खोज

Vatican News
यूरोपीय संघ के धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के महासचिव यूरोपीय संघ के धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के महासचिव 

धर्माध्यक्षों द्वारा यूरोपीय संघ के सदस्य देशों से अपील

यूरोपीय संघ के धर्माध्यक्षों ने यूरोपीय संघ के सदस्य देशों से अपील की है कि वे कोविड -19 महामारी के खिलाफ संघर्ष के बहाने, भूमध्यसागर में आप्रवासियों को मरने न दें।

उषा मनोरमा तिकी-वाटिकन सिटी

यूरोप, शनिवार, 25 अप्रैल 2020 (रेई)- यूरोपीय संघ के धर्माध्यक्षों ने यूरोपीय संघ के सदस्य देशों से अपील की है कि वे कोविड -19 महामारी के खिलाफ संघर्ष के बहाने, भूमध्यसागर में आप्रवासियों को मरने न दें। 

कई आप्रवासियों का जिक्र करते हुए जिन्हें यूरोपीय संघ के निकटतम बंदरगाह पर पिछले दिनों तत्काल एवं सुरक्षित रूप से उतरने नहीं दिया गया था, यूरोपीय संघ के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (सीओएमएसीए) ने "यूरोपीय संघ के सदस्य राष्ट्रों के बीच एक उम्मीद योग्य एकजुटता तंत्र सहमत करने की अपील की है।"

तत्काल एवं सुरक्षित उतरना

शुक्रवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में धर्माध्यक्षों ने कहा है कि वे माल्टा के खोज और बचाव क्षेत्र (एसएआर) में एक अत्यधिक अनिश्चित स्थिति में, बचाव कार्य में फंसे 47 लोगों के भाग्य के बारे में, हाल ही में माल्टा के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन द्वारा व्यक्त की गई चिंताओं को साझा करते हैं, जिन्हें अंत में लीबिया वापस ले जाया गया।

यूरोपीय संघ के काथलिक धर्मायक्षीय सम्मेलन के महासचिव फादर मानुएल बार्रिओस प्रिएतो ने कहा कि यूरोपीय संघ को अपने 27 सदस्यीय देशों को निकटतम सुरक्षित बंदरगाह पर आप्रवासियों और शरण चाहने वालों के शीघ्र और सुरक्षित उतरने को सुनिश्चित करने के लिए समर्थन देना चाहिए। यूरोपीय बंदरगाह ही सुरक्षित स्थान हो सकता है लीबिया बंदरगाह को सुरक्षित नहीं कहा जा सकता। जैसा कि अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन की समुद्री सुरक्षा समिति के संकल्प एमएससी.167 (78) द्वारा आवश्यक है, समुद्र में बचाए गए लोगों को केवल एक सुरक्षित बंदरगाह में ही विस्थापित किया जा सकता है।

जबरन पलायन के लिए यूरोपीय संघ के संयुक्त जवाब की जरूरत

फादर ने कहा, "आप्रवासी एवं शरणार्थी अक्सर शोषण, हिंसा और अमानवीय व्यवहार के शिकार होते हैं जब उन्हें उन देशों में वापस लिया जाता है जहां से उन्होंने प्रस्थान किया था।”

भूमाध्यसागर एक विशाल कब्रस्थान न बन जाए इसके लिए सीओएमईसीई ने यूरोपीय संघ से अपील की है कि "समुद्र में संकट में कमजोर प्रवासियों की आपातकालीन स्थितियों का सामना करने के लिए यूरोपीय संघ के सदस्य राज्यों के बीच एक उम्मीद के मुताबिक एकजुटता प्रणाली की स्थापना करें"।

किसी को नहीं छोड़ना

धर्माध्यक्षों ने कहा है कि कोविड-19 महामारी के बावजूद मानवीय सिद्धांत ही प्रबल होनी चाहिए। एक बचाव पोत में प्रवासियों सहित किसी को पीछे नहीं छोड़ा जाना चाहिए। "महामारी भूमध्यसागर में इंसानों को मरने देने का बहाना नहीं होना चाहिए।"

यूरोपीय संघ के धर्माध्यक्षों ने पोप फ्रांसिस के 2019 विश्व दिवस के आप्रवासियों और शरणार्थियों के लिए संदेश को याद की, जब उन्होंने कहा था, "यह सिर्फ आप्रवासियों के बारे में नहीं है: [यह हमारी मानवता के बारे में है], यह देखने का सवाल है कि किसी को भी बाहर नहीं रखा गया है।"

यूरोपीय संघ मूल्यों और सिद्धांतों का एक समुदाय है, इस आम समझ के साथ कि मनुष्य गरिमा में समान है और अपने मानव अधिकारों और संरक्षण के लिए सम्मान का पात्र है, खासकर, जब वह सबसे अधिक दुर्बलता की स्थिति में हो।

25 April 2020, 16:02