खोज

Vatican News
यूक्रेन संकट यूक्रेन संकट  (ALEXANDER ERMOCHENKO)

कारितास यूक्रेन द्वारा डोनबास प्रांत को सहायता एवं आशा

सोमवार को जब युद्ध विराम के लिए समझौता किया गया, कारितास यूक्रेन के निदेशक ने कहा कि लोग चाहते हैं कि युद्ध का अंत हो किन्तु उन्हें संदेह है कि युद्धविराम हो पायेगा।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

यूक्रेन, मंगलवार, 28 जुलाई 2020 (वीएन)- पूर्वी यूक्रेन में 6 सालों से युद्ध हो रहा है और कई युद्ध विराम हो चुके हैं। फिर भी एक और संघर्ष विराम सोमवार को, डोनबास क्षेत्र के लिए प्रभावी हुआ, जहां रूसी समर्थित अलगाववादी अप्रैल 2014 से यूक्रेनी बलों से लड़ रहे हैं। संघर्ष विराम पर पिछले हफ्ते यूक्रेन का प्रतिनिधित्व करते हुए त्रिपक्षीय संपर्क समूह, रूसी संघ और यूरोप में सुरक्षा तथा सहयोग संगठन के सदस्यों से बातचीत की गई थी।

देवदूत प्रार्थना के उपरांत संत पापा फ्राँसिस ने युद्धविराम के समझौते का समर्थन करते हुए कहा कि "सद्भावना का यह संकेत उस पीड़ावाले क्षेत्र में बहुत वांछित शांति लाने के उद्देश्य से है।”

कारितास यूक्रेन के निदेशक अंद्रीज वास्कोविज ने वाटिकन रेडियो से युद्ध विराम समझौते के महत्व एवं यूक्रेन द्वारा सामना की जी रही तीन मानवीय संकटों पर बातें कीं।

नवीनतम युद्धविराम समझौता

अंद्रीज ने कहा, "समझौता वास्तव में लोगों के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है। लोग युद्ध का अंत चाहते हैं।" उन्होंने याद किया कि राष्ट्रपति वोलोडायमर जेलेनस्कै ने संघर्ष को समाप्त करने की प्रतिबद्धता के साथ कार्यभार संभाला था किन्तु अब उन्हें लगता है कि युद्ध को समाप्त करने की कुँजी जेलेनस्कै के हाथ में नहीं है, हालाँकि राष्ट्रपति शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ा रहे हैं।

संपर्क समूह द्वारा पिछले सप्ताह हस्ताक्षर किए गए युद्धविराम का स्वागत करते हुए, वास्कोविज़ ने उल्लेख किया कि चूंकि डोनबास क्षेत्र के लिए अन्य संघर्ष विराम हो चुके हैं और टूट भी गए हैं, इसलिए यह स्पष्ट नहीं है कि यह संघर्ष विराम सफल होगा या नहीं।

मानवीय आवश्यकता

वास्कोविज़ ने कहा कि डोनबास क्षेत्र में रहने वाले लोग बहुत कठिन परिस्थिति में रह रहे हैं, और कोविड-19 ने इसे बढ़ा दिया है। इस क्षेत्र में कुल 3.1 मिलियन लोग हैं जिन्हें मानवीय समहायता की आवश्यकता है। भोजन का वितरण करना कठिन हो गया है और कई लोग अपनी मौलिक आवश्यकताओं को प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं। सामाजिक और आर्थिक असुरक्षा भी युद्ध के कारण होने वाली अतिरिक्त पीड़ा का कारण बनती है। कुछ मामलों में, यहां तक ​​कि स्कूलों की गोलाबारी के कारण लोगों बच्चों के जीवन को भी खतरे में डाल दिया गया है। 21 सदी के यूरोप में कुछ बच्चे ऐसे हैं जो सिर्फ युद्ध का अनुभव करते हुए बढ़ रहे हैं। वास्कोविज़ ने कहा कि यह कुछ लोगों के लिए सचमुच खतरनाक स्थिति है।

कारितास यूक्रेन

कारितास यूक्रेन, कारितास इंटरनैशनल की एक शाखा है। यह देश के 8 प्रांतों में 20 संगठनों का संचालन करता है। करीब 1000 कर्मचारी और स्वयंसेवक के साथ कारितास यूक्रेन विभिन्न क्षेत्रों में खासकर, संकट की परिस्थिति में बच्चों, युवाओं, परिवारों एवं विस्थापितों को मौलिक सहायता तथा स्वास्थ्य सुविधा प्रदान कर रहा है।

28 July 2020, 16:01