खोज

Vatican News
सीरिया के बच्चे सीरिया के बच्चे 

सीरिया के 3 लाख विस्थापित बच्चों में 1.2 लाख को सहायता की जरुरत

यूनिसेफ के अनुसार उत्तर पश्चिम सीरिया से पिछले सप्ताह हर दिन 6,500 से अधिक बच्चे भागने को मजबूर हुए हैं। दिसंबर से 300,000 से अधिक बच्चे विस्थापित हुए हैं। जिनमें 1.2 लाख बच्चों के लिए की सहायता की सख्त जरूरत है। संघर्ष के कारण पिछले साल अकेले सीरिया में मारे गए 900 बच्चों में से 75% देश के उत्तर-पश्चिम में थे।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 3 जनवरी 2020 (रेई) : यूनिसेफ के महानिदेशक हेनरीटा ने अपने बयान में कहा कि उत्तर पश्चिम सीरिया का संघर्ष बच्चों के संरक्षण के अभूतपूर्व संकट में बदल रहा है। पिछले सप्ताह की हिंसा ने 6,500 बच्चों को हर दिन भागने के लिए मजबूर किया है, जिससे दिसंबर की शुरुआत से अबतक बच्चों की कुल संख्या 300,000 से अधिक हो गई है।

यूनिसेफ का अनुमान है कि 1.2 मिलियन बच्चों को सहायता की सख्त जरूरत है। भोजन, पानी और दवा की आपूर्ति कम है। बच्चे और परिवार सार्वजनिक संरचनाओं, स्कूलों, मस्जिदों, अधूरी इमारतों और दुकानों की शरण ले रहे हैं। भारी बारिश और ठंड के बीच भी बहुत से लोग खुली हवा में रहते हैं, सबसे बुनियादी सेवाओं जैसे स्वास्थ्य, पानी या स्वच्छता तक पहुंच बहुत सीमित या नहीं है।

इदलिब में, जहां तीन चौथाई से अधिक जरूरतमंद आबादी महिलाओं और बच्चों की है। कई परिवारों ने कई विस्थापन झेले हैं और अब जीवन से हताश हो रहे हैं, हिंसा से भागने की कोई संभावना नहीं है। संघर्ष के कारण पिछले साल सीरिया में 900 बच्चे मारे गए उनमें से 75% उत्तर-पश्चिम क्षेत्र से थे। इदलिब ने सबसे अधिक प्रभावित बच्चों की संख्या दर्ज की।

यूनिसेफ ने हाल ही में विस्थापित हुए लोगों सहित कठिनाई में पड़े परिवारों को सहायता प्रदान करना जारी रखा है। सहायता में शामिल हैं: स्वच्छता किट, पीने का पानी, बीमारियों के खिलाफ बच्चों के लिए टीकाकरण, कुपोषण की जांच और उपचार इत्यादि।

जीवनरक्षक सहायता का प्रावधान आवश्यक है और इसे जारी रखना चाहिए। हालांकि, यह बच्चों की पीड़ा को समाप्त नहीं करेगा। बच्चों की खातिर हिंसा बंद होनी चाहिए।

यूनिसेफ ने आह्वान किया कि बच्चों और परिवारों को हिंसा से मुक्ति दिलाने के लिए सभी पक्षों द्वारा संघर्ष को बंद किया जाए, जिससे कि जरुरतमंद लोगों और बच्चों तक मानवीय सहायता पहुंच सके।  

03 February 2020, 15:54