खोज

Vatican News
तुर्की के अस्थायी शिविरों में सिरिया के शरणार्थी- तस्वीर -12.12. 2019 तुर्की के अस्थायी शिविरों में सिरिया के शरणार्थी- तस्वीर -12.12. 2019  (AFP or licensors)

चेफॉड द्वारा कठोर शीत ऋतु का सामना कर रहे सिरियाई लोगों की मदद

सिरिया में कार्यरत राहत संस्थाओं ने चेतावनी दी है कि बच्चे, महिलाएँ एवं पुरुष सभी क्षुधा का सामना कर रहे हैं, ईंधन की कीमतें आसमान छू रही हैं, जबकि अस्पतालों पर स्वास्थ्य सेवाओं और भोजन की आपूर्ति का खतरा मंडरा रहा है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

यू.के. शुक्रवार, 27 दिसम्बर 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): ब्रिटेन स्थित काथलिक राहत एजेन्सी चेफॉड कठोर शीत ऋतु का सामना कर रहे सिरियाई लोगों की मदद कर रही है। लगभग नौ वर्षों से सीरिया युद्ध की चपेट में है जिसके कारण सिरियाई लोगों को घोर पीड़ा का सामना करना पड़ रहा है और लाखों लोगों ने अपने घरों से पलायन कर लिया है।

राहत संस्थाओं की चेतावनी

सिरिया में कार्यरत राहत संस्थाओं ने चेतावनी दी है कि बच्चे, महिलाएँ एवं पुरुष सभी क्षुधा का सामना कर रहे हैं, ईंधन की कीमतें आसमान छू रही हैं, जबकि अस्पतालों पर स्वास्थ्य सेवाओं और भोजन की आपूर्ति का खतरा मंडरा रहा है। संयुक्त राष्ट्र संघ के अनुसार,  सीरिया में विगत नौ वर्षों से जारी संघर्ष ने 500,000 लोगों की जानें ली हैं तथा लाखों लोग बेघर हो गये हैं।

शीत ऋतु की तैयारी

वाटिकन न्यूज़ से बातचीत में सिरिया में सेवारत चेफॉड टीम की सारा बुर्रोज़ ने कहा कि इस समय ब्रिटानी काथलिक एजेन्सी लोगों को कठोर शीत ऋतु का सामना करने के लिये तैयार कर रही है। उन्होंने कहा कि अनेक लोग अस्थायी शिविरों एवं तम्बुओं में जीवन यापन कर रहे हैं जिनके लिये कम्बलों आदि की आपूर्ति इस क्षण नितान्त आवश्यक है।

सिरिया के लिये अपील

सारा बुर्रोज़ ने कहा, आगमन और क्रिसमस की अवधि "चिन्तन का एक महान अवसर है और ... हमारे लिए एक बढ़िया मौका है कि हम बाहर आकर अपने आस-पास एवं सम्पूर्ण विश्व में उन लोगों की ओर देखें जिन्हें हमारी मदद की ज़रूरत है।"

सन्त पापा फ्राँसिस कई बार सिरियाई लोगों के लिये अपील कर चुके हैं तथा अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से सिरियाई संघर्ष को समाप्त करने हेतु समाधान की मांग करते रहे हैं। अपने क्रिसमस सन्देश में भी उन्होंने आग्रह किया था कि अन्तरराष्ट्रीय समुदाय निष्कपट वार्ताओं के प्रति कृतसंकल्प होकर सिरियाई संघर्ष का प्रभावशाली समाधान ढूँढे।   

27 December 2019, 11:44