के दौरान लेबनान में जल्द से जल्द एक नई सरकार की स्थापना की मांग की है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

बेरुत, बुधवार 02 सितम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज) : फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रोन ने मंगलवार को लेबनानी अधिकारियों, नागरिक समाज और गैर-सरकारी संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात की।

पिछले महीने पोर्ट में एक गोदाम में संग्रहीत अमोनियम नाइट्रेट के घातक विस्फोट के बाद से यह फ्रांसीसी राष्ट्रपति की लेबनान की दूसरी यात्रा है। इस यात्रा के दौरान, मैक्रोन का लक्ष्य स्थानीय राजनीतिक स्थिति और मानवीय सहायता के वितरण के साथ-साथ शताब्दी समारोह में भाग लेना है। उन्होंने भ्रष्टाचार से लड़ने, ऊर्जा क्षेत्र में सुधार और बैंकिंग उद्योग में समस्याओं से निपटने हेतु लेबनान से आग्रह किया है।

ब्लास्ट का असर

ऐसा अनुमान है कि विस्फोट से 15 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ, साथ ही 5,000 घायल और 300,000 लोग बेघर हो गए। एक नई रिपोर्ट में, विश्व बैंक ने कहा कि परिवहन और आवास सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में से हैं। "आपदा न केवल आर्थिक गतिविधियों में संकुचन को बढ़ाएगी, बल्कि गरीबी की दर को भी बढ़ाएगी, जो पहले से ही 45 प्रतिशत आबादी पर थी।"

मैक्रोन के आगमन से ठीक पहले जर्मनी के लिए लेबनान के राजदूत मुस्तफा अदीब को देश के नए प्रधानमंत्री के रूप में नामित किया गया था। आदिब पिछले सात वर्षों से बर्लिन में राजदूत हैं।

लंबे समय से पीड़ित राष्ट्र

विस्फोट से पहले ही, देश गहरे आर्थिक संकट से जूझ रहा था और कोरोनोवायरस महामारी से निपटने के लिए संघर्ष कर रहा था। संयुक्त राष्ट्र सहायता एजेंसियों का कहना है कि लेबनान 80 प्रतिशत खाद्यान आयात करता है। सोमवार को, यूरोपीय संघ ने एक मालवाहक विमान भेजा, जिसमें 12 टन मानवीय आपूर्ति और चिकित्सा उपकरण थे।

02 September 2020, 14:54