खोज

Vatican News
रुस से बचाव टीम काम करती हुई रुस से बचाव टीम काम करती हुई  (AFP or licensors)

बेरूत में विरोध प्रदर्शन के बीच राहत कार्य जारी है

लेबनान के बेरुत शहर में मंगलवार को एक घातक विस्फोट हुआ था इसको लेकर विरोध प्रदर्शन हुए। लेबनान सुरक्षा बलों ने उनपर आंसू गैस छोड़े। प्रदर्शन के बीच राहत कार्य जारी है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

बेरुत, शनिवार 08 अगस्त,2020 (वाटिकन न्यूज) : गुरुवार को बेरूत शहर में प्रदर्शनकारियों ने सभी सड़कों को जाम कर दिया और वे सुरक्षा बलों से भिड़ गए। संसद भवन के पास दर्जनों लोगों पर आंसू गैस दागकर पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की।

मंगलवार के विनाशकारी विस्फोट से जनता नाराज है, जिसमें कम से कम 149 लोग मारे गए और लगभग 5,000 अन्य घायल हो गए। बंदरगाह में एक गोदाम में 2013 के बाद से 2,750 टन अमोनियम नाइट्रेट को बिना किसी सुरक्षा के रखा गया था, जिसका विस्फोट हुआ। विस्फोट ने इमारतों को नष्ट कर दिया और शहर के अधिकांश हिस्सों को नुकसान पहुँचाया जो दो मिलियन से अधिक लोगों का घर है - लगभग 300,000 लोग अब बेघर हैं।

जरूरतमंद बच्चे

संयुक्त राष्ट्र संध बाल कोष (यूनिसेफ) ने कहा कि विस्फोटों से लगभग 80,000 बच्चे विस्थापित हुए हैं। संगठन ने चिंता व्यक्त की कि कई बच्चे आघात का सामना कर चुके हैं और सदमे में हैं।

लेबनान में यूनीसेफ के उप-प्रतिनिधि वायलेट स्पेक-वॉर्नरी ने कहा कि संगठन तत्काल जरूरतमंद और प्रभावित बच्चों और उनके परिवारों को समर्थन देने के लिए काम कर रही है। "पिछले 48 घंटों में, यूनिसेफ ने प्रभावित परिवारों की तत्काल जरूरतों, स्वास्थ्य, पानी और बच्चों की भलाई पर ध्यान केंद्रित करते हुए अधिकारियों और भागीदारों के साथ निकटता से समन्वय जारी रखा।"

संत इजीदियो की एकजुटता

संत इजीदियो समुदाय ने त्रासदी पर अपना दुख व्यक्त किया, एक बयान में कहा कि वे लेबनान के लोगों के साथ खड़े हैं। "हम लेबनान के लिए प्रार्थना करते हैं और हम लेबनानी लोगों के करीब हैं और उनके देश के पुनर्जागरण का समर्थन करते हैं।"

बयान में कहा गया है कि लेबनान को लोकतंत्र, शांति और बातचीत में अशांत और अशांत मध्य पूर्व में एक स्थान के रूप में संरक्षित करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाना चाहिए। लेबनान के मानवीय गलियारा ने 2016 से  2000 से अधिक सीरियाई शरणार्थियों को सहारा दिया है। इस उदार कार्य के लिए यह देश सराहना का पात्र हैं।

 

08 August 2020, 15:20