खोज

Vatican News
बेलारुस में विरोध प्रदर्शन बेलारुस में विरोध प्रदर्शन  (ANSA)

बेलारूस में सख्त प्रतिबंध के बावजूद बढ़ता विरोध

बेलारूस में रविवार को बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुआ, प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि लंबे समय तक राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको अपने पद से हट जायें।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मिन्स्क, सोमवार 07 सितम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज) :बेलारुस में राष्ट्रपति और सरकार के विरोध में करीब एक महीने से प्रदर्शन जारी है। शनिवार को पुलिस ने दर्जनों विरोध प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया जिनमें ज्यादातर विद्यार्थी थे। रविवार को बेलारूस की राजधानी मिन्स्क में अनधिकृत सरकार विरोधी प्रदर्शन फिर से शुरू हो गया। प्रदर्शन के आस-पास बड़े पैमाने पर सुरक्षा बल तैनात थे।

प्रदर्शनकारियों की मांग हैं कि राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको इस्तीफा दें। उन्हें विश्वास नहीं है कि 9 अगस्त के राष्ट्रपति चुनाव में राष्ट्रपति अलेक्जेंडर ने 80 प्रतिशत वोट के साथ जीत हासिल की। उनका दावा है कि लुकाशेंको ने पोल में धांधली की है।

लेकिन 26 साल से पूर्व सोवियत गणराज्य पर शासन करने वाले राष्ट्रपति लुकाशेंको ने गलत कामों से इनकार किया है और वे अपने पद को छोड़ने से इनकार करते हैं।

उथल-पुथल के बीच, शीर्ष विपक्षी कार्यकर्ता ओल्गा कोवलकोवा का कहना है कि उसने जेल की धमकियों के बीच पोलैंड में शरण ली है। पोलिश प्रधान मंत्री माटुस्ज़ मोरवीकी ने स्पष्ट कर दिया है कि उनका देश बेलारूस में दमन के पीड़ितों को सहायता प्रदान करेगा।

प्रमुख कार्यकर्ता

ओल्गा कोवलकोवा एकमात्र प्रमुख कार्यकर्ता नहीं है जिसने पड़ोसी देश में शरण ले रही है। विपक्षी नेता स्वेतलाना तिखानोव्सकाया ने लिथुआनिया में शरण मांगी है।

37 वर्षीय स्वेतलाना ने कहा, "आज, मेरा देश संकट में है। शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को अवैध रूप से हिरासत में रखा गया है, पीटा गया है, और जेल में बंद किया गया है।" उन्होंने प्रदर्शनकारियों पर अधिकारियों की कार्रवाई को रोकने में मदद करने के लिए वीडियो लिंक के माध्यम से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से आग्रह किया।

"श्री लुकाशेंको द्वारा लोगों के वोटों को चुराने के एक निंदनीय और ज़बरदस्त प्रयास के बाद विरोध प्रदर्शन शुरु हुआ।"

उन्होंने कहा कि हाल के सप्ताहों में करीब 7,000 लोगों को हिरासत में लिया गया है। विपक्ष की मांगें उचित हैं। "राष्ट्र की मांगें सरल हैं: शासन द्वारा खतरों की तत्काल समाप्ति। सभी राजनीतिक कैदियों की तत्काल रिहाई। स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव।"

केवल एक बाधा है

विपक्षी नेता स्वेतलाना ने दावा किया, इन मांगों को पूरा करने के लिए केवल एक बाधा है। और वो बाधा है श्री लुकाशेंको, जो सत्ता पर बने रहना चाहते हैं जो अपने लोगों और अपने अधिकारियों को सुनने से इनकार करते हैं।"

बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों का विरोध जारी है।

07 September 2020, 14:43