खोज

Vatican News
लीबिया का समुद्रीतट लीबिया का समुद्रीतट 

लीबिया के तट से दूर जहाज के डूबने से प्रवासियों की मौत:यूएन

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि इस साल लीबिया से कम से कम 45 प्रवासियों और शरणार्थियों की मौत भूमध्य महासागर पार करने के दौरान डूबने से हो गई है।

माग्रेट सुनीता मिंज- वाटिकन सिटी

लीबिया, शनिवार 22 अगस्त 2020 (वाटिकन न्यूज) : भूमध्य सागर में नवीनतम त्रासदी में, बच्चों सहित लगभग 45 अवैध आप्रवासी लीबिया के तट से एक जहाज़ के डूबने से मारे गए। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (यूएनएचसीआर)  ने बताया कि जहाज पर 80 से अधिक लोग सवार थे, जहाज में गड़ब़ड़ी आने की वजह से ज़वारा के तट पर तैरकर अपने आप को बचा लिया। बचे हुए लोग सेनेगल, माली, चाड और घाना से आए थे।

पिछले कुछ महीनों में गर्म मौसम और शांत समुद्रों के कारण भूमध्यसागरीय  पार करने वाले जहाजों के देखा गया।

प्रवासन के लिए अंतर्राष्ट्रीय संगठन (आईओएम) मिशन के प्रमुख फेडेरिको सोडा ने कहा कि यह इस साल लीबिया का रिकॉर्ड की गई सबसे बड़ी जहाज दुर्घटना थी।

सोडा ने सोशल मीडिया पर कहा, "किसी भी समर्पित, यूरोपीय संघ के नेतृत्व वाले खोज और बचाव कार्यक्रम का अभाव है।"

दुनिया के सबसे खतरनाक मार्गों में से एक, केंद्रीय भूमध्य सागर में स्वतंत्र बचाव जहाजों की कमी के बारे में शिकायत करने वाले कार्यकर्ताओं द्वारा स्थिति को भी उजागर किया गया है।

असुरक्षा और अराजकता की स्थिति के कारण, लीबिया हजारों अवैध आप्रवासियों के लिए प्रस्थान का पसंदीदा बिंदु बन गया है। लीबिया मार्ग भी अपनी बर्बरता के लिए कुख्यात है। अफ्रीका और मध्य पूर्व देशों से लोग गरीबी और युद्ध से भागते हुए अक्सर यूरोप जाने के लिए लीबिया आते हैं, जहां उन्हें सस्ते  डिंगियों या नौकाओं में चढ़ाया जाता है। अक्सर ये नौकायें लम्बी समुद्री यात्रा करने के लायक भी नहीं होती और बीच रास्ते में ही डूब जाती है।।

आईओएम के अनुसार, इस साल अब तक 7,000 से अधिक अवैध अप्रवासियों को बचाया गया है और लीबिया लौटाया गया है।

प्रवासन के लिए अंतर्राष्ट्रीय संगठन द्वारा लीबिया में अप्रवासी आश्रयों को बंद करने का आदेश देने के बावजूद प्रवासियों की भीड़ जमा हो गई है जिससे आश्रयों की स्थिति बदतर हो गई है।

एक बयान में, संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी और प्रवासन के लिए अंतर्राष्ट्रीय संगठन ने कहा: "वर्तमान में संकटपूर्ण परिस्थिति का जवाब देने के लिए खोज और बचाव क्षमता को मजबूत करने की तत्काल आवश्यकता है।" पिछले महीने, माल्टा की सेना ने लीबिया से दूर संकट में पड़े 95 प्रवासियों को एक संकटपूर्ण कॉल जारी होने के 33 घंटे बाद बचाया और उन्हें वेलेटा के तट पर लाया गया था।  

22 August 2020, 11:17