खोज

Vatican News
दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प  (AFP or licensors)

अमेरिकी राष्ट्रपति ने जलवायु कार्यकर्ताओं को कयामत के पैगंबर कहा

संयुक्त राज्य के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने जलवायु परिवर्तन के कार्यकर्ताओं की "कयामत के पैगंबर" के रूप में निंदा की है और चेतावनी दी है कि अमेरिका पहले उनकी अर्थव्यवस्था की रक्षा करेगा। उन्होंने स्विट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में बात की। सम्मेलन का विषय है, ‘स्थिरता और पूंजीवाद का भविष्य’। उनकी टिप्पणियों पर किशोर जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग ने फटकार लगाई और तत्काल पर्यावरणीय कार्रवाई के बिना जलवायु सर्वनाश की चेतावनी दी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

दावोस, बुधवार 22 जनवरी 2020 (वाटिकन न्यूज) : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के मरीन वन हेलीकॉप्टर को दावोस में जहाँ उतारा गया वहाँ बर्फ में "एक्ट ऑन क्लाइमेट" लिखा गया था। लेकिन उन्होंने जल्द ही स्विस आल्प्स में स्की करने के लिए एकत्रित लोगों को स्पष्ट कर दिया कि वे जलवायु परिवर्तन की भविष्यवाणियों के बारे में चिंतित नहीं हैं।

जीवाश्म ईंधन उद्योग का समर्थन करने और पेरिस जलवायु समझौते से हटने के लिए ट्रम्प की आलोचना की गई है। हालांकि, राष्ट्रपति ने अपनी नीतियों का बचाव किया और कहा कि अमेरिका अपनी अर्थव्यवस्था की रक्षा करेगा। उन्होंने अमेरिका की बढ़ती अर्थव्यवस्था की प्रशंसा की। उन्होंने यह कहते हुए दावा किया: ऐसी अर्थव्यवस्था "दुनिया ने पहले कभी नहीं देखा है।"

पर्यावरण कार्यकर्ताओं के बारे में बोलते हुए ट्रंप ने कहा, "ख़तरा बताने वाले लोग हर समय यही मांग करते हैं - हमारे जीवन को प्रभावित करने वाली, बदलने वाली और नियंत्रण करने वाली ताक़त।" ये समय उम्मीद का है, नाउम्मीदी का नहीं। डर और संदेह एक अच्छी विचार प्रक्रिया नहीं है। कल की संभावनाओं को गले लगाने के लिए, हमें कयामत के पैगम्बरों और उनके द्वारा की गई पर्यावरण सर्वनाश की भविष्यवाणियों को अस्वीकार करना चाहिए।

राष्ट्रपति ने इन लोगों के बारे में ये भी कहा, "कल के मूर्खों के वारिस भविष्य बताने वाले बन रहे हैं।"

उन्होंने सीधे तौर पर किशोर जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग का नाम नहीं लिया, जो दर्शकों में थी।

आभासी मौन

उन्होंने 1960 के दशक में अधिक जनसंख्या संकट, 1970 के दशक में बड़े पैमाने पर भूखमरी और 1990 के दशक में तेल की समाप्ति की भविष्यवाणियों का उल्लेख किया।

ट्रम्प के भाषण को श्रोताओं ने मौन होकर सुना। लेकिन जब ट्रम्प ने कहा कि दुनिया भर में 1 ट्रिलियन पेड़ लगाने के लिए विश्व आर्थिक मंच की पहल में अमेरिका भी शामिल होगा। इस पर प्रतिभागियों ने ट्रंप के लिए ताली बजाई।

पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग

इसके कुछ ही देर बाद स्वीडेन की पर्यावरण कार्यकर्ता 17 साल की ग्रेटा थनबर्ग को बोलने का अवसर दिया गया।

उन्होंने ट्रंप का नाम लिए बिना दुनिया के तमाम नेताओं को चेतावनी दी। अपनी चेतावनी में उन्होंने कहा, "मुझे अचरज है कि आप अपने बच्चों को नाकाम होने के बारे में क्या कहेंगे, आपने जानबूझ कर उन्हें पर्यावरण के लिहाज से विषम परिस्थतियों में पहुंचा दिया है। यह इतना बुरा है कि आप अर्थव्यवस्था के नाम पर उन्हें बेहतर भविष्य देने की कोशिश भी नहीं कर रहे हैं?"

ग्रेटा थनबर्ग ने ये भी कहा कि कम से कम अपने बच्चों के लिए कुछ कीजिए। आप ने कहा कि नाउम्मीद मत होइए और उसके बाद शांत हो गए।

थनबर्ग ने दुनिया भर के नेताओं को चेतावनी देते हुए कहा, "अगर आप लोगों ने अब ध्यान नहीं दिया तो समझ लीजिए कि आप अभी आग से खेल रहे हैं।"

22 January 2020, 16:14