खोज

Vatican News
भारत के पत्रकार भारत के पत्रकार  (AFP or licensors)

2019 के दौरान दुनिया भर में कैद 250 पत्रकार

पत्रकारों की सुरक्षा समिति ने जेलों में बंद पत्रकारों पर अपनी 2019 की रिपोर्ट प्रकाशित की। चीन और तुर्की उन देशों की सूची में शामिल हैं जो पत्रकारों को उनकी सरकारों की आलोचना करने या भ्रष्टाचार और मानवाधिकारों के उल्लंघन की निंदा करने के लिए जेल में बंद हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

न्यूयॉर्क, सोमवार 16, दिसम्बर 2019 (वाटिकन न्यूज) : पत्रकारों की सुरक्षा समिति की वार्षिक वैश्विक सर्वेक्षण के अनुसार, 250 पत्रकार पिछले एक साल में जेल गए। उनमें से अधिकांश पत्रकार लेख प्रकाशित करने के लिए जो सरकार, या राजनीतिक दलों के लिए महत्वपूर्ण थे, या क्योंकि उन्होंने भ्रष्टाचार के मामलों का खुलासा किया, या मानवाधिकारों के उल्लंघन की निंदा की थी।

स्वतंत्रता को दबाने की धमकी

सर्वेक्षण के अनुसार चीन में 48 और तुर्की 47 पत्रकार जेल में बंद हैं। इसके बाद क्रमशः सऊदी अरब, मिस्र इरित्रिया, वियतनाम, ईरान, रूस और कैमरून आते हैं। वर्तमान में बीस महिलाएं हिरासत में ली गई हैं। जेल में आधे से अधिक पत्रकार ऑनलाइन प्रकाशित होने वाले पत्रकार थे। तीस पत्रकारों पर "फर्जी समाचार" प्रसारित करने का आरोप है।

प्रेस की स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने के लिए कड़े कानूनों, या मीडिया प्रसार को बंद करने के लिए सरकार ने दर्जनों पत्रकारों को काम से निकाल दिया और दूसरों को निर्वासन में डाल दिया। दुनिया भर में जेल गए पत्रकारों में से 98% स्थानीय पेशेवर हैं जो अपने देश में समाचार पत्रों के लिए काम करते हैं।

24 पत्रकारों की हत्या

वर्ष1992 से पत्रकारों की सुरक्षा समिति ने अपने पेशे से संबंधित कारणों के लिए मारे गए पत्रकारों की संख्या की निगरानी करना शुरू कर दिया था इन वर्षों के दौरान 1362 पत्रकारों की मृत्यु दर्ज किया गया है। सक्रिय रिपोर्टिंग ड्यूटी पर रहते हुए इस साल 24 मीडिया पेशेवर मारे गए।

पत्रकारों की सुरक्षा समिति  की निगरानी गतिविधियों और कानूनी संरक्षण द्वारा दुनिया भर के विभिन्न देशों में कैद किए गए कम से कम 80 पत्रकारों की जल्द रिहाई में योगदान मिला है।

16 December 2019, 17:12