खोज

Vatican News
थाईलैंड में कोरोना संकट थाईलैंड में कोरोना संकट  (AFP or licensors)

थाईलैंड प्रवासी श्रमिकों को वापस आने की अनुमति दी

कोरोना वायरस महामारी के कारण थाईलैंड छोड़ने के लिए मजबूर किए गए प्रवासी श्रमिकों को आने वाले हफ्तों में फिर से काम के लिए वापस आने की अनुमति दी जाएगी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

बैंकॉक, बुधवार 22 जुलाई 2020 (वाटिकन न्यूज) : थाईलैंड कोरोना वायरस के प्रभावों से उभर रहा है। थाईलैंड उन देशों में से एक रहा है जो इस बीमारी को रोकने में सफल रहे हैं। अब तक, इसने 3,250 मामले और 58 मौतें दर्ज की हैं। इसी के मद्देनजर जल्द ही उन प्रवासी कार्यकर्ताओं को वापस काम पर आने की अनुमति दी जाएगी।

कुछ क्षेत्रों में प्रवासियों के लिए प्रवेश

 आने वाले हफ्तों में, निर्माण और खाद्य उत्पादन उद्योगों में काम करने वाले प्रवासियों को देश में अपने काम को फिर से शुरू करने की अनुमति दी जाएगी, बशर्ते वे एहतियाती उपायों का सम्मान और कड़ाई से पालन करें।

थाईलैंड का कोविद-19 स्थिति प्रशासन केंद्र (सीसीएसए) ने कहा कि जो विदेशी कामगार मेलों का आयोजन करने में मदद करने के लिए एशियाई देशों की यात्रा करते हैं या जो फिल्म निर्माण में काम करते हैं, वे भी प्रवेश कर सकेंगे, बशर्ते उनके पास उनके निश्चित नियोक्ताओं से गारंटी हो।

उका समाचार एजेंसी के अनुसार, देश में प्रवेश करने वाले सभी प्रवासी श्रमिकों के लिए 14 दिन की संगरोध अवधि होगी।

थाईलैंड में प्रवासी कामगार

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन का कहना है कि मार्च के अंत में, कंबोडिया, लाओ पीपुल्स डेमोक्रेटिक रिपब्लिक और म्यांमार के हजारों प्रवासी श्रमिक अपने देशों और समुदायों में वापस चले गए। कई कारकों ने वापसी के लिए प्रेरित किया, जैसे,"बैंकॉक का आंशिक लॉकडाउन, जिसमें कोविद-19 महामारी के फैलने का डर था, प्रवासियों ने अपनी नौकरी खो दी या उन्हें खोने की उम्मीद थी और राष्ट्रीय सत्यापन प्रणाली के तहत प्रवासियों के कार्य परमिट की अवधि समाप्ति पर थी।

ऐसा अनुमान है कि दिसंबर 2019 तक, थाईलैंड में 2,788,316 पंजीकृत प्रवासी कामगार थे और बिना पंजीकृत अनिर्दिष्ट प्रवासी श्रमिक भी बहुत बड़ी संख्या में थे।

दक्षिण पूर्व एशिया के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय के अनुसार, कोविद-19 संकट ने लाखों प्रवासी श्रमिकों को अनिश्चित परिस्थितियों में डाल दिया है।

इसने यह भी चिंता जताई है कि "ऐसी स्थिति में जहां कई हज़ारों प्रवासियों ने अपनी आजीविका खो दी है, प्रवासियों को सरकार द्वारा घोषित प्रोत्साहन और मुआवजा पैकेजों में शामिल नहीं किया गया है, जो कई लोगों को अत्यधिक अनिश्चितता की स्थिति में ले जा सकता है।"

विश्व बैंक ने अनुमान लगाया है कि थाईलैंड की अर्थव्यवस्था कोविद-19 महामारी से गंभीर रूप से प्रभावित होने की उम्मीद है, 2020 में कम से कम 5 प्रतिशत कम हो जाएगी।

22 July 2020, 13:18