खोज

Vatican News
हांगकांग, शॉपिंग मॉल में विरोध प्रदर्शन, तस्वीरः20.05.2020 हांगकांग, शॉपिंग मॉल में विरोध प्रदर्शन, तस्वीरः20.05.2020   (ANSA)

तियानमेन चौक की स्मृति में हज़ारों ने पुलिस को दी चुनौती

हांगकांग में हजारों प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को तियानमेन चौक नरसंहार की बरसी पर, पुलिस की मनाही के बावजूद, बड़े पैमाने पर सार्वजनिक सभा आयोजित की।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

हांगकांग, शुक्रवार, 5 जून 2020 (सी.एन.आ.) हांगकांग में हजारों प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को तियानमेन चौक नरसंहार की बरसी पर, पुलिस की मनाही के बावजूद, बड़े पैमाने पर सार्वजनिक सभा आयोजित की।

4 जून की शाम, हजारों लोगों ने हांगकांग की सड़कों पर 1989 के नरसंहार की बरसी मनाने और चीनी राष्ट्रीय विधायिका द्वारा हांगकांग क्षेत्र पर लगाए जा रहे नए सुरक्षा कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किये।

4 जून 1989

4 जून 1989 को, चीन के तियानमेन स्केयर में लोकतंत्र का समर्थन करनेवाले छात्रों द्वारा बड़े पैमाने आयोजित प्रदर्शन पर चीनी सेना ने गोलीबारी कर दी थी, जिसमें सैकड़ों प्रदर्शनकारी मारे गए थे तथा हजारों घायल हो गए थे। नरसंहार की स्मृति को चीनी मुख्य भूमि में सेंसर किया जाता रहा है, हालांकि, इस दुखद घटना को याद करने के लिए, चीन का एक विशेष प्रशासनिक क्षेत्र, हांगकांग प्रति वर्ष जागरण समारोह का आयोजन करता रहा है।

नरसंहार की बरसी के लिये, मूल रूप से, 4 जून को एक सार्वजनिक समारोह विक्टोरिया पार्क में आयोजित करने की योजना बनाई गई थी, किन्तु कोरोनोवायरस महामारी के चलते लगे सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रतिबंधों के कारण पुलिस ने इस घटना पर रोक लगा दी थी। हांगकांग प्रेस के अनुसार, इसके बावजूद, गुरुवार को हज़ारों लोगों ने तियानमेन स्केयर में मारे गये लोगों की याद में मोमबत्ती लिये मौन प्रदर्शन किया।

प्रार्थना और ख्रीस्तयागों का आयोजन

हांगकांग महाधर्मप्रान्त के एक प्रवक्ता ने काथलिक न्यूज़ सर्विस को बताया कि जून 04 को नरसंहार की स्मृति में हांगकांग में विशिष्ट ख्रीस्तयाग अर्पित किये गये तथा पुलिस के आदेश के विरुद्ध विक्टोरिया पार्क के जागरण समारोह को रद्द नहीं किया गया।

साऊथ चायना मोर्निंग पोस्ट के अनुसार, शहर में 3,000 से अधिक दंगा अधिकारियों को तैनात किया गया था। 1997 में यूनाइटेड किंगडम ने हांगकांग क्षेत्र पर नियंत्रण को चीन के पक्ष में स्थानान्तरित कर दिया था, तब से "एक देश, दो निकाय" समझौते के तहत हांगकांग के लोग  विशेष प्रशासनिक स्थिति के अधीन जीवन यापन करते आये हैं। चीनी राष्ट्रीय विधायिका द्वारा इस निकाय में संशोधन का हांगकांग के लोग विरोध कर रहे हैं।  

इसी बीच, 27 मई को हांगकांग के सेवानिवृत्त महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल जोसफ ज़ेन ने हांगकांग की स्थिति पर चिन्ता ज़ाहिर करते हुए सी.एन.आ. समाचार से कहा था "हमारे पास आशा के लिए कुछ भी अच्छा नहीं है। हांगकांग पूरी तरह से चीन के नियंत्रण में है। हम अपने भोजन और पानी के लिए भी चीन पर निर्भर हैं, लेकिन हम खुद को ईश्वर के सिपुर्द करते हैं।"

05 June 2020, 10:55