खोज

Vatican News
चीन की ब्रिटिश सरकार से आजादी का वर्षगाँठ चीन की ब्रिटिश सरकार से आजादी का वर्षगाँठ 

हॉंन्गकॉंन्ग : एकता बनाये रखें, कार्डिनल टोंग

हॉन्गकॉन्ग में सुरक्षा कानून लागू किये जाने पर कार्डिनल टोंग ने प्रार्थना की है कि "वहाँ एक झुंड और एक चरवाहा हो।" 30 जून की मध्यरात्रि के एक घंटा पहले हॉन्गकॉन्ग में सुरक्षा कानून लागू किया गया। समय महत्वपूर्ण है क्योंकि आधी रात की हड़ताल के साथ, हांगकांग ब्रिटिश शासन से अपनी स्वतंत्रता की 23वीं वर्षगांठ मनाने वाला था।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

हॉंन्गकॉंन्ग, बृहस्पतिवार, 2 जुलाई 2020 (वीएन)- हॉन्गकॉन्ग में सुरक्षा कानून लागू किये जाने पर कार्डिनल टोंग ने प्रार्थना की है कि "वहाँ एक झुंड और एक चरवाहा हो।"  30 जून की मध्यरात्रि के एक घंटा पहले हॉन्गकॉन्ग में सुरक्षा कानून लागू किया गया। समय महत्वपूर्ण है क्योंकि आधी रात की हड़ताल के साथ, हांगकांग ब्रिटिश शासन से अपनी स्वतंत्रता की 23वीं वर्षगांठ मनाने वाला था। सुरक्षा कानून के साथ, अब चीन मुख्य भूमि पर और हांगकांग दोनों में असंतोष, आतंकवाद और विदेशी हस्तक्षेप को रोकना चाहता है।  

एकता कलीसिया की प्राथमिकता

इस घटना को देखते हुए, हांगकांग के प्रेरितिक प्रशासक, कार्डिनल टोंग का संदेश एक चरवाहे का है। वे सबसे बढ़कर एकता को बढ़ावा देना चाहते हैं। धर्मप्रांतीय समाचार पत्र कुंग काओ पो में 28 जून को कार्डिनल ने कहा है कि उनकी पहली प्राथमिकता है, कलीसिया में एकता को बनाये रखना। उन्होंने एकता के लिए येसु की प्रार्थना का हवाला दिया है जिन्होंने अपनी मृत्यु के पूर्व पिछली व्यारी में स्वर्गीय पिता से प्रार्थना की थी कि वे एक हो जाएँ। (यो.17.11) कार्डिनल टोंग की आशा है कि व्यक्तिगत पद की चिंता किये बिना देश एक साथ खड़ा हो सकता है।    

धार्मिक स्वतंत्रता

पहले भी एक साक्षात्कार में कार्डिनल टोंग ने धार्मिक स्वतंत्रता का जिक्र किया था। उस संबंध में उनका मानना है कि राष्ट्रीय सुरक्षा कानून, धार्मिक स्वतंत्रता पर नकारात्मक प्रभाव नहीं डालेगा। उनका यह विश्वास इस तथ्य पर आधारित है कि "मूल कानून का अनुच्छेद 32, धार्मिक विश्वास और स्वतंत्रता का प्रचार करने, धर्म मानने और सार्वजनिक गतिविधियों में भाग लेने की स्वतंत्रता की गारंटी देता है"। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि कलीसिया को अभी भी राष्ट्र के "सामाजिक मामलों में भाग ले सकना चाहिए।" उन्होंने बुनियादी कानून के अनुच्छेद 141 से अपील की है जो "यह निर्धारित करता है कि स्थानीय सरकार धार्मिक संगठनों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करेगी या धार्मिक गतिविधियों को प्रतिबंधित नहीं करेगी, और वे स्कूलों और सामाजिक सेवाओं को जारी रख सकेंगे।

परमधर्मपीठ के साथ संबंध

कार्डिनल टोंग ने यह भी कहा कि हॉन्गकॉन्ग धर्मप्रांत एवं परमधर्मपीठ के बीच संबंध, कई लोगों के लिए चिंता का विषय हो सकता है। हालांकि, कार्डिनल ने समझाया कि इस "लिंक" को "काथलिक कलीसिया के आंतरिक मामले के रूप में देखा जाना चाहिए", न कि "विदेशी ताकतों के साथ मिलीभगत" के रूप में।"

चीन और परमधर्मपीठ के बीच संबंध पर ध्यान देते हुए कार्डिनल ने जोर दिया कि चीन और परमधर्मपीठ के बीच मैत्रीपूर्ण आदान-प्रदान हुआ है, और हमारी कलीसिया आध्यात्मिक आयाम और पल्लियों में प्रेरितिक देखभाल पर केंद्रित है।"

02 July 2020, 16:22