खोज

Vatican News
इन्डोनेशिया में रोज़ो के दिनों की नमाज़ इन्डोनेशिया में रोज़ो के दिनों की नमाज़  (AFP or licensors)

धार्मिक स्वतंत्रता पर अमरीकी रिपोर्ट में भारत को निचले स्तर पर

विश्वव्यापी धार्मिक स्वतंत्रता पर अमरीका की 2019 की रिपोर्ट में भारत को निचले स्तर पर दर्शाया गया है। इस सप्ताह जारी रिपोर्ट में भारत को ‘विशेष चिंता के देश’ (सीपिसी) के वर्ग में रखा गया है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाशिंगटन, शुक्रवार, 1 मई 2020 (रेई,वाटिकन रेडियो):  विश्वव्यापी धार्मिक स्वतंत्रता पर अमरीका की 2019 की रिपोर्ट में भारत को निचले स्तर पर दर्शाया गया है। इस सप्ताह जारी रिपोर्ट में भारत को ‘विशेष चिंता के देश’ (सीपिसी) के वर्ग में रखा गया है।

विगत वर्ष मुस्लिम जनता के प्रति सरकार के व्यवहार एवं उसकी नीतियों का हवाला देकर रिपोर्ट में कहा गया कि भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार के अधीन धार्मिक स्वतंत्रता में गिरावट आई है। 

‘विशेष चिंता के देश’

अमरीकी रिपोर्ट में विश्व के 14 देशों को ‘विशेष चिंता के देश’ वर्ग में रखा गया है, इसलिये इन देशों की सरकारें "सुव्यवस्थित और अनवरत जारी मानवाधिकारों के भारी उल्लंघन और अतिक्रमण में या तो संलग्न या फिर उन्हें बर्दाश्त करती हैं।" इन देशों में भारत के अलावा, बर्मा, चीन, एरित्रेया, ईरान, उत्तर कोरिया, पाकिस्तान, सऊदी अरब, ताजिकिस्तान और साथ ही नाइजीरिया, रूस, सीरिया और वियतनाम के नाम भी गिनाये गये हैं।  

01 May 2020, 10:57