खोज

Vatican News
बोगोटा का प्रवासी बोगोटा का प्रवासी 

पिछले साल 50 मिलियन से अधिक लोग आंतरिक रूप से विस्थापित हुए

आंतरिक विस्थापन निगरानी केंद्र ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट जारी की जिसमें दुनिया के 50.8 मिलियन आंतरिक रूप से विस्थापित लोगों को कोविद -19 के खतरे का विवरण दिया गया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

जिनेवा, बुधवार 29 अप्रैल 2020 (वाटिकन न्यूज) : आंतरिक विस्थापन निगरानी केंद्र के वार्षिक रिपोर्ट से पता चलता है कि दुनिया भर में लगभग 51 मिलियन लोग प्राकृतिक आपदाओं या संघर्ष के कारण अपने देशों में ही आंतरिक रूप से विस्थापित हो गए हैं, कोविद -19 वायरस के कारण उनके लिए एक नया खतरा पैदा हो गया है। नए आंकड़ों से पता चलता है कि 2019 में प्राकृतिक आपदाओं और युद्ध के कारण अपने ही देशों में बड़ी संख्या में लोग आंतरिक रूप से विस्थापित हो गये थे।

कोविद -19 का खतरा

जिनेवा स्थित आंतरिक विस्थापन निगरानी केंद्र (आइडीसीएम) के अनुसार, पिछले साल आंतरिक रूप से विस्थापित लोगों का रिकॉर्ड 50.8 मिलियन तक पहुंचा। कोविद -19 महामारी की बजह से एक आंकड़ा विकसित किया जा सकता है। आईडीएमसी के निदेशक अलेकसांद्रा बिलाक ने कहा, "विस्थापित लोगों की आवश्यक सेवाओं और मानवीय सहायता तक उनकी पहुंच पहले से ही सीमित और अनिश्चित है। अब वैश्विक कोरोनोवायरस महामारी उन्हें और कमजोर बना देगी।"

भागने के लिए मजबूर

रिपोर्ट से पता चलता है कि 2019 में सीरिया, दक्षिण सूडान, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक कांगो और इथियोपिया जैसे देशों में लगभग 8.5 मिलियन लोगों को अपने स्थानों से भागना पड़ा था। जलवायु संबंधी आपदाएँ - जैसे ऑस्ट्रेलियाई जंगलों की आग - दुनिया भर में विस्थापन के कारण थे, जिसके कारण पिछले वर्ष लगभग 25 मिलियन लोग अपने घरों से भाग गए थे।

अन्य जगहों पर, भारत और बांग्लादेश में चक्रवात फानी, मोजाम्बिक में साइक्लोन इडाई और केनेथ और कैरेबियन में तूफान डोरियन द्वारा 4 मिलियन से अधिक लोगों को अपना घर छोड़ने करने के लिए मजबूर किया गया था।

रिपोर्ट बताती है कि यह देखते हुए कि पिछले साल चक्रवात और बाढ़ के बाद इतने सारे लोग बेघर हो गए थे, जलवायु परिवर्तन से लड़ने और प्राकृतिक आपदाओं की तैयारी के लिए बहुत कुछ किया जा सकता है।

29 April 2020, 17:33