खोज

Vatican News
फिलीस्तीनी पुलिसकर्मी ओज़ोउन की हत्या पर विलाप करती उनकी पत्नी, तस्वीरः 07.02.2020 फिलीस्तीनी पुलिसकर्मी ओज़ोउन की हत्या पर विलाप करती उनकी पत्नी, तस्वीरः 07.02.2020  (ANSA)

इस्राएली-फिलीस्तीनी वार्ताओं का आह्वान

संयुक्त राज्य अमरीका द्वारा प्रस्तावित शांति योजना की प्रतिक्रिया में भड़की हिंसा की पृष्ठभूमि में अमरीकी काथलिक धर्माध्यक्षों ने इस्राएल एवं फिलीस्तीन के अधिकारियों से वार्ताओं की अपील की है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाशिंगटन, शुक्रवार, 7 फरवरी 2020 (रेई, वाटिकन रेडियो): संयुक्त राज्य अमरीका द्वारा प्रस्तावित शांति योजना की प्रतिक्रिया में भड़की हिंसा की पृष्ठभूमि में अमरीकी काथलिक धर्माध्यक्षों ने इस्राएल एवं फिलीस्तीन के अधिकारियों से वार्ताओं की अपील की है।

फिलिस्तीनी और इस्रएली लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए एक दृष्टि, शीर्षक से विगत सप्ताह अमरीका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प ने अपनी योजना प्रस्तावित की थी।   

योजना के प्रत्युत्तर में रॉकफोर्ड धर्मप्रान्त के काथलिक धर्माध्यक्ष डेविड मैलॉय ने अमरीकी राज्य सचिव माईक पोम्पेई को एक पत्र लिखकर कहा कि उक्त प्रयास पर "गंभीर विचार" की ज़रूरत है।

वार्ता एवं दो-राज्य समाधान

अमरीकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की न्याय एवं शांति सम्बन्धी समिति के अध्यक्ष धर्माध्यक्ष मैलॉय ने कुछ मूलभूत तथ्यों का स्मरण दिलाया। सर्वप्रथम, इस्राएल एवं फिलीस्तीन ही अपने बीच विद्यमान मतभेदों को दूर कर सकते हैं, इसलिये दोनों एक साथ मिलकर, प्रत्यक्ष वार्ताओं के लिये तैयार होना चाहिये।

द्वितीय, उन्होंने ध्यान आकर्षित कराया कि अमरीका के काथलिक धर्माध्यक्ष और साथ ही परमधर्मपीठ दो राज्य समाधान को ठोस समर्थन प्रदान करते हैं।

मान्यता और समर्थन

धर्माध्यक्ष मैलॉय ने कहा कि फलप्रद वार्ताओं के लिये यह अनिवार्य है कि प्रत्येक राज्य एक दूसरे की वैधानिकता को मान्यता और समर्थन दे। उन्होंने कहा कि अमरीका के काथलिक धर्माध्यक्ष इस बात के प्रति चिन्तित हैं कि प्रस्तावित शांति योजना में इन अपेक्षित शर्तों पर ध्यान नहीं दिया गया।

उन्होंने लिखा, "संयुक्त राज्य अमरीका की काथलिक कलीसिया समाज को रेखांकित करने वाले सांस्कृतिक, सामाजिक और धार्मिक मूल्यों पर अपने राष्ट्र का निर्माण करने के इच्छुक इस्राएलियों और फिलिस्तीनियों, दोनों की वैध आकांक्षाओं को मान्यता देती और उनका समर्थन करती है।"

हिंसक प्रतिक्रिया

गुरुवार को अलग-अलग हिंसक घटनाओं में दो व्यक्तियों की मौत हो गई तथा दर्जनों घायल हो गए। इस्राएली सैनिकों ने वेस्ट बैंक में, इस्राएली सैनिकों पर हमला करनेवाले दो फिलिस्तीनियों की गोली मारकर हत्या कर दी। एक अन्य फिलिस्तीनी व्यक्ति ने येरूसालेम में इस्राएली सैनिकों की कार को टक्कर मार दी, जिसमें कम से कम 13 व्यक्ति घायल हो गए। इसके अतिरिक्त, इस्राएल और फिलिस्तीन विगत दिनों अपनी सीमाओं पर मोर्टार फायर और हवाई हमलों का आदान-प्रदान करते रहे हैं।

07 February 2020, 11:47